Psychology Doctor Kaise Bane : साइकोलॉजी डॉक्टर कैसे बनें?

साइकोलॉजिस्ट/Psychologist का अर्थ “मनोवैज्ञानिक” होता है। अगर इसे हम आसान भाषा में कहे तो कोई व्यक्ति दूसरे व्यक्ति के मन की बात जान जाए उसी को साइकोलॉजी अर्थात मानोवैज्ञानिक कहते हैं। इंग्लिश में इसे psychologist कहते हैं। Psychology Doctor Kaise Bane? आज के आर्टिकल में यही बताने वाला हूं। क्योंकि आज के समय में यह शब्द काफी प्रसिद्ध है। क्योंकि बड़े पैमाने पर psychologist की retirement रहती है। आमतौर पर विज्ञान तथा मेडिकल क्षेत्र में बड़े पैमाने पर साइकोलॉजिस्ट यानी कि मनोविज्ञान की जरूरत रहती है। वैसे प्रत्येक इंसान चाहता है कि वह दूसरों के मन की बात जान जाए, कि अगला व्यक्ति क्या सोच रहा है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

लेकिन इसके लिए कोई जादू या मंत्र नहीं पढ़ना होता है बल्कि साइकोलॉजिस्ट या मनोविज्ञान पढ़ने की जरूरत होती है। जिसे दूसरे के व्यक्ति के मन की बात जान सकते है। विशेष रूप से उस व्यक्ति के मन की बात जाना जाता है, जो मानसिक रूप से कमजोर होते है। उसका अच्छे से इलाज किया जाता है। इसलिए मेडिकल के क्षेत्र में साइकोलॉजिस्ट की काफी आवश्यकता होती है। इसके अलावा सरकार अपने विरोधी देश के सरकार के दिमाग में चल रहे क्रियाकलापों के बारे में जानना चाहती है। इस जगह पर मनोविज्ञान काफी कम आते हैं।

अगर आप मनोविज्ञान डाक्टर बनना चाहते हैं यानी कि साइकोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं। तो इसके लिए आपकी क्या योग्यता होनी चाहिए, कौन सी पढ़ाई करनी चाहिए इसके बारे में हम पूरी जानकारी आपको अपने आर्टिकल द्वारा बताने जा रहे हैं। इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको पता चल जाएगा कि साइकोलॉजिस्ट कैसे बनें। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि मनोविज्ञान क्या होता है तथा मनोवैज्ञानिक कैसे बनते हैं।

साइकोलॉजिस्ट/Psychologist क्या होता हैं?

Psychologist का अर्थ होता है मनोविज्ञान, किसी व्यक्ति के मन की बात को जानना और समझना ही मनोविज्ञान/साइकोलॉजिस्ट कहा जाता है। साधारण भाषा में इसका मतलब किसी किसी दूसरे व्यक्ति के मस्तिक में चल रही बात को जानना और समझना होता है। वह व्यक्ति अपना अगला कदम कहां रखना चाहता है, इन सब की बारे में जानकारी निकलना और बात को समझना ही साइकोलॉजिस्ट कहा जाता है। 

विशेष रूप से अगर कोई व्यक्ति खुश है, दुखी हैं, तो उसकी भावनाओं के आधार पर अध्ययन कर के पता लगाना कि उसके मस्तिष्क में क्या चल रहा है। इस प्रकार के अध्ययन करने वाले व्यक्ति को ही साइकोलॉजिस्ट या मनोविज्ञान कहा जाता है।

Psychologist एक प्रकार की विज्ञान से जुड़ी हुई शैक्षणिक प्रयोगात्मक ज्ञान है, जिससे मनुष्य एवं पशुओं के दिमाग के बारे में जानना होता है। साइकोलॉजी शब्द/word की उत्पत्ति लैटिन भाषा के दो शब्दों (PSYCHE+LOGOS) से मिलकर बनी हुई है। Psyche का अर्थ होता है, ” आत्मा का” तथा logos का अर्थ होता है, “अध्ययन करना” इस प्रकार से साइकोलॉजी का अर्थ मन/आत्मा का अध्ययन करना होता है।

आधुनिक मनोविज्ञान का जनक (बिल्हेम मैक्स मिलियन ) जर्मन चिकित्सक को माना जाता है। भारत में सबसे पहले 1916 कोलकाता में psychologist department की शुरुआत हुई थी। भारत के पहले साइकोलॉजिस्ट नरेंद्र नाथ सेन गुप्ता psychologist के कंपनी में बड़े projects कार्य करते हैं। तथा यह मानसिक रूप से ग्रसित पीड़ित व्यक्तियों का इलाज एवं उसका अध्ययन करते हैं।

आमतौर पर आजकल के लोगों को मानसिक तौर से तनाव से ग्रसित या डिप्रेशन जैसी समस्या वाले लोगों को साइकोलॉजिस्ट की अधिक आवश्यकता होती है। क्योंकि वह तनाव में पूरी तरह से बंधे हुए होते हैं, ऐसे लोगों के लिए मनोवैज्ञानिक उपचार अत्यधिक आवश्यक होता है। आज के समय में साइकोलॉजिस्ट की मांग बढ़ते जा रहा है।

साइकोलॉजिस्ट कितने प्रकार के होते हैं?

आमतौर पर दुनिया में पांच प्रकार की साइकोलॉजिस्ट/मनोविज्ञान होते हैं। प्रत्येक मनोविज्ञान का अलग-अलग काम होता है। क्योंकि आज के समय में दुनिया में अलग-अलग प्रकार का मस्तिष्क अध्ययन करना होता है। जो कि बहुत ही मुश्किल एवं कठिन कार्य होता है। इसलिए इसको अलग-अलग भागों में बांटा दिया गया है। यही वजह है कि संपूर्ण विश्व में साइकोलॉजिस्ट/मनोविज्ञान पांच प्रकार के होते हैं। इन सभी पांचो साइकोलॉजिस्ट के बारे में पूरी जानकारी नीचे दिया गया हैं।

व्यक्तिगत साइकोलॉजिस्ट

साइकोलॉजिस्ट के इस ग्रुप के अंतर्गत व्यक्ति के मन में चल रही बात एवं उसका अनुभव समझना ही व्यक्तिगत साइकोलॉजिस्ट के अंतर्गत आता है। इससे यह पता चलता है कि व्यक्तिगत के अंदर क्या सोच एवं बदलाव आए। इस बात को गहनता से अध्ययन करना ही व्यक्तिगत साइकोलॉजिस्ट कहलाता है।

सामाजिक साइकोलॉजिस्ट

Psychologist के इस शाखा के अंतर्गत एक समाज एवं समूह का अध्ययन किया जाता है। इसके द्वारा यह पता चलता है कि समाज एवं संगठन किस प्रकार का व्यवहार कर रहा है। वह किस बात को लेकर सोच रहा है, उसका अगला कदम क्या होगा। इन सब का अध्ययन करना सामाजिक साइकोलॉजिस्ट के अंतर्गत आता है।

जैविक साइकोलॉजिस्ट

साइकोलॉजिस्ट के इस शाखा के अनुसार व्यक्त के शरीर में बदलाव आने के बारे में अध्ययन किया जाता है। यानी कि व्यक्ति के शरीर में किस प्रकार की जैविक क्रिया का बदलाव होता है। व्यक्ति का मस्तिष्क पर किस प्रकार का प्रभाव पड़ता है। जैविक साइकोलॉजिस्ट के अंतर्गत आता है।

नैदानिक साइकोलॉजिस्ट

Psychologist की ये शाखा विशेष रूप से मानसिक रूप से पीड़ित व्यक्तियों कि मस्तिष्क का अध्ययन किया जाता है। विशेष रूप से अगर कोई व्यक्ति दिमाग के रोग से ग्रसित है या मानसिक रूप से कमजोर है। तो साइकोलॉजिस्ट के अनुसार इसका अध्ययन किया जाता है। जो नैदानिक साइकोलॉजिस्ट के अंतर्गत आता है।

संज्ञानात्मक साइकोलॉजिस्ट

Psychologist के इस शाखा के अंतर्गत व्यक्ति के सोच की और उसके निर्णय लेने के तरीके को सोचने और उसे समझने के बारे में अध्ययन करना होता है। इस साइकोलॉजिस्ट के शाखा को संज्ञानात्मक साइकोलॉजिस्ट कहा जाता है। आमतौर पर इसे दूसरे देश के विरोधी देश के लिए उपयोग किया जाता है, जो संज्ञानात्मक साइकोलॉजिस्ट के अंतर्गत आता है।

साइकोलॉजिस्ट डॉक्टर बनने के लिए स्किल

दोस्तों अगर आप साइकोलॉजिस्ट बनने की सोच रहे हैं। तो आपके पास नीचे दिए गए कुछ स्किल का होना अति आवश्यक है। जो इस प्रकार है-

  • कम्युनिकेशन
  • सेल्फ अवेयरनेस
  • रिसर्च
  • इमोशनल इंटेलिजेंस
  • एंपैथी
  • सोशल स्किल्स
  • पेशेंस
  • टाइम मैनेजमेंट
  • एथिक्स
  • एनालिटिकल स्किल
  • ऑब्जर्वेशन
  • क्रिटिकल थिंकिंग
  • इंटरपर्सनल कम्युनिकेशन

साइकोलॉजिस्ट के कार्य

Psychologist का मुख्य कार्य खोज का अध्ययन करना होता है। मनोविज्ञान मुख्य तौर पर किसी व्यक्ति को मस्तिष्क रूप से ग्रसित एवं कमजोर मानसिक वाले व्यक्ति का अध्ययन करना होता है। साइकोलॉजिस्ट का कार्य होता है किसी व्यक्ति के मन की बात को जानना कि अगला व्यक्ति क्या सोच रहा है और क्या निर्णय लेना चाहता है इन सब के बारे में जानकारी करना होता है। नौकरी के दौरान मनोवैज्ञानिक के कुछ विशेष कार्य होते हैं। जैसे-

  • मनोविज्ञान प्रशिक्षण आयोजित करना
  • कानूनी संस्थाओं को सलाह देना
  • मुश्किल या गंभीर परिस्थितियों में लोगों को सलाह देना और उनकी मदद करना
  • व्यक्तियों का समूह की काउंसलिंग करना
  • व्यक्तिगत लक्षण व्यवहार संबंधी विकार मानसिक परिवर्तन और पीड़ा की स्थिति के संबंध में मनोवैज्ञानिक निदान विकसित करना
  • पूर्वानुमान रिपोर्ट और प्रमाण पत्र तैयार करना
  • लोगों के मनोवैज्ञानिक गुना का आकलन
  • लेख और किताबें लिखना
  • टीम प्रबंधन के मुद्दों पर प्रबंधन को सलाह देना
  • कर्मचारियों की भर्ती करना
  • बच्चों का विकास और शिक्षा
  • व्यवसाय या शैक्षिक खेल आयोजित करना

साइकोलॉजी डॉक्टर कैसे बने?

  • Psychologist बनने के लिए अभ्यर्थी को bachelor of psychologist का कोर्स करना होगा।
  • यह कोर्स 3 साल का होता है। इसके अंतर्गत दो वर्ष का master of psychology का कोर्स करना होता है।
  • Psychologist बनने के लिए आपको इस विषय में विशेष रूप से रुचि होना चाहिए, तभी आप साइकोलॉजिस्ट बन पाएंगे।
  • Psychologist के क्षेत्र में मास्टर की डिग्री लेने के बाद specialisation/स्पेशलाइजेशन किया जाता है।
  • Psychologist सोचने की क्षमता काफी गहनता से होनी चाहिए।
  • Psychologist बनने के लिए दूसरे व्यक्ति के मस्तिष्क के सोच की जानकारी पता लगाने के लिए काफी गहनता की आवश्यकता होगी।
  • Psychologist बनने के लिए अभ्यर्थी को धैर्यवान एवं आत्मविश्वास और सुनने की क्षमता की योग्यता बढ़ानी होगी।

साइकोलॉजी कोर्स

अगर आप साइकोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं तो नीचे कुछ कोर्स के नाम दिए गए हैं। जिन्हें आप किसी कॉलेज से पूरा कर सकते हैं।

  • बीए मनोविज्ञान (BA Psychology)
  • बीएससी क्रिमिनोलॉजी एंड साइकोलॉजी (BSc Criminology and Psychology)
  • बीए विकासात्मक अध्ययन (BA Developmental Studies)
  • बीएससी बिजनेस साइकोलॉजी (BSc Business Psychology)
  • बीएससी सामाजिक मनोविज्ञान (BSc Social Psychology)
  • बीएससी स्वास्थ्य व्यवहार विज्ञान (BSc Health Behavioral Sciences)
  • बीएससी फॉरेंसिक मनोविज्ञान (BSc Forensic Psychology)
  • बीएससी संज्ञानात्मक विज्ञान (BSc Cognitive Science)
  • बीएससी मनोविज्ञान (BSc Psychology)
  • एमए मनोविज्ञान (MA Psychology)
  • एमएससी संगठनात्मक मनोविज्ञान (MSc Organizational Psychology)
  • एमएससी मनोविज्ञान (MSc Psychology)
  • एमएससी विकासात्मक मनोविकृति विज्ञान (MSc Developmental Psychopathology)
  • एमए परामर्श मनोविज्ञान (MA Counseling Psychology)
  • एमएससी नैदानिक मनोविज्ञान (MSc Clinical Psychology)
  • एमएससी व्यवहार विज्ञान (MSc Behavioral Sciences)

साइकोलॉजी में जॉब

विशेष रूप से हम आपको बता दे कि साइकोलॉजिस्ट को अस्पताल की जरूरत होती है। क्योंकि हॉस्पिटल में साइकोलॉजिस्ट बीमारियों को दूर करने की आवश्यकता होती है।

विश्व के बड़े-बड़े universities कॉलेज में रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (DRDO) कहते है। इस पद पर आप भी बड़े पैमाने पर जा पा सकते हैं और आप अपना खुद का क्लीनिक भी खोल सकते हैं। आपके मन में सवाल होगा-साइकोलॉजी से क्या बना सकते हैं?, तो नीचे कुछ लोकप्रिय जाब प्रोफाइल दी गई है, साइकोलॉजी की पढ़ाई करने के बाद आप इन कैरियर में जा सकते हैं।

  • क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट
  • बायोगेरोन्टोलॉजिस्ट
  • चाइल्ड साइकोलॉजिस्ट
  • मीडिया साइकोलॉजिस्ट
  • मिलिट्री साइकोलॉजिस्ट
  • कल्चरल साइकोलॉजिस्ट
  • डेवलपमेंटल साइकोलॉजिस्ट
  • कॉग्निटिव न्यूरोसाइंटिस्ट
  • कॉग्निटिव साइकोलॉजिस्ट
  • कम्युनिटी साइकोलॉजिस्ट
  • कंपैरेटिव साइकोलॉजिस्ट
  • कंज्यूमर साइकोलॉजिस्ट
  • काउंसलिंग साइकोलॉजिस्ट
  • क्रिमिनल साइकोलॉजिस्ट
  • गैरीएट्रिक साइकोलॉजिस्ट
  • गेरोन्टोलॉजिस्ट
  • जेरोसाइकोलॉजिस्ट
  • हेल्थ साइकोलॉजिस्ट
  • एजुकेशनल साइकोलॉजिस्ट
  • इंजीनियरिंग साइकोलॉजिस्ट
  • एनवायरमेंटल साइकोलॉजिस्ट
  • एक्सपेरिमेंटल साइकोलॉजिस्ट
  • फॉरेंसिक साइकोलॉजिस्ट
  • नेवी साइकोलॉजिस्ट
  • न्यूरोलॉजिस्ट
  • न्यूरोपैथोलॉजिस्ट
  • सोशल जिरन्टोलॉजिस्ट
  • सोशल साइकोलॉजिस्ट
  • स्पिरिचुअल साइकोलॉजिस्ट
  • स्पोर्ट्स साइकोलॉजिस्ट
  • ट्रांसपर्सनल साइकोलॉजिस्ट
  • न्यूरोसाइकोलॉजिस्ट
  • ऑर्गेनाइजेशनल – इंडस्ट्रियल साइकोलॉजिस्ट
  • साइकेट्रिस्ट
  • साइकोलॉजिकल एंथ्रोपोलॉजिस्ट
  • रिहैबिलिटेशन साइकोलॉजिस्ट
  • स्कूल साइकोलॉजिस्ट

साइकोलॉजी की पढ़ाई के लिए टॉप यूनिवर्सिटी

अगर आप साइकोलॉजी की पढ़ाई करके साइकोलॉजी डॉक्टर बनना चाहते हैं। तो नीचे हमने भारत की टॉप यूनिवर्सिटी का लिस्ट दिया हुआ है, जहां से आप साइकोलॉजी की पढ़ाई कर सकते हैं।

  • एमिटी इंस्टीट्यूट ऑफ साइकोलॉजी एंड एलाइड साइंसेज, नोएडा
  • एपीजे कॉलेज ऑफ फाइन आर्ट्स, पंजाब
  • आर्यभट्ट कॉलेज, दिल्ली
  • पटना महिला कॉलेज, पटना
  • बेथ्यून कॉलेज, कोलकाता
  • बीजेबी ऑटोनॉमस कॉलेज, भुवनेश्वर
  • लेडी श्रीराम कॉलेज, नई दिल्ली
  • सिम्बायोसिस कॉलेज ऑफ आर्ट्स एंड कॉमर्स, पुणे
  • सेंट पॉल कॉलेज, रांची
  • अशोक विश्वविद्यालय, हरियाणा

साइकोलॉजिस्ट का वेतन कितना होता है?

Psychologist एक अत्यंत महत्वपूर्ण पद होता है। जिसे छोटी नौकरी से लेकर बड़ी नौकरी तक सरकार द्वारा नियुक्त किया जाता है। Psychologist बड़े-बड़े अस्पताल एवं शिक्षण संस्थानों पर नियुक्त किए जाते हैं। इसके अलावा बड़े-बड़े क्लिनिक इंस्टिट्यूट या सरकारी कार्यों में देखने को मिलते हैं।

अगर हम बात करें साइकोलॉजिस्ट की सैलरी की तो, साइकोलॉजिस्ट की सैलरी प्रतिमाह 45 या 50000 तक दी जाती है। अगर आप बहुत बड़े क्लीनिक, अस्पताल में काम कर रहे हैं, तो आपके पदों के हिसाब से वेतन नियुक्त किया जाता है। जो अधिक से अधिक 2 या ढाई लाख तक वेतन होता है।

FAQs

1. साइकोलॉजी कोर्स कितने साल का होता है?

BSc psychologist course 3 साल का होता है। मानव मस्तिष्क एवं उसका अध्ययन करने के बारे में बताया जाता है। इसके बाद साइकोलॉजिस्ट में मास्टर ऑफ डिग्री की भी जरूरत होती है, जो 2 वर्ष की होती है।

2. क्या साइकोलॉजी एक अच्छा कोर्स है?

साइकोलॉजिस्ट मानव की व्यवहार की गहरी समस्त प्रदान करता है। आत्म जागरूकता एवं भावनात्मक बुद्धिमता को बढ़ावा देकर मानव विकास किया जाता है। व्यावसायिक रूप से साइकोलॉजिस्ट निरंतर सीखने एवं अनुसंधान के अवसर को प्रदान करता है। जिससे व्यक्तियों की विशेषज्ञता ज्ञात करने के लिए अपनी पर्सनली करियर को आगे बढ़ाने के लिए सहायक होती है।

3. साइकोलॉजी डॉक्टर बनने के लिए क्या करना पड़ता है?

साइकोलॉजी डॉक्टर बनने के लिए अभ्यर्थी को सबसे पहले 12वीं की परीक्षा पास करनी पड़ती है। इसके बाद अभ्यर्थी बैचलर ऑफ साइकोलॉजी का कोर्स कर सकता है तथा इसके बाद साइकोलॉजी के क्षेत्र में मास्टर डिग्री प्राप्त करके डॉक्टर बन सकता है।

4. साइकोलॉजी बनने के लिए कौन सी डिग्री चाहिए?

साइकोलॉजी डॉक्टर बनने के लिए इस आर्टिकल में हमने बैचलर डिग्री और मास्टर डिग्री की लिस्ट दी हुई है, जिसे आप पढ़ सकते हैं।

5. साइकोलॉजी डॉक्टर की सैलरी कितनी है?

साइकोलॉजी डॉक्टर की सैलरी उनके कार्यों और अनुभव पर निर्भर करता है। हालांकि साइकोलॉजी डॉक्टर बड़ी आसानी से 50 से ₹60000 सैलरी का सकता है।

6. साइकोलॉजी के डॉक्टर को क्या कहते हैं?

साइकोलॉजी के डॉक्टर को मनोचिकित्सक (Psychiatrist) कहते हैं।

इसे भी पढ़ें 👇

जीएनएम के बाद डॉक्टर कैसे बनें
12वीं के बाद दरोगा कैसे बनें
पैरा कमांडो कैसे बनें
कोबरा कमांडो कैसे बनें
12वीं के बाद लोको पायलट कैसे बनें
स्कूल अथवा कॉलेज प्रिंसिपल कैसे बनें
बिना पैसे के अमीर कैसे बनें
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment