आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर कैसे बनें? : आर्ट साइड से मेडिकल कोर्स

जिन विद्यार्थी का सपना बचपन से डॉक्टर बनने का होता है, वे शुरू से उस दिशा में पढ़ाई करते हैं। लेकिन बहुत से ऐसे विद्यार्थी हैं, जिन्होंने आर्ट सब्जेक्ट से पढ़ाई की है लेकिन अब वे डॉक्टर बनना चाहते हैं। इसलिए आज के आर्टिकल में मैं आपको बताने वाला हूं, Arts Subject Se Doctor Kaise Bane. अगर आपने बीए किया है, तो भी आप डॉक्टर बन सकते हैं।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

आर्ट सब्जेक्ट से जो भी स्टूडेंट डॉक्टर बनना चाहते हैं, उन्हें 12वीं की पढ़ाई Biology Subject से करना अनिवार्य होता है। इसके अलावा वे हाई स्कूल की पढ़ाई भले ही आर्ट सब्जेक्ट से किए हो। Arts Subject के बाद किन-किन मेडिकल कोर्स को किया जा सकता है। तथा कोर्स पूरा होने के बाद क्या नौकरी मिल सकती है। आदि जानकारी इस आर्टिकल में बताया गया है।

आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर कैसे बनें?

अगर आप जानना चाहते हैं कि आर्ट सब्जेक्ट से होने के बावजूद भी डॉक्टर कैसे बने तो हम आज अपने लेख के माध्यम से पूरी जानकारी प्रदान करेंगे। आर्ट सब्जेक्ट से पढ़ने वाले विद्यार्थी की बात करें तो अगर वह दसवीं कक्षा पास करने के बाद भी 12वीं कक्षा में आर्ट साइड से है और 12वीं कक्षा कंप्लीट करने के बाद बी ए किया है तो डॉक्टर बनने का कोई चांस नहीं होगा।

अगर स्टूडेंट दसवीं कक्षा पास करने के बाद 12वीं कक्षा में साइंस साइड से है और उसके बाद बीए किया है। तो वह डॉक्टर बनने के लिए एंट्रेंस एग्जाम आसानी से दे सकता है लेकिन हां एक बात और आपको बता दें उसमें बीए की मार्कशीट का कोई काम नहीं होगा। एंट्रेंस एग्जाम देने के लिए 12वीं कक्षा की मार्कशीट का ही मान्य होता है।

डॉक्टर बनने के लिए bio technology का महत्व क्या है?

अगर आप बीए ग्रेजुएशन कंप्लीट करने के बाद मेडिकल कोर्स करना चाहते हैं, तो आप बिल्कुल कर सकते हैं। अगर आप इंटर Science Side से पास किए हैं तो। इसलिए मेडिकल कोर्स करवाने के लिए आपकी 12वीं कक्षा की मार्कशीट की योग्यता के आधार पर यह कोर्स कराया जाएगा। और आपको यह जान लेना चाहिए कि वहां बीए की डिग्री का कोई मतलब नहीं होता है।

अगर आप 10वीं कक्षा में आर्ट साइड से पढ़े हैं और दसवीं कक्षा पास करने के बाद इंटरव्यू आर्ट साइड से किए हैं, तो आपका डॉक्टर बनने का कोई चांस नहीं है। इसके लिए आपको फिर से 12वीं की कक्षा साइंस साइड अर्थात बायोलॉजी से करना होगा। तभी आप एंट्रेंस एग्जाम जैसे, NEET, NEET PG आदि किसी भी परीक्षा को पास करके आप किसी मेडिकल कॉलेज या यूनिवर्सिटी में MBBS की पढ़ाई के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

तो आइए हम अपने लेख के माध्यम से यह जानकारी प्रदान करते हैं कि जो विद्यार्थी 12वीं साइंस साइड से पास किया है और बीए कर लिया है। अगर वह डॉक्टर बनना चाहता है तो उसे कौन सी पढ़ाई करनी चाहिए।

आर्ट साइड से मेडिकल कोर्स

हमारे द्वारा दिए गए लेख के अनुसार उपर्युक्त जानकारी के मुताबिक आपको बता दें कि अगर आपने 12वीं कक्षा आर्ट साइड से की है। तो आप डॉक्टरी लाइन में नहीं जा सकते। लेकिन आप में से ऐसे कई स्टूडेंट होते हैं, जो 12वीं साइंस स्ट्रीम के PCB सब्जेक्ट से पास करते हैं। और बीए में पहुंचने के बाद डॉक्टर बनने के सपने देखने लगते है, डॉक्टर की पढ़ाई करना चाहते हैं। अगर आप भी BA करने के बाद डॉक्टर बनना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए निम्नलिखित कोर्स कर सकते हैं।

बीएससी नर्सिंग

आपको यह तो पता ही होगा की हर हॉस्पिटल में नर्स की अत्यधिक जरूरत होती है। खासकर डॉक्टर के साथ ऑपरेशन करते समय नर्स की सहायता के लिए रखा जाता है। मरीज का ऑपरेशन करते समय, मरीजों की देखभाल, दवाई और इंजेक्शन आदि का काम डॉक्टर नर्सों की ही सहायता लेते हैं। अब आपके मन में सवाल होगा Arts wale Nursing kar sakte hain kya. जी हां, आप 12वीं कक्षा पास करने के बाद बीएससी नर्सिंग कोर्स कर सकते हैं। कोर्स कंप्लीट करने के बाद आप किसी अस्पताल या लेब आदि में जॉब आसानी से पा सकते हैं।

हालांकि आपको यह बात मालूम होना चाहिए कि बीएससी नर्सिंग कोर्स करने के लिए आपकी आयु कम से कम 17 वर्ष की होनी चाहिए। इस कोर्स की खर्च की बात करें तो अगर आप सरकारी कॉलेज से यह कोर्स कंप्लीट कर रहे हैं तो इसकी फीस 10 हजार से 40 हजार तक हो सकती है। बीएससी नर्सिंग कोर्स करने के बाद इसमें आप अपना अच्छा करियर बना सकते हैं।

बीएससी नर्सिंग कोर्स कंप्लीट करने के बाद आप स्टाफ नर्स, हॉस्पिटल मैनेजर, मिलिट्री नर्स, होम केयर नर्स इंडस्ट्रियल नर्स आदि जैसे जाब आसानी से पा सकते हैं। इस जॉब में मिलने वाला वेतन 20 हजार से 40 हजार तक दिया जाता है।

एएनएम कोर्स

अगर आपने 12वीं कक्षा आर्ट सब्जेक्ट से पास किए है, तो आप एएनएम कोर्स आसानी से कर सकते हैं। और आप मेडिकल के क्षेत्र में अपना अच्छा करियर बना सकते हैं। लेकिन आपको बता दें कि इस कोर्स को करने के लिए आपकी बीए की डिग्री का कोई काम नहीं आएगा अर्थात 12वीं कक्षा की मार्कशीट की ही मान्यता होगी।

ANM का फुल फॉर्म (Auxiliary Nurse Midwifery) होता है। आपको यह बता दे की इस कोर्स को कंप्लीट करने के लिए अगर आप सरकारी कॉलेज चुनते हैं, तो इसकी फीस 10 हजार से 50000 तक होती है। तथा इस कोर्स को कंप्लीट करने के बाद आप नर्सिंग होम, प्राइवेट हॉस्पिटल क्लिनिक आदि पर आपको जॉब मिल जाएगी। और आप 20 हजार से 30 हजार आसानी से कमा सकते हैं।

जीएनएम कोर्स

जीएनएम कोर्स करने के लिए आपको इंटर के स्ट्रीम साइंस से पढ़ाई कंप्लीट करनी होगी। इसके बावजूद ही आप इस कोर्स को करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम दे पाएंगे। आपको यह जानकारी अवश्य होनी चाहिए कि आर्ट सब्जेक्ट के स्टूडेंट यह कोर्स नहीं कर सकते हैं।

इस कोर्स की सबसे खास बात यह होती है कि इसमें ऑपरेशन एक्सपर्ट की तरह कार्य सिखाया जाता है। जीएनएम का फुल फॉर्म ” जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी” होता है।

पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन योगा

अगर आप 12वीं कक्षा किसी भी साइड से की है अर्थात आप चाहे Science साइड है या Arts साइड से किए हैं। तो फिर भी या कोर्स आप आसानी से कर सकते हैं। और मेडिकल क्षेत्र में आगे बढ़कर अपना कैरियर बना सकते हैं। आपका ग्रेजुएशन में 50% होना चाहिए।

पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा की फीस 50000 से 90000 तक होती है। और आपको बता दें कि सरकारी कॉलेज में फीस कम भी हो सकती है। पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा की कोर्स 2 साल की होती है।

आपको बता दे कि योग से जुड़ी हर जानकारी इस कोर्स में प्रदान किया जाता हैं। इस कोर्स को कंप्लीट करने के बाद आप योग विशेषज्ञ, योग सलाहकार, योग टीचर, योग असिस्टेंट आदि में जॉब पा सकते हैं। इसमें आपको प्रति माह 20 हजार से 30 हजार तक वेतन दिया जाता है।

पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन पब्लिक हेल्थ

पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा इन पब्लिक हेल्थ कोर्स करने के लिए आपके पास बीए, बीएससी, बीएससी नर्सिंग, फार्मेसी जैसी ग्रेजुएशन बैचलर डिग्री की आवश्यकता होती है। तभी आप यह कोर्स कर सकते हैं। Post graduation diploma in public health की course 2 वर्ष की होती है। इसकी फीस 20 हजार से 1 लाख तक होती है।

पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा इन पब्लिक हेल्थ कोर्स कंप्लीट करने के बाद हेल्थ केयर मैनेजर, इमरजेंसी रिस्पांस ऑफिसर, रिसर्च डाटा मैनेजर जैसे बड़े पदों पर चयनित हो सकते हैं।

शुरुआत में इसकी सैलरी 10 हजार से 30 हजार तक दी जाती है। धीरे-धीरे आप की सैलरी में बढ़ोतरी भी होती है, जो तीन से चार लाख तक हो सकती है। इसलिए आप इस कोर्स को कंप्लीट करने के बाद किसी भी अस्पताल में आसानी से जब पा सकते हैं और अपना करियर बना सकते हैं।

डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी

अगर आपने 12वीं कक्षा साइंस से पढ़ा है, और आप 45% मार्क से उत्तीर्ण हुए हैं तो आप डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी कोर्स कर सकते हैं। ‌ इस कोर्स के अंतर्गत आपको माइक्रोबायोलॉजी, फिजियोलॉजी, इलेक्ट्रोथेरेपी, फार्मोकोलॉजी आदि विषयों का अध्ययन कराया जाता है।

डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी कोर्स 2 साल का होता है। इस कोर्स को पूरा करने में 50000 से लेकर ₹400000 तक का खर्च आता है। इस कोर्स को पूरा करने के बाद आप थेरेपी मैनेजर, रिसर्च अस्सिटेंट, फिजियोथैरेपिस्ट आदि की जॉब कर सकते हैं। और शुरुआती दिनों में महीने का 30000 से लेकर ₹40000 तक कमा सकते हैं। धीरे-धीरे जैसे-जैसे आपका अनुभव होता जाएगा, आपकी सैलरी बढ़ती जाती है।

पीजी डिप्लोमा इन योगा थेरेपी

पीजी डिप्लोमा इन योगा थेरेपी का कोर्स 1 साल का होता है। पीजी डिप्लोमा इन योगा थेरेपी कोर्स कंप्लीट करने के लिए आपको स्नातक यानी कि ग्रेजुएट 50% से पास होना आवश्यक है। अगर हम बात करें इस कोर्स के फीस की तो पीजी डिप्लोमा इन योगा थेरेपी की फीस 4000 से 60000 तक है। यह कोर्स हर कॉलेज और यूनिवर्सिटी में होती है आप कहीं से भी कर सकते हैं।

अगर आप 10वीं कक्षा के बाद 12वीं की कक्षा आर्ट साइड से किए हैं और उसके बाद बीए किए हैं तो आप डॉक्टरी लाइन में नहीं जा सकते हैं। अगर आपको 12वीं कक्षा पास करने के बाद डॉक्टर बनने का सपना देख रहे हैं तो आपको 12वीं क्लास बायोलॉजी स्ट्रीम से पूरा करना होगा। तभी आप NEET, NEET PG के पेपर पास करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना होगा।

12वीं कक्षा में बायोलॉजी साइड से विद्यार्थी पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा इन पब्लिक हेल्थ, पीजी डिप्लोमा इन योगा थेरेपी, JNM कोर्स,एएनएम आदि जैसे कोर्स कर सकते हैं।

क्या आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर बन सकते हैं?

अगर आपका हाई स्कूल का सब्जेक्ट आर्ट है, और 12वीं का सब्जेक्ट भी आर्ट है तो आप आर्ट से डॉक्टर नहीं बन सकते हैं। लेकिन अगर आपका हाई स्कूल का सब्जेक्ट आर्ट है तथा 12वीं का सब्जेक्ट साइंस है। इसके बाद आपने ग्रेजुएशन की पढ़ाई आर्ट सब्जेक्ट से की है, तो भी आप डॉक्टर बन सकते हैं। 

कुल मिलाकर अगर आपने 12वीं की पढ़ाई साइंस सब्जेक्ट से की है, तो आप 12वीं की बाद बीएससी नर्सिंग कोर्स, जीएनएम कोर्स, एएनएम कोर्स, डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी, पीजी डिप्लोमा इन योगा थेरेपी, पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा इन पब्लिक हेल्थ आदि का कोर्स कर सकते हैं। इन कोर्स को पूरा करने के बाद आप डॉक्टर आसानी से बन सकते हैं।

डॉक्टर बनने की तैयारी कैसे करें?

जिन स्टूडेंट का बचपन से सपना होता है कि वह बड़े होकर डॉक्टर बने। वे स्टूडेंट दसवीं की पढ़ाई साइंस सब्जेक्ट से तथा 12वीं की पढ़ाई साइंस सब्जेक्ट से पूरा करते है। इसके बाद डॉक्टर की तैयारी करने के लिए अच्छे स्थान से कोचिंग करते हैं। अगर आप भी डॉक्टर बनना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए निम्न प्रक्रिया को फॉलो करें-

  • डॉक्टर बनने के लिए सबसे पहले आपको 12वीं की परीक्षा बायोलॉजी सब्जेक्ट से यानि फिजिक्स, केमिस्ट्री, बायोलॉजी विषय से पास करनी होगी। 12वीं की परीक्षा अच्छे अंको से पास करनी होगी।
  • इसके बाद देश में कई अच्छे-अच्छे कोचिंग संस्थान है। जहां से आपको NEET, AFMC, NEET PG, AIIMS, PMET, JIPMER जैसी परीक्षाओं की तैयारी करनी होगी।
  • इसके बाद आपको मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम पास करना होगा। ततपश्चात आपको एक अच्छा मेडिकल कॉलेज मिल जाएगा, जहां से आपको MBBS की पढ़ाई करनी पड़ती है।
  • एमबीबीएस कोर्स पूरा करने में साढे 5 साल का समय लगता है। जिसमें से 1 साल का इंटर्नशिप का होता है।
  • इसके बाद अगर आप चाहे तो सरकारी डॉक्टर बनने के लिए परीक्षा दे सकते है। अन्यथा किसी प्राइवेट हॉस्पिटल में अच्छी सैलरी पर नौकरी कर सकते हैं।
  • इसके अलावा अगर आप चाहे तो नौकरी के बजाय अपना खुद का हॉस्पिटल खोल सकते हैं।

आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर संबंधित प्रश्नोंत्तर

1. आर्ट्स स्टूडेंट्स के लिए कौन सा कोर्स सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होगा?

आर्ट्स वाले विद्यार्थी JNM का कोर्स आसानी से कर सकते हैं। जेएनएम का कोर्स 3.5 वर्ष का होता है। जिसमें 3 साल का प्रशिक्षण और 6 महीने का इंटर्नशिप होता है।

2. कौन सा सब्जेक्ट लेने से डॉक्टर बनते है?

जो भी विद्यार्थी डॉक्टर बनना चाहते हैं। उन्हें सबसे पहले हाई स्कूल की परीक्षा और 12वीं की परीक्षा बायोलॉजी सब्जेक्ट से अच्छे नंबर से पास करना होगा। इसके बाद मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम NEET की तैयारी करके एंट्रेंस एग्जाम पास करना होगा। इसके बाद आपको एक अच्छा मेडिकल कॉलेज दिया जाएगा। जहां से एमबीबीएस की डिग्री पूरा करना होता है।

3. आर्ट साइड वाले डी फार्मा कर सकते है?

अगर आपका 12वीं में सब्जेक्ट आर्ट है, तो आप फार्मेसी में डिप्लोमा कोर्स नहीं कर सकते हैं। डी फार्मा करने के लिए 12वीं की परीक्षा भौतिक, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान सब्जेक्ट से न्यूनतम 50% अंक के साथ पास करना होगा।

4. आर्ट सब्जेक्ट के लिए कौन सा मेडिकल कोर्स बेस्ट है?

आर्ट सब्जेक्ट के लिए कौन सा मेडिकल कोर्स – जीएनएम कोर्स, एएनएम कोर्स, बीएससी नर्सिंग कोर्स, पीजी डिप्लोमा इन योगा थेरेपी, डिप्लोमा इन फिजियोथैरेपी, पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा इन योगा आदि कोर्स कर सकते हैं।

5. क्या आप आर्ट्स के साथ नर्सिंग कोर्स कर सकती हैं?

हां, आप कला क्षेत्र के विद्यार्थी होने के बावजूद भी जेएमएम कोर्स कर सकती हैं । जेएमएम सामान्य नर्सिंग एवं मेड वाइफरी भी है, यह 3 साल का कोर्स और 6 महीने का इंटर्नशिप दिया जाता है। इस कोर्स के लिए न्यूनतम पात्रता किसी भी स्ट्रीम से 12वीं पास होना अनिवार्य है।

निष्कर्ष

दोस्तों इस आर्टिकल में हमने बताया है कि Arts Subject Se Doctor Kaise Bane? बहुत से ऐसे स्टूडेंट हैं जिनका शुरू से कोई सपना नहीं होता, लेकिन बाद में उनका भी सपना डॉक्टर बनने का हो जाता है। जो स्टूडेंट आर्ट सब्जेक्ट से पढ़ाई किए हैं, वे इस आर्टिकल में बताए गए कोर्स को करके आर्ट सब्जेक्ट के बाद भी डॉक्टर बन सकते हैं।

आर्ट सब्जेक्ट से डॉक्टर बनने के लिए 12वीं की पढ़ाई साइंस सब्जेक्ट से होनी चाहिए। यानी 12वीं की पढ़ाई फिजिक्स केमिस्ट्री बायोलॉजी से होनी चाहिए। इसके बाद आप कोई भी मेडिकल कोर्स कर सकते हैं। इस आर्टिकल से संबंधित अगर आपका कोई सवाल है, तो कमेंट करके पूछ सकते हैं।

इसे भी पढ़ें 👇

स्कूल की छुट्टी के लिए आवेदन पत्र कैसे लिखें
बिजली मीटर बदलने के लिए एप्लीकेशन कैसे लिखें
पैतृक/पुश्तैनी जमीन का बंटवारा कैसे करें
MMID क्या होता हैं? क्यों जरूरी होता हैं
5 मिनट में चोरी हुआ मोबाइल कैसे पता करें
टीसी प्राप्त करने के लिए आवेदन पत्र लिखें
Aeps क्या होता हैं, कैसे काम करता है
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment