1 दिन में कोर्ट मैरिज कैसे करें?I कोर्ट मैरिज फीस, डॉक्यूमेंट और नियम

Court Marriage Kaise Kare : भारत में हिंदू की शादी के लिए मैरिज एक्ट 1955 या फिर स्पेशल मैरिज एक्ट 1954 के अनुसार सभी शादियों का रजिस्ट्रेशन किया जाता हैI एक लड़का लड़की जब अरेंज मैरिज करते हैं, तो दोनों पक्षों के माता-पिता, नात रिश्तेदारों का सहयोग होता हैI

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

लेकिन जब लड़का लड़की लव मैरिज करते हैं, तो अधिकांश करके दोनों पक्षों के माता-पिता रिश्तेदारों का कोई सहयोग नहीं होता हैंI ऐसे में वे दोनों मैरिज एक्ट के अंतर्गत कोर्ट में शादी कर सकते हैंI जिसके उपरांत उन्हें विवाह प्रमाण पत्र दे दिया जाता हैI

आज के आर्टिकल में हम यही जानने वाले हैं, कि कोर्ट मैरिज कैसे करें, कोर्ट मैरिज फीस, कोर्ट मैरिज करने से क्या लाभ होती है, आदि जानकारी पाने के लिए इस आर्टिकल को ध्यान पूर्वक पूरा पढ़िएगाI युवक युवतियों को कोर्ट मैरिज के बाद समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। कहीं लड़की के पक्ष वाले नाराज होते हैं, तो कहीं लड़के के पक्ष वाले नाराज होते हैं। इसके अलावा कहीं बार युवा दंपती को जान से मारने की भी धमकियां मिलती है। इन समस्या से बचने का उपाय भी इस लेख में बताया गया है।

मेहंदीपुर बालाजी मंदिर संपूर्ण जानकारी
खाटू श्याम मंदिर जाने का रास्ता
द्रौपदी मुर्मू (वर्तमान राष्ट्रपति) का जीवन परिचय
खाटू श्याम मंदिर दर्शन टिकट बुक कैसे करें

कोर्ट मैरिज क्या होता है?

कोर्ट मैरिज करना यानी कोर्ट में शादी करना – हर किसी के दिलों में शादी को लेकर कई ख्वाब होते हैं, वे अपनी मनपसंद जीवनसाथी बनाना चाहते हैंI अगर उन्हें मनपसंद जीवनसाथी मिल भी जाती है, तो ऐसे में उनके घर वाले इस शादी के खिलाफ हो जाते हैंI या तो लड़की दूसरी जाति की होती है, यह लड़की घर वालों को पसंद नहीं आती हैI

ऐसे में लड़का लड़की को दूसरे से शादी करना नामुमकिन लगने लगता हैI दोनों प्यार के बस में हो कर कोई कदम ना उठा ले, इसलिए कोर्ट ऐसे लोगों की शादी करा देती हैI और उन्हें पति पत्नी शादी रूपी पवित्र बंधन में बांध देती हैI कोर्ट के अनुसार लड़के की उम्र 21 वर्ष से ऊपर तथा लड़की की उम्र 18 साल से ऊपर होनी चाहिए, और वे दोनों एक दूसरे से शादी करने के लिए राजी होने चाहिएI जिसके बाद कोर्ट के सामने उन दोनों की शादी करा दी जाती हैI

इसके उपरांत उन्हें कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट दे दिया जाता हैI कोर्ट मैरिज शादी कराते समय कोर्ट द्वारा कोई जाति, धर्म नहीं देखा जाता हैI बल्कि अगर दोनों बालिग हैं, दोनों एक दूसरे से शादी करने के लिए राजी हैं तो कोर्ट दोनों की शादी करा देता हैI

कोर्ट मैरिज में क्या-क्या डॉक्यूमेंट चाहिए?

अगर आप किसी लड़का या लड़की से प्यार करते हैं, लेकिन घरवाले आप दोनों की शादी नहीं होने देना चाहतेI तो ऐसे में आप कोर्ट मैरिज कर सकते हैं, लेकिन कोर्ट मैरिज के लिए दस्तावेज होनी चाहिए। जो इस प्रकार है-

  • दो गवाह और उनकी फोटो
  • निवास प्रमाण पत्र (आधार कार्ड/वोटर आईडी कार्ड/पैन कार्ड/ड्राइविंग लाइसेंस/राशन कार्ड) इनमें से कोई एक दस्तावेज
  • लड़की का आयु प्रमाण पत्र (हाई स्कूल मार्कशीट/जन्म प्रमाण पत्र) इनमें से एक
  • लड़के का आयु प्रमाण पत्र (हाई स्कूल मार्कशीट/जन्म प्रमाण पत्र) इनमें से एक
  • विवाह पंजीकरण का आवेदन पत्र
  • लड़की की चार पासपोर्ट साइज फोटो
  • लड़के की चार पासपोर्ट साइज फोटो
  • तलाकशुदा मामले में तलाक के कागजात
  • विधवा/विदुर के मामले में पति/पत्नी का प्रमाण पत्र

ऑनलाइन कोर्ट मैरिज कैसे करें?

दोस्तों यहां पर मैं आपको बताना चाहता हूं अगर आप सोच रहे हैं आनलाइन कोर्ट मैरिज कीI तो अभी तक पूरे भारत में कहीं भी ऑनलाइन कोर्ट मैरिज करने की सुविधा उपलब्ध नहीं हैI

कोर्ट मैरिज करने के लिए नियम और शर्तें क्या है?

अगर कोई भी युवक-युवती कोर्ट मैरिज करने की सोच रहे हैं, तो उन्हें सबसे पहले कोर्ट मैरिज रूल्स के बारे में जान लेना चाहिए। क्योंकि कोर्ट मैरिज के नियम और शर्तों का पालन करना युवक-युवती के लिए अनिवार्य होता है, तभी उनका रजिस्ट्रार के सामने कोर्ट मैरिज शादी हो पाएगीI नियम और शर्त इस प्रकार है-

  • युवक-युवती में से किसी की भी शादी पहले ना हुई हो, यानी दोनों कुंवारे होने चाहिएI
  • लड़की की उम्र 18 साल से ऊपर होनी चाहिए, जबकि लड़के की उम्र 21 साल से ऊपर होनी चाहिएI
  • कोर्ट मैरिज कराने के दौरान लड़की और लड़के की मानसिक स्थिति सही होनी चाहिएI
  • लड़की और लड़का दोनों ही शारीरिक रूप से संतान उत्पत्ति करने में सक्षम होने चाहिएI
  • आपसी रिश्तेदारी में कभी भी लड़के लड़की की शादी नहीं हो सकती हैं, यानि बुआ, बहना आदिI यह नियम केवल हिंदू धर्म के लिए लागू होती हैI

कोर्ट मैरिज फीस कितनी लगती है?

विशेष विवाह अधिनियम के अंतर्गत जो लड़का लड़की कोर्ट मैरिज करना चाहता है, उसे अपने संबंधित जिला के विवाह अधिकारी के पास लिखित सूचना देना होता हैI लिखित सूचना देने के उपरांत 30 दिनों तक अगर कोई व्यक्ति इस शादी के खिलाफ आपत्ति दर्ज नहीं कराता, तो 30 दिनों के बाद लड़का और लड़की कोर्ट मैरिज फीस जमा करके कोर्ट मैरिज शादी कर सकते हैंI

वैसे अलग-अलग स्थान पर कोर्ट मैरिज में खर्च अलग-अलग होती है, लेकिन अगर देखा जाए तो कोर्ट मैरिज कराने की न्यूनतम फीस ₹1000 होती हैI हालांकि अन्य औपचारिकता, कागजी कार्रवाई तथा वकील आदि की व्यवस्था करने में हो सकता है आपका 2000 से ₹3000 भी खर्चा हो जाएI

Court Marriage Process in Hindi

मित्रों अगर आप भी कोर्ट मैरिज शादी करने का मन बना लिया है, तो कोर्ट मैरिज शादी की प्रक्रिया जानना बहुत जरूरी हैI जो इस प्रकार है-

पहला चरण

कोर्ट मैरिज में विवाह करने के लिए सबसे पहले जिले के विवाह आफिस को विवाह में शामिल होने वाले दोनों पक्षों द्वारा लिखित सूचना देना होगाI इसके अलावा आप जिस शहर में शादी कर रहे हैं, उस शहर में विवाह अधिकारी को दिए गए सूचना की तारीख से 1 महीने पहले तक निवास करना होना चाहिएI

यानी अगर मान लीजिए, लड़का और लड़की दोनों बनारस के हैं, और दोनों लखनऊ में शादी करना चाहते हैं, इसके लिए लड़का या लड़की को सूचना की तारीख से 30 दिन पहले से लखनऊ में रहना अनिवार्य होगाI

दूसरा प्रक्रिया

सूचना पत्र जमा करने के बाद जिले के विवाह अधिकारी के द्वारा सूचना जारी की जाती है, जिसमें सूचना की एक प्रतिलिपि कार्यालय में तथा एक प्रतिलिपि जिला कार्यालय में जहां के विवाह पक्ष स्थाई रूप से निवासी हैंI वहां जमा की जाती हैI

तीसरा प्रक्रिया

लड़का लड़की का कोर्ट मैरिज होते समय कोई भी तीसरा व्यक्ति विवाह में आपत्ति दर्ज कर सकता हैI वह तीसरा व्यक्ति लड़का या लड़की के दूर या पास का रिश्तेदार हो सकता हैI यदि आपत्ति दर्ज करने का कोई आधार होता है, तो आपत्ति दर्ज किए जाने के 30 दिन के अंदर अंदर विवाह अधिकारी मामले की जांच करता हैI अगर मामला सही पाया जाता है, तो लड़के और लड़की का कोर्ट मैरिज रोक दिया जाता हैI

चौथा प्रक्रिया

30 दिनों के उपरांत विवाह अधिकारी के द्वारा दोनों पक्ष और तीन गवाह घोषणापत्र पर हस्ताक्षर करते हैंI इसके अलावा विवाह अधिकारी के भी घोषणा पत्र पर अक्षर होते हैंI

पांचवां प्रक्रिया

इसके बाद लड़के लड़की की शादी के लिए विवाह अधिकारी का कार्यालय या उचित दूरी पर कोई विवाह स्थान हो सकता हैI विवाह अधिकारी की उपस्थिति में वर और वधु का फार्म स्वीकार किया जाता हैI

छठा प्रक्रिया

इसके बाद विवाह अधिकारी विवाह प्रमाण पत्र पुस्तिका में एक प्रमाण पत्र दर्ज करता हैI इस प्रमाण पत्र पर दोनों पक्षों और तीन गवाहों के हस्ताक्षर होते हैंI यह प्रमाण पत्र कोर्ट मैरिज का निर्णायक प्रमाण होता हैI

1 दिन में कोर्ट मैरिज कैसे करें?

ऊपर आर्टिकल में जैसा कि हमने आपको बताया कि कोर्ट मैरिज करते समय कोर्ट मैरिज की प्रक्रिया छह चरणों की होती हैंI इसलिए कोर्ट मैरिज के कुछ नियम होते हैं जिसका पालन करते हुए आपको 36 दिन का समय लग सकता हैI जिसके उपरांत आप का कोर्ट मैरिज शादी हो जाती हैI

कोर्ट मैरिज करने के लिए आपको सबसे पहले एक एप्लीकेशन देनी होती है, इस एप्लीकेशन के साथ कोर्ट मैरिज करने वाले लड़के और लड़की को अपने सभी प्रमाण पत्र की फोटो कॉपी देनी पड़ती हैI एप्लीकेशन जमा करने के बाद रजिस्टर्ड ऑफिस द्वारा एक नोटिस दंपति के घर भेजी जाती है, नोटिस भेजने के बाद विवाह का समाचार वहां के लोकल न्यूज़ पेपर में निकाल दिया जाता हैI

अगर विवाह पर कोई व्यक्ति किसी प्रकार की आपत्ति नहीं करता है, तब जाकर दंपति की कोर्ट मैरिज हो जाती है, जिसमें काफी समय लग सकता हैI लेकिन अगर आप 1 दिन में कोर्ट मैरिज करना चाहते हैं, तो इसका बहुत ही सरल उपाय हैंI

अगर आप हिंदू धर्म से हैं तो आपको अपने नजदीकी मंदिर में 1 दिन में विवाह कर लेना चाहिएI वहां से सर्टिफिकेट बनवा कर ले जाकर रजिस्टार ऑफिस में जमा कर देना हैI और 1 दिन में रजिस्टार ऑफिस से आपको मैरिज सर्टिफिकेट मिल जाता हैI इस प्रकार आप बड़ी आसानी से 1 दिन में विवाह कर सकते हैंI 

मंदिर में विवाह कैसे करें?

जैसा कि हमने आपको बताया कोर्ट मैरिज करने में लगभग 36 दिन का समय लगता हैI इसलिए अगर आप 1 दिन में मंदिर में विवाह करना चाहते हैं, इसके लिए सबसे पहले लड़के और लड़की हो अपना आयु प्रमाण पत्र मंदिर पुजारी को दिखाना होगाI इसके अलावा दो गवाह होने चाहिएI इसके बाद पंडित द्वारा लड़के और लड़की दोनों की शादी करा दी जाती हैI

इसके बाद आपको पंडित जी द्वारा शादी प्रमाण पत्र ले लेना है, उसे ले जाकर रजिस्टर आफिस में जमा कर देना हैI जिसके आधार पर कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट बना दिया जाता हैI 

कोर्ट मैरिज करने पर कितना पैसा मिलता हैं? 

दलित से अंतर्जातीय विवाह करने पर नव दंपति को डॉक्टर अंबेडकर स्कीम फॉर सोशल इंटीग्रेशन थ्रू इंटर कास्ट मैरिज के तहत ढाई लाख रुपए की धनराशि प्रदान की जाती हैI नव दंपति में से लड़का या लड़की में एक दलित समुदाय से होना चाहिए, जबकि दूसरा दलित समुदाय से बाहर का होना चाहिएI हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के तहत नव दंपति की शादी रजिस्टर्ड होनी चाहिएI

कोर्ट मैरिज के बाद तलाक की प्रक्रिया

अगर कोई भी लड़का लड़की कोर्ट मैरिज करते हैं, तो दोनों में से कोई भी पक्ष 1 साल तक एक दूसरे से तलाक नहीं ले सकताI यानी 1 वर्ष की समय सीमा समाप्त होने से पहले दोनों पक्षों में से कोई भी तलाक के लिए न्यायालय में याचिका दायर नहीं कर सकताI लेकिन कुछ मामलों में जहां माननीय न्यायालय को लगता है कि आवेदन कर्ता द्वारा विपरीत परिस्थितियों का सामना किया जा रहा हैI

तो ऐसे हालातों में याचिकाकर्ता द्वारा तलाक को मंजूरी दे दी जाती हैI लेकिन अगर न्यायालय को लगता है याचिकाकर्ता न्यायालय को गुमराह करके तलाक लेना चाहता हैI तो ऐसे में न्यायालय धारा 29 के अंतर्गत 1 वर्ष की समय सीमा को और प्रभावी होने का आदेश दे सकती हैI

विवाह प्रमाण पत्र की आवश्यकता

शादी के उपरांत हर युवक युवती को चाहिए कि वे अपना विवाह प्रमाण पत्र बनवा लेंI क्योंकि Vivah Certificate एक सरकारी दस्तावेज होता हैI जिसकी आवश्यकता पासपोर्ट अप्लाई करते समय, जॉइंट बैंक खाता खोलते समय, वीजा अप्लाई करते समय, शादी करने के बाद विदेश में सेटल होने के लिए, पति की संपत्ति पर अधिकार पाने के लिए, पति की मृत्यु के उपरांत जीवन बीमा पॉलिसी का लाभ पाने के लिए,आदि जैसे कार्यों के लिए विवाह प्रमाण पत्र की आवश्यकता होती हैI

कोर्ट मैरिज के बाद पुलिस सुरक्षा पाने का तरीका

घर परिवार को छोड़कर कोर्ट मैरिज करने वाले लड़का लड़की की जिंदगी बहुत ही मुश्किल होती हैI उन्हें कहीं खुद के घर से या लड़की की घर की तरफ से या किसी अनजान व्यक्ति से जानलेवा धमकियां भी मिलती रहती हैI

अगर आपको लगता है कि कोर्ट मैरिज करने के बाद आपके जान को खतरा है, तो आप पुलिस प्रोटेक्शन ले सकते हैंI क्योंकि आपने अपना जीवनसाथी पाने के लिए कोर्ट मैरिज किया है ना कि कोई क्राइम किया हैI इसलिए आप को डरने की जरूरत नहीं है हां बस आपको कानून अधिकारों की समझ होनी चाहिएI

कोर्ट मैरिज दंपति के लिए कानूनी अधिकार

संविधान के अनुच्छेद 21 के अंतर्गत देश के सभी नागरिकों को अपनी जिंदगी जीने का मौलिक अधिकार प्राप्त हैI इस अनुच्छेद के अंतर्गत अगर कोई भी अपने मौलिक अधिकार का पालन करते हुए किसी लड़की/लड़का से कोर्ट मैरिज करता हैI तो वह कोई जुर्म नहीं कर रहा है| बल्कि अगर कोई व्यक्ति आपके इस मौलिक अधिकार का हनन कर रहा है, तो आप अपनी शिकायत लेकर सीधे सुप्रीम कोर्ट जा सकते हैंI

अगर कोर्ट मैरिज करने के बाद आपको जानलेवा धमकियां मिल रही हैं, तो सबसे पहले आप पुलिस से शिकायत करें, पुलिस की जिम्मेदारी होती है कि वह आपको प्रोटेक्शन प्रदान करेंI कोर्ट मैरिज करने के दौरान अगर आपके ऊपर जानलेवा हमला होता है और आप पुलिस प्रोटेक्शन मांगते हैं लेकिन पुलिस आपकी कोई मदद नहीं करती हैI

तो ऐसी स्थिति में आप संविधान के अनुच्छेद 226 के तहत हाई कोर्ट जा सकते हैंI और संविधान के अनुच्छेद 32 के तहत सुप्रीम कोर्ट भी जा सकते हैंI यानी आप के मौलिक अधिकारों की रक्षा करना कानून और पुलिस की जिम्मेदारी होती हैI

इंटीमेशन लेटर पुलिस को भेजना

कोर्ट मैरिज करने के बाद अगर आपको प्रताड़ित किया जाता है, आपको जान से मारने की धमकियां दी जाती हैI तो ऐसी स्थिति में आप पुलिस के पास जा सकते हैं, और उससे खुद का प्रोटेक्शन ले सकते हैंI लेकिन ऐसे मामलों में पुलिस अधिकांश करके कोई सहायता नहीं करती हैI इसलिए आपको एक वकील के द्वारा इंटीमेशन लेटर तैयार करवाना हैI

इस इंटीमेशन लेटर को वकील लड़की के घर, लड़के के घर, दोनों के निकटतम थाने और एसपी ऑफिस बाई पोस्ट भेज देता हैI इंटीमेशन लेटर के साथ वकील आपका कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट संलग्न करके पुलिस स्टेशन भेज देते हैंI

इसके बाद पुलिस को जो भी सवाल करने होते हैं, वह सीधे वकील से करती है और कोर्ट मैरिज दंपति को किसी प्रकार से परेशान नहीं करती हैI जिसके बाद पुलिस को हर हालत में कोर्ट मैरिज दंपति को प्रोटेक्शन देना पड़ता हैI

कोर्ट मैरिज के फायदे?

कोर्ट मैरिज शादी करने से पैसों की बचत होती है, क्योंकि कोर्ट मैरिज शादी में ना काफी भीड़ की जरूरत होती है, न ही सजावट की जरूरत होती है, और ना बड़े प्रोग्राम की जरूरत होती है, और ना ही दहेज की दर जरूरत होती हैI कोई भी लड़का/लड़की अपने मनपसंद जीवनसाथी से विवाह करने के लिए कोर्ट मैरिज कर सकता हैI

2023 में कोर्ट मैरिज कैसे करें? (FAQ)

1. Court Marriage Kaise Kare.

कोर्ट मैरिज करने की प्रक्रिया आप इस आर्टिकल को पढ़कर अच्छी तरह से जान सकते हैंI

2. कोर्ट मैरिज कितने दिन में पक्का होता है?

कोर्ट मैरिज करने के लिए आपको अपने नजदीकी रजिस्टार ऑफिस में एप्लीकेशन देना होता है, इसके उपरांत कोर्ट मैरिज पक्का होने में 36 दिन का समय लगता हैI

3. कोर्ट मैरिज कितने साल में होती है?

कोर्ट मैरिज करते समय लड़के की उम्र 21 साल तथा लड़की की उम्र 18 साल होनी चाहिएI

4. एक दिन में कोर्ट मैरिज कैसे करें?

अगर आप 1 दिन में कोर्ट मैरिज शादी करना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले आर्य समाज में 1 दिन में शादी कर सकते हैंI इसके बाद उस शादी का हिंदू मैरिज एक्ट 1955 के अंतर्गत कोर्ट में रजिस्ट्रेशन करा सकते हैंI

5. बिना तलाक दूसरी शादी कैसे करें?

पति पत्नी का रिश्ता एक पवित्र रिश्ता माना जाता है, इसलिए भारतीय दंड संहिता की धारा 494 के अंतर्गत जब तक कोई महिला/पुरुष तलाक नहीं ले लेते हैं, तब तक वे दूसरी शादी नहीं कर सकते हैंI

6. कोर्ट मैरिज की फीस कितनी है?

कोर्ट मैरिज करते समय किसी प्रकार की कोई फीस नहीं लगती है, हां स्टांप ड्यूटी के पैसे आपको ₹50 या 100 रूपए देने पड़ सकते हैंI

7. कोर्ट मैरिज करने के लिए लड़का और लड़की की उम्र कितनी होनी चाहिए?

लड़के की उम्र 21 तथा लड़की की उम्र 18

8. कोर्ट मैरिज करने से क्या लाभ होता है?

कोर्ट मैरिज कर के कोई भी लड़का/लड़की अपना मनपसंद जीवनसाथी पा सकते हैंI कोर्ट मैरिज करने से पैसों की बचत होती है, कोर्ट मैरिज शादी करना कानून के हिसाब से कोई गलत नहीं होता हैI

9. कोर्ट मैरिज को कैंसिल कैसे करें?

जिस प्रकार शादी होने के बाद अलग होने के लिए तलाक लेना जरूरी होता हैं, उसी प्रकार कोर्ट मैरिज होने के बाद कोर्ट मैरिज कैंसिल नहीं किया जा सकताI अगर आप एक दूसरे से संतुष्ट नहीं है, तो कोर्ट मैरिज के 1 साल के बाद एक दूसरे से तलाक ले सकते हैंI

10. कोर्ट मैरिज होने के बाद क्या होता हैं?

कोर्ट मैरिज होने के बाद रजिस्टर ऑफिस द्वारा आपको कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट दे दिया जाता हैI जिसके बाद कानूनी रूप से आप पति-पत्नी के संबंध में बढ़ जाते होI इसके बाद आप सुखी सुखी अपनी गृहस्थी जीवन की शुरुआत कर सकते होI कोर्ट मैरिज करने के बाद अगर आपको कोई परेशान करे तो आप पुलिस प्रोटेक्शन ले सकते होI

11. कोर्ट मैरिज कहां पर होती है?

बिना किसी परंपरागत समारोह के कोर्ट में मैरिज ऑफिसर के सामने शादी होती हैI कोर्ट मैरिज विशेष विवाह अधिनियम के तहत संपन्न कराई जाती हैI

12. कोर्ट मैरिज कितने दिनों में हो जाती हैं?

कोर्ट मैरिज करने में कोर्ट के कुछ नियम कानून होते हैं, जिस प्रक्रिया से होते हुए लगभग 36 दिन का समय लगता है कोर्ट मैरिज होने मेंI

13. कोर्ट में शादी करने के लिए क्या-क्या चाहिए?

अगर कोई लड़का और लड़की कानूनी विवाह यानी कोर्ट मैरिज करना चाहते हैंI तो लड़के की आयु 21 वर्ष तथा लड़की की आयु 18 वर्ष से ऊपर होनी चाहिएI इसके अलावा दोनों संतान की उत्पत्ति के लिए शारीरिक रूप से सक्षम तथा दोनों मानसिक रूप से भी स्वस्थ होI

14. कोर्ट मैरिज के लिए कितने गवाह चाहिए?

कोर्ट मैरिज शादी करने के लिए कम से कम तीन गवाह की जरूरत होती है, शादी करने वाले कपल के दोस्त, परिवार के सदस्य, सहकर्मी, रिश्तेदार अथवा अनजान व्यक्ति भी गवाह हो सकते हैंI

15. अगर माता-पिता प्रेम विवाह के खिलाफ है कि क्या करना है?

अगर माता-पिता प्रेम विवाह के खिलाफ है, तो कभी भी माता-पिता का दिल दुखा कर प्रेम विवाह हमें नहीं करना चाहिएI प्रेम विवाह करने के लिए माता-पिता को जरूर से मना लेना चाहिएI 

16. दो शादी करने पर कौन सी धारा लगती है?

दो शादी करने पर द्विविवाह का अपराध धारा 494 लगती हैI

17. कोर्ट मैरिज करने में कितना खर्च आता है?

अगर देखा जाए तो कोर्ट मैरिज करने का न्यूनतम खर्च 1 हजार रुपए होता है। लेकिन वकील और कागजी करवाही को मिलाकर लगभग 10 से 20 हजार तक का खर्च आ जाता है।

18. कोर्ट मैरिज में क्या क्या डॉक्यूमेंट चाहिए?

Court marriage ke liye documents इस प्रकार है- दो गवाह और उनकी फोटो, निवास प्रमाण पत्र (आधार कार्ड/वोटर आईडी कार्ड/पैन कार्ड/ड्राइविंग लाइसेंस/राशन कार्ड) इनमें से कोई एक दस्तावेज, लड़की का आयु प्रमाण पत्र (हाई स्कूल मार्कशीट/जन्म प्रमाण पत्र) इनमें से एक, लड़के का आयु प्रमाण पत्र (हाई स्कूल मार्कशीट/जन्म प्रमाण पत्र) इनमें से एक, विवाह पंजीकरण का आवेदन पत्र, लड़की की चार पासपोर्ट साइज फोटो, लड़के की चार पासपोर्ट साइज फोटो, तलाकशुदा मामले में तलाक के कागजात, विधवा/विदुर के मामले में पति/पत्नी का प्रमाण पत्र

19. क्या कोर्ट मैरिज के लिए माता पिता की सहमति ज़रूरी है?

भारतीय कानून कहता है कि अगर लड़के की आयु 21 साल हैं, तथा लड़की की आयु 18 साल हैं। तो दोनों शादी के लिए वैध है। अरेंज मैरिज, लव मैरिज तथा कोर्ट मैरिज करने में माता-पिता के परमिशन की जरूरत नहीं पड़ती है।

20. क्या परिवार के सदस्य कोर्ट मैरिज में गवाह हो सकते हैं?

जी हां, परिवार का कोई भी सदस्य, लड़का या लड़की का दोस्त, सहकर्मी कोई भी हो सकता है। कोर्ट मैरिज करते समय जज के सामने तीन गवाह होने चाहिए।

21. कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट कैसा होता है?

कोर्ट मैरिज सर्टिफिकेट में शादी का प्रमाण मिल जाता है, जो यह साबित करता है, कि दो लोगों शादी शुदा जीवन में बंध गए हैं। हालांकि अगर आप नार्मल अरेंज मैरिज करते ही तो भी आप शादी का रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। जो कि हिंदु मैरिज एक्ट 1995 तथा स्पेशल मैरिज एक्ट 1954 के तहत किया जाता है।

यूएएन नंबर से पीएफ कैसे चेक करें
5 मिनट में चोरी हुआ मोबाइल कैसे पता करें 
रिलायंस पेट्रोल पंप कैसे खोलें
प्ले स्टोर डाउनलोड कैसे करें
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

16 thoughts on “1 दिन में कोर्ट मैरिज कैसे करें?I कोर्ट मैरिज फीस, डॉक्यूमेंट और नियम”

  1. Sir meri shaadi ho gae h or jab shaadi hue thi me 12 13 shal ka tha or ab meri age 20 hai or jis ladki se shaadi hue h usse mujhe nfrat si ho gae h me kisi or se pyar krta hu or mujhe usi se shadi bhi krni h lekin jisse shaadi hue h vo mujhe divorce nhi dena chahti or meri family bhi usi ki side h or vah 4 shal se mere shath hi h lekin hamare bich asa kuchh nhi h jo ek husband wife k bich hota h bas ham dono ki ladai hoti rehti h ab aap bataeye me usse kese Azad ho sakta hu kyuki shadi mene meri Marzi se nhi ki h jab shadi hue thi tab me itna samjdar nhi tha ki ye samj jau ki shadi kya hoti h or vo ladki apne mummy papa k yaha h or bolti h ki me pregnant hu balki hamare bich asa kuchh ni huva h aaj tak or jab usne Ghar par sab ko bataya ki me pregnant hu tab mene use Drr ko dikhana ka bola to bole ki me mar jaugi ager drr k pas le gye to asa bolkar uske ghar chhodne ka bola fir papa chhod aaye use ghar uske bad 4 5 mahine ho gye h koe khabar nhi h uski meri femily ki bhi kisi se koe bat ni hue or na hame kuchh pata h mtlab sir vo ek no k chalu ladki h or jabarjasti hame Dara dhamka kae mere ghar rehna chahti h

    प्रतिक्रिया
    • Thank you for your suggestion and lovely pdf and documents knowledge about off marriage ” ab vo gav ki hai or cast bhi alag hai or mai bhi gav ka hu pr nhi kr sakta vnha shadi isliye mai apne sath use mumbai launga or before one mnth ago bandra me court marriage ka letter bhi daal dunga or feb.tk shadi kar lenge hum dono or I hope mai mai use bahut khush rakhunga mai medical reps.hu m.n.c company me or achhi sallery bhi hai samaj bhad me jaaye “”” mummy papa aapko ek baar sochna chahiye jin hatho ne mujhe khila pilaa kr itna bada kiya kya mai uske budhape ka Sahara nhi Banta jrur banta papa kyu nfrt ho jati hai hr court marriage karne wali ladki ko apse vo kbhi bhi apne baap ki ijjat nhi jhukne dena chahti pr papa jb aap use bat karte pakd lete ho na to aapka kiya gya torcher use itna sakht bna deta hai ki aapka bachpn se Diya hua pyar aapke us krurata ke samne bilkul chhoti ho jati hai isliye vo jina chahti hai aapke hathon marna nhi isliye vo aise kadam uthati hai jnha vo khush rahe baki koi bhi ladka ya ladki apni marji se kabhi nahi chahega mere bap ki samaj me ijjat km ho iske jimmedar aap pariwar or sabse bada baap hota hai jise samaj ki parwah ijjat ka dar hota hai papa aap ye btao aapki ladki ka rape ye samaj accept kr lega ki falane ki ladki ke sath ye galat hua or ise swikar kr lega aapne to mujhe chalna sikhaya hai kya aapko meri Khushi se badhkar hai ye samaj “” mai ek ladka hu or ye dard ek ladki ki samjh rha hu uspr kya bit rhi hai use kis trh hr roj torcher Kiya ja rha hai “” meri baat agr koi maa baap sune to plz kabhi bhi apne ghar se ek jawan arthi or ek baalig ladki ki lash bs bap dekh sakta hai or koi nhi kyu ki vo itna krur ho chuka hai is samaj me use bs ijjat dikhta hai papa aapki ijjat maine kothe pr jakr nhi bechi hai aapse puchha hai shadi ke liye papa maine koi gunah nhi kiya hai jo aaap nhi Maan rahen hai isliye mai aaj ye kadam uthane pr majbur hu. Or mujhe maaf kr dijiyega or mujhe jindgi bhar is bat ka sharm rahega ki Mera baap jisne mujhe khud na kha kr khilaya ho ho khud fate kapde pehan kr mujhe pehnaya ho vo aaj mere sath aisa kr rha hai isse achha bhagwan is ghar me kisi ladki ko janm na den mai janti hu uske liye pyar kya ye jindgi bhi chhod deni chahiye pr uske samne bs usi ke samne ek krur or nirdayi insan ke samne nhi plz support me
      Cont.insta id..:- david15th

      प्रतिक्रिया

Leave a Comment