गाड़ी दूसरे के नाम ट्रांसफर कैसे करें | Vahan RC Transfer Kaise Kare

गाड़ी ट्रांसफर चार्ज | बाइक ट्रांसफर चार्ज MP | कार ट्रांसफर चार्ज इन UP | कार ट्रांसफर चार्ज इन Delhi | अन्य राज्य के लिए वाहन स्थानांतरण के लिए आरटीओ नियम | गाड़ी नाम ट्रांसफर फार्म | कार ट्रांसफर चार्ज इन राजस्थान | RC Transfer Fees | Vahan RC Transfer

Online Gadi RC Transfer : आज के वक्त में रोजाना हर दिन पुरानी गाड़ियां खरीदी और बेची जाती है, पुरानी गाड़ी बेचने के बाद गाड़ी का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट गाड़ी खरीदने वाले व्यक्ति के नाम पर 14 दिन के अंदर ट्रांसफर करना होता है| जब तक आप गाड़ी का आरसी अपने नाम पर ट्रांसफर नहीं कराते हैं, तब तक खरीदी गई गाड़ी पर आप का मालिकाना हक नहीं होता है| बिना वाहन आरसी के गाड़ी बाहर लेकर जा भी नहीं सकते, ट्रैफिक पुलिस द्वारा पकड़े जाने पर जुर्माना भरना पड़ सकता है। अगर आप भी पुरानी बाइक अथवा कार खरीद या बेच रहे हैं, तो इस आर्टिकल को ध्यान पूर्वक पूरा पढ़िएगा| क्योंकि आज के इस आर्टिकल में हम Vahan RC Transfer Kaise Kare, इसके विषय में पूरी जानकारी विस्तार से बताने वाला हूं|

इसे भी पढ़ें

आरसी बुक डाउनलोड कैसे करें डूप्लीकेट वाहन आर सी कैसे निकालें
आरसी स्टेटस से पता करें गाड़ी का मालिक कौन हैं?गाड़ी का रजिस्ट्रेशन रिन्यूअल कैसे करें

गाड़ी का आरसी ट्रांसफर क्या होता है?| Vahan Registration Transfer Kaise Kare.

जैसा कि आप जानते हैं मोटरसाइकिल, कार अथवा कोई भी वाहन सभी का एक रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (RC) होता है| जिस पर उस गाड़ी का रजिस्ट्रेशन डिटेल्स की पूरी जानकारी होती है| जैसे : गाड़ी का चेचिस नंबर, गाड़ी मालिक का नाम, मालिक का पता, रजिस्ट्रेशन डेट, रजिस्ट्रेशन संख्या, आदि जानकारी होती है| लेकिन जब आप उस गाड़ी को किसी दूसरे व्यक्ति को बेचते हैं अथवा किसी व्यक्ति से पुरानी गाड़ी खरीदते हैं| तो ऐसे में गाड़ी का आरसी गाड़ी खरीदने वाले व्यक्ति के नाम पर ट्रांसफर करना होता है| गाड़ी का आरसी ट्रांसफर करने के बाद ही गाड़ी खरीदने वाले व्यक्ति का गाड़ी पर पूरा अधिकार हो पाता है| इसलिए जब भी आप कोई सेकंड हैंड की गाड़ी खरीदे तो वाहन आरसी अपने नाम ट्रांसफर जरूर करवा लें| चलिए आगे हम वाहन आरसी ट्रांसफर करने की प्रक्रिया के बारे में जानते हैं|

गाड़ी का आरसी आनलाइन ट्रांसफर कैसे करें?

1.गाड़ी दूसरे के नाम ट्रांसफर करने की प्रक्रिया बहुत ही आसान है, अगर आप भी किसी गाड़ी का आरसी ट्रांसफर करना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपको परिवहन विभाग भारत सरकार की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा|

2.यहां पर आपको “ऑनलाइन सेवाएं” पर क्लिक करने के बाद वाहन संबंधित सेवाएं पर क्लिक कर देना है| नया इंटरफेस 👇

3.अगर आप दिल्ली और सिक्किम राज्य के अलावा किसी अन्य राज्य से हैं, तो आपको दिखाई दे रहे तीर के सामने “अन्य राज्य” पर क्लिक कर देना है| नया इंटरफेस 👇

4.यहां पर आपको Gadi Registration Number भरने के बाद Proceed पर क्लिक कर देना है| नया इंटरफेस 👇

5.यहां पर आपको दिखाई दे रहे तीर के सामने “Applly for Transfer of Ownership,Change of Address” पर क्लिक कर देना है| नया इंटरफेस 👇

6.यहां खाली बॉक्स में अपनी गाड़ी का चेचिस नंबर के पिछला 5 अक्षर भरकर Verify Details पर क्लिक कर देना है| नया इंटरफेस 👇

7.यहां पर आपके गाड़ी रजिस्ट्रेशन से लिंक मोबाइल नंबर दिखाई देगा, आप को Generate OTP पर क्लिक करना है| क्लिक करते ही दिखाई दे रहे रजिस्ट्रेशन मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी जाएगा|

8.ओटीपी नंबर वेरीफाई करने के बाद आपको Submit बटन पर क्लिक कर देना है| नया इंटरफेस 👇

9.यहां पर आपको तीर के सामने “Transfer Ownership” पर क्लिक कर देना है| नया इंटरफेस 👇

10.Transferee (Buyer) Details : यहां पर आपको सभी जानकारी जैसे : Purpose, Ownership Type, Sale Amount, New Owner Serial No., New Owner Name, Father Name, Sale Date, New Owner Mobile Number आदि जानकारी भर देना है|

11.Address Details : यहां पर Village, District, Pincode, State आदि जानकारी Parament Address में भर देना है|

12.Insurance Details : यहां पर Insurance Type, Insurance Form date, Insurance Company, Policy Number, Insurance Declared Value भर देना है|

13.यहां पर आपको गाड़ी Transfer Ownership Fee 150 रूपए देना पड़ेगा| इस प्रकार सभी जानकारी भरने के बाद Save As Draft पर क्लिक कर देना है| नया इंटरफेस 👇

14.यहां पर आपको तीर के सामने “Termination of Hypothecation” पर क्लिक करके Termination Date Select कर लेना है|

15.इसके बाद आपको Payment पर क्लिक करके गाड़ी ओनरशिप ट्रांसफर फीस जमा कर देना है| फीस जमा करने के बाद Vahan RC Transfer Slip Download कर लेना हैं| इसके बाद आपको होम पेज पर आ जाना है| और Book Appointment पर क्लिक कर देना है| नया इंटरफेस 👇

16.यहां पर आपको गाड़ी आरसी ट्रांसफर एप्लीकेशन नंबर भरकर Get User Details पर क्लिक कर देना है| यहां पर अपने हिसाब से तारीख और समय चुन सकते हैं|

17.उसी दिन गाड़ी खरीदने वाले तथा गाड़ी बेचने वाले दोनों लोगों को अपना जरूरी दस्तावेज लेकर आरटीओ ऑफिस चला जाना है|

18.आरटीओ ऑफिस द्वारा आपके डॉक्यूमेंट की जांच की जाएगी, जिसके फलस्वरूप गाड़ी का आरसी दूसरे व्यक्ति के नाम ट्रांसफर कर दिया जाएगा|

Vahan RC Transfer के समय लगने वाला दस्तावेज

RC Transfer Online करते समय जब आप आरटीओ ऑफिस जाते हैं, तो आपके पास नीचे दिए गए निम्नलिखित दस्तावेज होने चाहिए| अगर आपके पास ये दस्तावेज नहीं होंगे, तो आप बाइक अपने नाम पर ट्रांसफर नहीं कर पाएंगे|

  • Form 29
  • Form 30
  • गाड़ी की आरसी
  • गाड़ी का इंश्योरेंस
  • पीयूसी सर्टिफिकेट
  • गाड़ी के चेचिस नंबर का प्रिंट आउट (पेंसिल द्वारा)
  • पिन कार्ड (गाड़ी बेचने और खरीदने वाले दोनों का, पेन कार्ड न होने पर फार्म 60 भरें)
  • गाड़ी खरीदने वाले का आधार कार्ड
  • गाड़ी खरीदने वाले का एक रंगीन फोटो
  • गाड़ी खरीदने वाले का जन्म प्रमाण पत्र (पिन कार्ड/आधारकार्ड/मार्कशीट कोई एक)
  • दूसरे राज्य में ट्रांसफर कराने पर – एनओसी सर्टिफिकेट
  • कर निकासी प्रमाण पत्र

Online Vehicle Ownership Transfer करने पर कितना पैसा लगता है?

ऑनलाइन गाड़ी ओनरशिप ट्रांसफर करने की फीस सभी राज्यों में अलग-अलग होती है| इसके अलावा Two Wheelers तथा Four Wheeler वाहन की gadi ownership transfer fees अलग-अलग होती हैं|

Vehicle TypeVehicle Transfer FeesService Fees
दो पहिया (बाइक ट्रांसफर चार्ज)30200
LML100200
Tractor/अन्य100200

Online Vehicle Ownership Transfer करने से पहले महत्वपूर्ण बातें

अगर आप सेकंड हैंड की बाइक या कार खरीद रहे है, तो खरीदने से पहले आपको उस गाड़ी में निम्नलिखित बातों पर ध्यान अवश्य देना चाहिए|

  • गाड़ी का पेपर : जब भी आप कोई सेकंड हैंड की कार या बाइक खरीदने की सोच रहे हैं| तो आपको सबसे पहले उस गाड़ी का पेपर अवश्य चेक कर लेना चाहिए कि वह गाड़ी किसके नाम पर है| गाड़ी का पेपर चेक करने के लिए आप परिवहन विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर चेक कर सकते हैं| अगर आप बिना गाड़ी पेपर चेक किए गाड़ी खरीद लेते हैं, तो हो सकता है आप धोखाधड़ी के शिकार हो जाएं| क्योंकि आज के समय में लोग दूसरों की बाइक चोरी करके बेच देते हैं|
  • गाड़ी का चालान चेक करना : सेकंड हैंड की बाइक या कार खरीदते समय आपको गाड़ी का चालान अवश्य चेक कर लेना चाहिए| कि कहीं ट्रैफिक पुलिस द्वारा गाड़ी पर कोई चलाना न काटा गया हो| और गाड़ी मालिक चालान भरे बिना वह गाड़ी बेच रहा है| गाड़ी का चालान चेक करने के लिए आप ट्रैफिक पुलिस की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर चेक कर सकते है|
  • गाड़ी का कंडीशन चेक करना : अगर आप सेकंड हैंड की गाड़ी खरीद रहे है, तो गाड़ी का कंडीशन चेक करना बहुत ही जरूरी होता है| क्योंकि ऐसा माना जाता है, गाड़ी 1 साल पुरानी होने पर 20 से 30% उसकी कीमत कम हो जाती है| इसलिए जब आप सेकंड हैंड की गाड़ी खरीद रहे हो, तो अच्छे मैकेनिक से उस गाड़ी का कंडीशन चेक करवाएं इसके बाद ही उसे उचित मूल्य पर खरीदे|

FAQ

1.आरसी ट्रांसफर करने में कितने पैसे लगते हैं?

अन्य राज्य के लिए वाहन हस्तांतरण के लिए आरटीओ नियम अलग-अलग होता है| अगर हम दिल्ली में कार आरसी ट्रांसफर की बात करें, तो Delhi Car RC Transfer Fees 500 रुपए हैं|

2.ओनरशिप ट्रांसफर कराने के लिए क्या-क्या डॉक्यूमेंट चाहिए?

Gadi Ka Ownership Transfer कराते समय Form 29, Form 30, गाड़ी की आरसी, गाड़ी का इंश्योरेंस, पीयूसी सर्टिफिकेट, गाड़ी के चेचिस नंबर का प्रिंट आउट,पिन कार्ड , गाड़ी खरीदने वाले का आधार कार्ड, गाड़ी खरीदने वाले का एक रंगीन फोटो, ‌गाड़ी खरीदने वाले का जन्म प्रमाण पत्र, कर निकासी प्रमाण पत्र आदि दस्तावेज लगता है|

3.गाड़ी अपने नाम कैसे करें?

अगर आप सेकंड हैंड की गाड़ी खरीदते हैं, तो गाड़ी अपने नाम करने की प्रक्रिया इस आर्टिकल में ऊपर बताया गया है| जिसे पढ़कर आप बड़ी आसानी से Vahan RC Transfer कर सकते हैं|

4.ओनरशिप ट्रांसफर फॉर्म क्या होता है?

जब हम किसी वाहन का आरसी ओनरशिप ट्रांसफर करते हैं| तो वहां पर गाड़ी नाम ट्रांसफर फार्म 28 की आवश्यकता होती है| जब आप एक शहर से वाहन आरसी ट्रांसफर किसी दूसरे शहर में रहने वाले व्यक्ति के नाम पर कर रहे हैं|

5.सेकंड हैंड गाड़ी खरीदते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

सेकंड हैंड की कार्यवाही खरीदे समय गाड़ी का आरसी, गाड़ी का कंडीशन, गाड़ी का चालान, आदि चेक कर लेना चाहिए| इसके बाद गाड़ी खरीदने के 14 दिन के अंदर गाड़ी आरसी ओनरशिप ट्रांसफर करवा लेना चाहिए|

6.गाड़ी का आरसी ट्रांसफर कैसे होती है?

किसी दूसरे राज्य में Gadi Ka RC Transfer करने के लिए आपके पास ओरिजिनल आरसी की कॉपी, पुराने आरटीओ से मिला एनओसी, वाहन बीमा की कॉपी, फॉर्म 29, फार्म 30, आईडी प्रूफ, स्थाई पता, ₹30 के स्टांप लगे सेल्फ एड्रेस लिफाफा आदि की आवश्यकता होती हैं| 

7.बाइक ट्रांसफर करने में कितना खर्च आता है?

एक स्टेट से दूसरे स्टेट में Bike Transfer करने में कुल खर्च लगभग ₹3500 आती है, और अगर व्यक्ति गाड़ी ट्रांसफर के साथ Registration Number चेंज करता है, तो उसे दोबारा से Road Tax भी जमा करना पड़ता है|

8.आरसी को बैंगलोर में ट्रांसफर करने में कितना समय लगता है?

आरसी स्थानांतरण के साथ दस्तावेजों के साथ आवेदन जमा करने की तारीख से लगभग 30 दिनों का समय लग सकता है|

9.दिल्ली में ऑनलाइन आरसी ट्रांसफर कैसे करें?

दिल्ली में Online RC Transfer करने के लिए आपको परिवहन विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट parivahan.gov.in पर जाकर एक अकाउंट बनाना पड़ता है| तत्पश्चात ऑनलाइन फार्म भरने के बाद ₹525 की फीस जमा करनी होती है| इसी बात कुछ ही दिनों में आरटीओ कार्यालय द्वारा यह प्रक्रिया पूरी कर दी जाती है|

Bike Transfer Karne Ka Tarika (Video) 

पुरानी गाड़ी खरीदते और बेचते समय हमें अक्सर “वाहन आरसी” खरीदे गए व्यक्ति के नाम पर ट्रांसफर करने की जरूरत पड़ती है| किसी दूसरे व्यक्ति के नाम पर Gadi Ka Registration Certificate Transfer Kaise Kare. इसकी जानकारी इस आर्टिकल में विस्तार पूर्वक दी गई है| इसके अलावा अगर आप चाहे तो नीचे दिए गए वीडियो के माध्यम से देख सकते हैं, कि किसी Gadi Ka RC Dusre Ke Name Transfer कैसे की जाती है| 

निष्कर्ष

दोस्तों इस आर्टिकल में हमने Vahan RC Transfer Kaise Kare, इसके विषय में पूरी जानकारी विस्तार से बताई है| इसके अलावा सेकंड हैंड की गाड़ी खरीदे समय जरूरी बातें, और गाड़ी ओनरशिप ट्रांसफर करते समय लगने वाले दस्तावेज आदि के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से बताई हैं| अगर आपको वाहन आरसी ओनरशिप ट्रांसफर करने में कोई परेशानी आ रही है, तो आप कमेंट करके पूछ सकते हैं|

इसे भी पढ़ें 👇

वाहन रजिस्ट्रेशन डिटेल्स कैसे निकालें

उत्तर प्रदेश चालान ऑनलाइन पेमेंट कैसे करें

भारत का नया ट्रैफिक रूल्स क्या है

टोल टैक्स रेट लिस्ट की पूरी जानकारी

रोड एक्सीडेंट क्लेम कैसे करें

8 thoughts on “गाड़ी दूसरे के नाम ट्रांसफर कैसे करें | Vahan RC Transfer Kaise Kare”

Leave a Reply