[2022] लेबर कोर्ट में शिकायत कैसे करें | Labour Court me Shikayat Kaise Kare

Labour Court me Shikayat Kaise Kare लेबर कोर्ट में ऑनलाइन शिकायत कैसे करें | लेबर कोर्ट के निर्णय | Salary na Milane Per Kya Kare | लेबर कोर्ट हेल्पलाइन नंबर उत्तर प्रदेश 2022 | वेतन नहीं देने के लिए कंपनी के खिलाफ शिकायत | Labour Court me Case Kaise Kare

जैसा कि आप जानते हैं कि हमारे देश में आधे से ज्यादा आबादी किसी ने किसी कंपनी में नौकरी करती है | नौकरी करते समय उन्हें किसी प्रकार की समस्या आती है या कंपनी मालिक अपने कर्मचारियों को परेशान करता है | तो वह कंपनी Labour Court में कंपनी मालिक के प्रति शिकायत कर सकते हैं | दोस्तों इस आर्टिकल को पूरा पढ़िए, इस आर्टिकल में मैं आप लोगों को बताने वाला हूं कि Labour Court me Shikayat Kaise Kare 2022, लेकिन इससे पहले हम जान लेते हैं कि लेबर कोर्ट क्या होता है|Labour Court Kya Hota Hai

लेबर कोर्ट क्या होता है?

आपने न्यूज़ चैनल, टीवी, अखबारों में अधिकांश करके सुनते आए होंगे कई ऐसी कंपनियां हैं, जिसमें कंपनी मालिक अपने कर्मचारियों को परेशान करता है | जैसे उन्हें सही टाइम पर पैसा ना देना या फिर कब पैसा में ज्यादा काम कराना | ऐसे में कंपनी द्वारा करखानो में काम करने वाले कर्मचारियों तथा श्रमिकों का शोषण किया जाता हैं | भारत सरकार इस बात को ध्यान में रखते हुए लेबर कोर्ट (श्रम न्यायालय) की स्थापना की है | जहां पर कोई भी कर्मचारी कंपनी द्वारा किसी भी प्रकार के शोषण को लेकर लेबर कोर्ट में शिक़ायत कर सकता है|

किसी मामले को लेकर Labour Court Kya Hota Hai

  • अगर आप किसी कंपनी के कर्मचारी है, तो यहां पर आप को यह जानना बहुत जरूरी है | कि आप कंपनी द्वारा किस प्रकार के शोषण किये जाने पर लेबर कोर्ट में शिक़ायत कर सकते हैं|
  • जब बिना किसी कारण की कंपनी कर्मचारी को नौकरी से निकाल दे, तो ऐसे में आप Company Ki Khilaf Labour Court me Shikayat ker Sakte Hai
  • सही सही समय पर जब कंपनी कर्मचारी को वेतन ना दें, ऐसे में कर्मचारी चाहे तो आनलाइन लेबर कोर्ट में शिकायत कर सकता है|
  • जब कर्मचारियों को उनके श्रम का उचित मूल्य न मिलना मतलब जब कर्मचारियों से ज्यादा काम लिया जाए और पैसे कब दिया जाए ऐसे में कर्मचारी कंपनी के खिलाफ Online Labour Court me Shikayat ker Sakte Hai
  • एक निर्धारित समय से ज्यादा समय तक काम करवाने पर मतलब अगर कंपनी में 8 घंटे की ड्यूटी है लेकिन फिर भी अगर कर्मचारी से कंपनी 10 घंटा या 12 घंटे का काम लेती है | तो ऐसे में कर्मचारी कंपनी के खिलाफ लेबर कोर्ट में शिकायत कर सकता है|
  • ऐसे भी कंपनियों द्वारा कर्मचारियों को कई प्रकार के शोषण झेलने पड़ते हैं, उन सब की शिकायत भी कर्मचारी लेबर कोर्ट में कर सकता है|
  • अगर आप शोषण के विरुद्ध अपने अधिकार को जानना चाहते हैं तो भारतीय संविधान के अनुच्छेद 23 को जरूर पढ़ें|

लेबर कोर्ट में शिकायत करने से पहले इन बातों का जरूर ध्यान रखें?

  • अगर किसी कंपनी द्वारा आपका शोषण किया जाता है और आपने कंपनी के खिलाफ Labour Court me Shikayat kerne के लिए सोच लिया है | तो शिकायत करने से पहले आपको नीचे दिए गए निम्नलिखित बातों को ध्यान देना है | ताकि आगे चलकर आपको किसी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पड़े|
  • आप जिस कंपनी का शिकायत लेबर कोर्ट में करने जा रहे हैं, आपके पास उस कंपनी का प्रमाण पत्र होना चाहिए|
  • आप उस कंपनी में कितने समय से काम कर रहे हैं इसका भी आपके पास प्रमाण होना चाहिए|
  • उस कंपनी में आप की नियुक्ति होते समय आपने जो एग्रीमेंट किया था, उस एग्रीमेंट की जानकारी और उसकी फोटो कॉपी भी आपके पास होनी चाहिए|
  • जब आप उस कंपनी में नियुक्त हुए थे तो उस समय आपको कितने सैलरी पर रखा गया था, इसका भी प्रमाण आपके पास होना चाहिए|
  • इसके साथ-साथ अगर आप श्रम न्यायालय में किसी कंपनी के खिलाफ शिकायत करते हैं, तो आपके पास दो ऐसे व्यक्ति होने चाहिए जो आपके साथ गवाही दे सकें|

लेबर कोर्ट में शिक़ायत करने के बाद क्या होता हैं?

  • जब आप लेबर कोर्ट में किसी कंपनी के खिलाफ शिकायत करते हैं तो ऐसे में आपको शिकायत की एक कॉपी दे दी जाती है और इसके साथ ही साथ कंपनी को एक नोटिस भेज दिया जाता है|
  • 30 दिन के अंदर अंदर कंपनी प्रबंधक को लेबर कोर्ट में उपस्थित होना होगा|
  • 45 दिनों के अंदर अंदर आपके केस की सुनवाई हो जानी चाहिए, क्योंकि अगर 45 दिन के अंदर आपकी केस की सुनवाई नहीं होती है, तो आप के केस को अगले लेबर कोर्ट में भेज दिया जाएगा|
  • इसके बाद अगले श्रम न्यायालय कंपनी और आपके द्वारा होने वाली समस्याओं को श्रम न्यायालय सुनेगा और उसका समाधान करेगा|
  • श्रम न्यायालय जो फैसला सुना देगा उसे कंपनी बांधने के लिए बाध्य होगी|

कर्मचारियों के हित के लिए बनाए गए अधिनियम

भारत सरकार ने कर्मचारियों के साथ होने वाली शोषण को ध्यान में रखते हुए कर्मचारियों के हित के लिए अनेक अधिनियम बनाए गए |जिससे भविष्य में कर्मचारियों के साथ कंपनियां किसी प्रकार का शोषण ना कर सके| कर्मचारियों के हित के लिए बनाए गए अधिनियम निम्नलिखित है-

  • औद्योगिक विवाद अधिनियम 1947 : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|
  • औद्योगिक रोजगार (स्थाई आदेश) अधिनियम 1946 : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|
  • न्यूनतम मजदूरी अधिनियम 1948 : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|
  • मजदूरी संदाय अधिनियम 1936 : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|
  • ठेका श्रम (विनियमन एवं उन्मूलन) अधिनियम 1970 : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|
  • प्रसूति लाभ अधिनियम 1961 : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|
  • बाल श्रम (निषेध एवं विनियमन) अधिनियम 1986 : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|
  • रेलवे कर्मचारियों के लिए रोजगार के घंटे संबंधित विनियमन : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|
  • बोनस संदाय अधिनियम 1965 : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|
  • उपदान संदाय अधिनियम 1972 : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|
  • समान पारिश्रमिक अधिनियम 1976 : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|
  • अंतर राज्यीय प्रवासी श्रमिक अधिनियम 1979 : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|
  • भवन एवं अन्य निर्माण श्रमिक अधिनियम 1996 : इस अधिनियम के बारे में जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें|

भारत में लेबर कोर्ट कहां कहां पर है?

दिल्लीजबलपुर (मध्य प्रदेश)आसनसोल (पश्चिम बंगाल)
चंडीगढ़ (पंजाब)कानपुर (उत्तर प्रदेश)गुवाहाटी (असम)
लखनऊ (उत्तर प्रदेश)कोलकाता (पश्चिम बंगाल)हैदराबाद (आंध्र प्रदेश)
मुंबई (महाराष्ट्र)अहमदाबाद (गुजरात)नागपुर (महाराष्ट्र)
धनबाद (झारखंड)चेन्नई (तमिलनाडु)जयपुर (राजस्थान)

लेबर कोर्ट हेल्पलाइन नंबर | Labour Court Helpline Number

18001800999

लेबर कोर्ट में शिकायत कैसे करें?

1.अगर आप कंपनी द्वारा शोषित किए जाते है, तो आप कंपनी के खिलाफ लेबर कोर्ट में शिकायत कर सकते हैं| इसके लिए आपको श्रम न्यायालय की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा|

2.इस एप्लीकेशन फॉर्म में पूछे गए सभी जानकारी को सही सही भरकर सबमिट बटन पर क्लिक कर देना है|

3.सबमिट बटन पर क्लिक करते ही आपका की प्रक्रिया पूरी हो जाती है इसके बाद आप को कंप्लेन नंबर दे दिया जाता है, जिसे आप को नोट कर के रख लेना है|

4.क्योंकि कंप्लेंट नंबर से आप कभी भी अपने Labour Court Complaint Status को देख सकते हैं|

FAQ

दिल्ली में लेबर कोर्ट कहां पर है?

Rouse Avenue Courts Complex, Near Bal Bhawan, Pandit Deen Dayal Upadhyaya Marg, ITO New Delhi 110002

लेबर कोर्ट हेल्पलाइन नंबर बिहार

श्रम संसाधन विभाग Bihar Helpline Number : 9471866832

Labour Court me Shikayat करने की आफिशियल वेबसाइट कौन सी है?

लेबर कोर्ट संबंधित शिकायत करने की बेबसाइट : https://labour.gov.in/hi/labour-welfare

निष्कर्ष

दोस्तों इस आर्टिकल में हमने लेबर कोर्ट क्या होता है, लेबर कोर्ट पर ऑनलाइन शिकायत कैसे करें 2022, लेबर कोर्ट में शिकायत करने से संबंधित जरूरी बातें, आदि के बारे में पूरा विस्तार से बताया है | तथा इसके साथ साथ यह भी बताया है, कि Labour Court me Shikayat Kaise Kare | इसलिए अगर यह आर्टिकल आप सभी को पसंद आए तो कमेंट करके जरूर बताइएगा, अगर आपका कोई सवाल है तो आप बेझिझक पूछ सकते हैं|

इसे भी पढ़ें

किस्तों पर बाइक कैसे लें

आधार कार्ड आनलाइन कैसे बनाएं

पासपोर्ट को कोविड वैक्सीन सर्टिफिकेट के साथ कैसे जोड़ें

केबीसी में रजिस्ट्रेशन कैसे होता है

अपनी जमीन पर मोबाइल टावर कैसे लगवायें

जीवन प्रमाण पत्र कैसे बनाएं

मोबाइल से जमीन कैसे नापे

किसी बैंक का मिनी स्टेटमेंट कैसे निकालें

रबी की फसल किसे कहते हैं

11 thoughts on “[2022] लेबर कोर्ट में शिकायत कैसे करें | Labour Court me Shikayat Kaise Kare”

  1. Kuch company ‘s eshi v h jo logo se bandhuwa mjjdoori kerwati h ek type se.. eshi company ‘s employees ko unki mjjboori ka fayda utha k fssha leti h….koi documention ..ni kerwati kuch likha pdhi ni kerwati…..or majboor employees…join ker lete .baad mein wo company employee ki 15 ..20 din ka pesha apne paas rkh k unse kaam kerwate h…jisse employees fass jata …or chod v ni skta … company uska lgatarr shoshun kerti h lambi duty kerwati h Kam selery per…or jb employee pereshan hoker job chod deta to uske hak ka pesha kha jaati koi kuch ni ker pata sinier employees ek doosre ko blaim kerte ….or bechara junior employees ki nokrii k saath saath uski hak ki kmai v kha jaate.

    Reply

Leave a Comment