स्कूल अथवा कॉलेज प्रिंसिपल कैसे बनें?I College Principal Kaise Bane.

हेलो दोस्तों जैसा कि हम जानते हैं कि आज के समय में पढ़ने वाला हर एक विद्यार्थी कॉलेज या स्कूल के प्रिंसिपल बनने का सपने देखता है, इसलिए आज के आर्टिकल में मैं आपको बताने वाला हूं College Principal Kaise Bane. दोस्तों कॉलेज के प्रिंसिपल को अत्यधिक कार्यों की जिम्मेदारी होती है और कॉलेज के सभी कार्य सुचारू रूप से हो इसकी निगरानी और जिम्मेदारी कॉलेज के प्रिंसिपल की होती हैI

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इसके अलावा प्रबंधन के सारे कार्य करने के लिए प्रिंसिपल की नियुक्ति की जाती है कॉलेज के सभी प्रशासन संबंधित कार्यों के प्रबंधन के लिए प्रधानाचार्य की नियुक्ति की जाती हैI अगर आप प्रिंसिपल बनने के सपने देख रहे हैं तो आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी प्राप्त करनी होगीI अगर आप प्रिंसिपल बनने के सपने देख रहे हैं, तो हमारे आर्टिकल को ध्यानपूर्वक पढ़ेंI

बिना पैसे के अमीर कैसे बनें
इंद्रधनुष कैसे और क्यों बनता है? इंद्रधनुष के रंग और दिशा
नगर निगम को शिकायत पत्र कैसे लिखें
Zomato डिलीवरी बॉय जॉब अप्लाई ऑनलाइन कैसे करें

कॉलेज/स्कूल में प्रिंसिपल के लिए योग्यता

  • B.A, B.E.D, B.S.C, के उम्मीदवार ही पात्र होंगे।
  • आपको कम से कम 5 वर्ष से 10 वर्ष का शिक्षक अनुभव होना चाहिए।
  • उम्मीदवार को भारत का नागरिक होना चाहिए।
  • आप एम.एड करने के बाद भी प्रिंसिपल बन सकते हैं|
  • NCTE डिग्री complete होना अति आवश्यक है।
  • B.E.D कोर्स कंप्लीट होने के बाद CTET/ State TET परीक्षा में उत्तीर्ण होना अति आवश्यक है।
  • आपकी उम्र 50 वर्ष से कम होनी चाहिए।

College Principal Banne Ke Liye ऊपर दिए गए योग्यता जरूरी है| शिक्षा पर हमेशा लोगों से विचार विमर्श करना और लोगों के अंदर शिक्षा के प्रति जागरूक विकास करना होता हैI School Principal बनने का सपना अगर आप देख रहे हैं तो यह सारी योग्यता आपके पास होनी चाहिए और हमें यह जानकारी होनी चाहिएI कि हमें प्रिंसिपल बनने के लिए किस चीज की तैयारी और किसी की डिग्री एवं एग्जाम क्वालीफाई करना होता है, ताकि हम प्रिंसिपल बनने में सक्षम होI

प्रिंसिपल बनने का सबसे आसान तरीका

आपको प्रिंसिपल बनने के लिए किसी स्कूल या कॉलेज में 5 या 10 वर्ष का अनुभव होना अति आवश्यक होता है तभी आप प्रिंसिपल के योग्य होंगे, इसके लिए आपको बी ए, बीएड, बीएससी, एमएससी, जैसी लेने के बाद आपको एक लेक्चरर के रूप में कॉलेज या स्कूल में बनाया जाता है।

जब आप 5 या 10 वर्ष तक लेक्चरर के रूप में कम कर चुके होंगेI इससे आपको अच्छा अनुभव प्राप्त हो जाता है और प्रिंसिपल बनने में आसान हो जाता हैI प्रिंसिपल बनने के लिए कभी-कभी हमारा प्रमोशन हो जाता है या कहीं-कहीं स्कूल या कॉलेज में इंटरव्यू के द्वारा प्रिंसिपल के रूप में नियुक्त किया जाता हैI

यह सब आसान तरीका है प्रिंसिपल बनने का, आपको यह भी जानना आवश्यक है कि college lecturer की सैलरी प्रति माह 65,000/ 70,000 के करीब दी जाती हैI अगर आप कहीं रूम किराए पर लेकर रह रहे हैं, तो सब जोड़ने घटाने के बाद प्रति माह 50 से 55000 बचा सकते हैंI

इसके लिए आपको किसी विद्यालय या कॉलेज में पता करना होगा कि प्रिंसिपल की कोई पद खाली हैI इसके लिए आपके पास सारे दस्तावेज मौजूद होने चाहिए और प्रिंसिपल नियुक्ति के पहले आपको Interview लेने के लिए बुलाया जाएगाI अगर आप इंटरव्यू में पास हो जाते हैं तो आपके सारे दस्तावेज की जांच की जाएगी और प्रिंसिपल की नियुक्ति की जाएगी।

प्रिंसिपल बनने के अनेक विकल्प

कॉलेज प्रिंसिपल बनना है तो इसके लिए आपके पास कई अलग-अलग विकल्प हैंI अथवा उस विकल्प को फॉलो करें और नियमानुसार कार्य करें, जिसके आधार पर आप प्रिंसिपल बन सकते हैंI इसके लिए हम आपको जो विकल्प बता रहे हैं, उसको ध्यान से देखने और समझने का प्रयास करें।

हमारे द्वारा बताए गए इन चार विकल्प से आप College Principal बन सकते हैं। हालांकि केंद्रीय और राज्य सरकार द्वारा संचालित महाविद्यालय के प्रिंसिपल बनने के लिए आपको काफी परिश्रम करना होगाI तभी आपको इसमें सफलता हासिल होगी और इसमें समय काफी लग सकता हैI इसलिए आपको कड़ी से कड़ी मेहनत करनी होगी ताकि जल्द से जल्द आप एक मुकाम हासिल कर सकेI

आपको यह बता दे कि किसी निजी प्राइवेट विद्यालय या महाविद्यालय में प्रिंसिपल बना थोड़ा आसान हो सकता हैI जिसमें आपके प्रति माह का वेतन कम दिया जाएगा, इसलिए हमारा प्रयास सरकारी कॉलेज के प्रिंसिपल का होना चाहिए।

कॉलेज प्रिंसिपल बनने के लिए भर्ती परीक्षाएं और तैयारी

प्रिंसिपल बनने के लिए हमारे राज्य तथा केंद्र सरकार द्वारा निकाली जाने वाली प्रधानाचार्य की भर्ती देखते रहनी चाहिएI ताकि हम अपने सपनों को जल्द से जल्द पूरा कर सके इन परीक्षाओं को पास होने के लिए नियमित तैयारी अति आवश्यक होती हैI सिलेबस की स्टडी करना, मार्क टेस्ट देना, आपको पिछले वर्ष के प्रश्न पत्र अथवा मॉडल पेपर को ध्यानपूर्वक देखना और लिखना होगाI

जिससे हमें प्रिंसिपल बनने में काफी मददगार साबित होगा और दोस्तों हमको यह विश्वास हो गया है कि हमारे द्वारा बताए गए जानकारी के मुताबिक आप कड़ी से कड़ी मेहनत करेंगे और सभी परीक्षाओं को पास करने की कोशिश करेंगेI ताकि आपके सपने जल्दी सरकार हो और प्रिंसिपल के रूप में चयनित हो सकेI ताकि भविष्य में आने वाली सभी पीढ़ियों मैं साक्षरता की विकास हो और शिक्षा की बढ़ोतरी होI

हमें यह काम करने के लिए गांव या शहरी लोगों जहां भी आप प्रिंसिपल के रूप में चयनित हैंI वहां के सभी निजी लोगों या आसपास के लोगों के अंदर यह जागरूक करना करना होगा कि शिक्षा ही हमारा विकास और एक अच्छा साधन हैI आपको शिक्षा के प्रति सबके अंदर जागरूकता फैलानी होगी और शिक्षा का विकास करना होगाI

कॉलेज में अच्छी कार्रवाई करनी पड़ेगी अनुशासित विद्यालय बनाना होगा, कॉलेज के सभी कर्मचारी टीचरों और बच्चों यानी की छात्राओं के ऊपर हमें कड़ी नजर रखनी होगीI यही सब होता है कॉलेज के प्रिंसिपल की जिम्मेदारी जिसको हम सुचारू रूप से ध्यान पूर्वक संपन्न करेंगे और हमारे द्वारा दिए गए सुझाव को आप अच्छे से समझ गए होंगेI

इंटर कॉलेज के प्रिंसिपल की सैलरी

दोस्तों कॉलेज प्रिंसिपल की सैलरी लगभग ₹80000 से लेकर 150000 रुपए तक होती हैI अगर आप केंद्र सरकार द्वारा किसी स्कूल अथवा कॉलेज में प्रिंसिपल नियुक्त किए गए हैं, तो आपको अच्छी सैलरी के साथ-साथ महंगाई भत्ता, परिवहन भत्ता, महंगाई भत्ता आदि भत्ते भी दी जाती हैI इसके अलावा अनुभव बढ़ाने के साथ-साथ प्रिंसिपल की सैलरी में भी वृद्धि होती हैI सरकारी प्रिंसिपल के रिटायर होने के बाद सरकार द्वारा उन्हें पेंशन भी दिया जाता हैI

प्रिंसिपल के कार्य

प्रधानाचार्य के प्रमुख कर्तव्य निम्न है। प्रत्येक शिक्षण संस्था का एक अध्यक्ष होता है जिसका कुलपति या प्रधानाचार्य के रूप से संबोधित करते हैंI प्रधानाचार्य महाविद्यालय के सबसे उच्च होते हैं अर्थात सभी कर्मचारियों के मुखिया होते हैंI जो लोगों को कार्य करने की प्रेरणा देते हैं और सभी कार्य सुचारू रूप से करने की सलाह देते हैं| सभी कर्मचारी प्रिंसिपल के अधीन होते हैंI एक प्रिंसिपल के महत्वपूर्ण कार्य इस प्रकार है-

प्रधानाचार्य के प्रशासकीय कार्य

  • प्रधानाचार्य के प्रशासकीय कार्य का निम्न विभाजन
  • पाठ कम से संबंधित कार्यों को सुचारू रूप से संचालन करना|
  • छात्रावास का प्रबंध करना।
  • विद्यालय के कार्य एवं शिक्षा दीक्षा की देखरेख करना।
  • कक्षाओं, भवनों और फर्नीचर की व्यवस्था करना।

कॉलेज अध्याय कार्य हेतु

प्रधानाचार्य सबसे पहले एक अध्यापक हैं, उनका मुख्य कार्य अध्यापन करनाI अधिकांश अध्यापक प्रधानाध्यापक चयनित होने के बाद अपना अध्यापन करना बंद कर देते हैंI जो यह उचित नहीं है, उन्हें हमेशा अपना अध्यापन करना चाहिए।

नियोजन कार्य

प्रधानाध्यापक का एक कार्य और महत्वपूर्ण होता है नियोजन बनानाI उनको यह चाहिए कि सत्र शुरू होने से पहले एक समय सारणी तैयार करें, ताकि परीक्षाओं की तिथियां सेट करने में आसानी हो।

कॉलेज अनुशासनात्मक कार्य

कॉलेज को सुचारू रूप से चलने के लिए प्रिंसिपल को विद्यार्थियों और कर्मचारियों पर अनुशासन बनाए रखना चाहिए, ताकि विद्यार्थी के पाठ्यक्रम सुचारू रूप से संपन्न हो सके।

कॉलेज प्रिंसिपल बनने का फायदा

  • नई-नई चुनौतियों का सामना करना
  • 1 लीडर बनने का अच्छा विकसित करना
  • ऊंची कमाई वाली नौकरी
  • समाज और कॉलेज में सम्मानित व्यक्ति होना
  • अपने बच्चों को शिक्षा के क्षेत्र में उचित मार्गदर्शन देना

College Principal Kaise Bane. (FAQ)

1. प्रिंसिपल बनने के लिए कौन सी पढ़ाई करें?

अगर आप स्कूल अथवा College Principal बनना चाहते हैं तो आपको कोई बैचलर डिग्री लेना होगाI जैसे : बीए, बीएससी, बीकॉम आदि इसके बाद b.ed करना होगI इसके बाद CTET/TET पास करना होगाI तब आपको एक टीचर की नौकरी मिलती है, इसके बाद 5 से 10 साल का टीचर की नौकरी का अनुभव होने के बाद आपको प्रिंसिपल का पोस्ट दिया जाता हैI

2. प्रिंसिपल के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए?

स्कूल अथवा कॉलेज का प्रिंसिपल बनने के लिए आपकी उम्र 50 साल से कम होनी चाहिएI इसके अलावा किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से B.ed. Course किया होना चाहिएI तथा CTET अथवा TET क्वालीफाई करना होना चाहिएI

3. सरकारी प्रिंसिपल की सैलरी कितनी होती है?

College Principal Ke Salary लगभग 80000 रुपए से लेकर 150000 रुपए प्रति माह होती हैI

4. स्कूल में प्रिंसिपल का क्या काम होता है?

School Principal का बहुत ही महत्वपूर्ण काम होता हैI जैसे : स्कूल के सभी टीचरों को अध्ययन हेतु नियमावली तैयार करना, स्कूल अथवा छात्रों के लिए अनुशासित नियम बनाना तथा उसका पालन करवाना, स्कूल में छात्र-छात्राओं के लिए खेलकूद का मैदान तैयार करवाना और खेल प्रतियोगिता में हिस्सा लेना आदि| ऐसे ही कई महत्वपूर्ण कार्य एक प्रिंसिपल के होते हैंI

5. स्कूल प्रिंसिपल को हिंदी में क्या बोलते हैं?

स्कूल प्रिंसिपल को हिंदी में “प्रधानाचार्य” कहते हैंI

6. महिला प्रिंसिपल को हिंदी में क्या कहते हैं?

महिला प्रिंसिपल को हिंदी में “प्रधानाचार्या” कहते हैंI

निष्कर्ष

दोस्तों इस आर्टिकल में हमने बताया है कि College Principal Kaise Bane. अगर आपकी इच्छा है कॉलेज प्रिंसिपल बनने का, तो इस आर्टिकल को पढ़कर आप परीक्षा की तैयारी आदि के बारे में जा सकते हैंI

प्रधानाध्यापक कॉलेज का मुखिया होता है, उसके द्वारा लगाया गया अनुशासन को फॉलो करके कॉलेज के सभी कर्मचारी अपना कार्य सूचना रूप से संपन्न करते हैंI हर कॉलेज में प्रिंसिपल की जरूरत होती है, प्रिंसिपल के बिना कॉलेज के कार्य सही ढंग से पूरा नहीं होते हैं| प्रिंसिपल के लिए कॉलेज के सभी कर्मचारियों पर निगरानी करना अति महत्वपूर्ण होता है ताकि वह अपना कार्य जिम्मेदारी पूर्वक संभाले और विद्यार्थियों के पाठ्यक्रम और सभी कक्षाएं सुचारू रूप से चल सकेंI

प्रिंसिपल की इतनी जिम्मेदारी होती है कि वह कॉलेज के हर एक देखरेख में संपूर्ण निगरानी रखें और हमें उनका धन्यवाद करना चाहिए| क्योंकि उनकी जिम्मेदारी आसान नहीं होती है इसके लिए काफी मेहनत करनी पड़ती है और अपना अनुशासन बनाए रखना होता हैI ताकि कॉलेज का कोई भी कर्मचारी नियमों का उल्लंघन न करें और अनुशासित बना रहे। इस आर्टिकल से संबंधित अगर आपका कोई सवाल है, तो कमेंट करके पूछ सकते हैंI

Amazon डिलीवरी बॉय जॉब अप्लाई ऑनलाइन
फ्लिपकार्ट डिलीवरी ब्वॉय जॉब अप्लाई ऑनलाइन कैसे करें
खरीफ और रबी की फसल में अंतर
MMID क्या होता हैं | MMID क्यों जरूरी होता हैं
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment