दादा परदादा का जमीन अपने नाम कैसे करें?I दादा के जमीन पर किसका हक

दोस्तों कई बार हमें अपने दादा परदादा की जमीन को अपने नाम करवाने की जरूरत पड़ती हैI अगर आप भी अपने दादा परदादा का जमीन अपने नाम करवाने की सोच रहे हैंI तो इस आर्टिकल को पूरा विस्तार से पढ़ें, क्योंकि इस आर्टिकल में मैं बताने वाला हूं-Dada Pardada Ka Jameen Apne Name Kaise Kare.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

हमारे सामने कई बार ऐसी विकट परिस्थितियां आ जाती है, कि जब दादा परदादा की मौत के बाद किसी कारणवश पिता की भी मौत हो जाती हैI तो ऐसी स्थिति में हमें पैतृक संपत्ति अपने नाम कराने की आवश्यकता होती हैI या फिर और भी ऐसे कारण होते हैं, जब हमें दादा परदादा की पैतृक संपत्ति अपने नाम करवाने की जरूरत पड़ती हैI 

इस आर्टिकल में आपको पूरा सरकारी नियम के अनुसार यानी लीगल तरीके से दादा परदादा का जमीन अपने नाम करवाने की प्रक्रिया बताई जाएगीI लेकिन पैतृक संपत्ति अपने नाम करवाने से पहले हमें समझ लेना चाहिए बंटवारा क्या होता हैI

अपनी जमीन पर मोबाइल टावर कैसे लगवायें
आबादी की जमीन कैसे चेक करें
पैतृक/पुश्तैनी जमीन का बंटवारा कैसे करें
जमीन की तरमीम कैसे करायें
जमीन का 50 साल पुराना रिकॉर्ड कैसे निकालें

बंटवारा क्या होता है?

किसी भी परिवार में पिता की मौत के बाद या पिता की मौत से पहले संपत्ति का बंटवारा बच्चों के बीच किया जाता हैI बटवारा करते समय इस बात का ध्यान रखें, कि प्रत्येक पुत्र को संपत्ति का बराबर बराबर हिस्सा मिले ताकि किसी प्रकार का कोई विवाद उत्पन्न ना होI बंटवारा मुख्यतः तीन प्रकार का होता हैI

  • आपसी सहमति बंटवारा
  • पंचायत सहमति बंटवारा
  • रजिस्ट्री बंटवारा

आपसी सहमति बंटवारा

आपसी सहमति बंटवारा के अंतर्गत परिवार के सभी सदस्य एक साथ बैठकर आपस में संपत्ति का बंटवारा करते हैंI इसमें परिवार के सभी सदस्यों के मन मुताबिक आपसी बटवारा हो जाता हैI जिसमें किसी प्रकार का कोई झगड़ा झंझट नहीं होता, लेकिन दूसरे दृष्टि से देखा जाए तो आपसी सहमति बंटवारा खतरनाक भी होता हैI 

क्योंकि अगर मान लीजिए आपसी सहमति बटवारा के अंतर्गत एक परिवार में चार भाई हैं, जो पिता की मौत के बाद संपत्ति का आपसी बटवारा करते हैंI चारों भाई आपस में समझ लेते हैं, कि मैं यहां का जमीन लेकर यहां पर रहूंगाI तुम वहां का जमीन लेकर वहां पर रहो, इसी प्रकार से चारों आपस में संपत्ति का बंटवारा कर लेते हैंI

लेकिन भविष्य में जब चारों भाइयों में फिर मतभेद पैदा होता है, कि मुझे यहां का जमीन ना लेकर वहां का जमीन लेना चाहिए थाI तो इसी बात को लेकर फिर चारों भाई में आपस में झगड़ा होता है, इसलिए कभी भी आपसी सहमति बंटवारा नहीं करना चाहिएI क्योंकि भविष्य के दृष्टिकोण से आपसी सहमति बंटवारा खतरनाक साबित होता हैI 

पंचायत सहमति बंटवारा

आपसी सहमति बटवारा के समान ही पंचायती सहमति बटवारा भी होता हैI लेकिन यह बटवारा गांव के सरपंच यानी मुखिया द्वारा किया जाता हैI पंचायती सहमति बंटवारा के अंतर्गत गांव के मुखिया और गांव के कुछ प्रतिष्ठित लोगों की पंचायत बुलाई जाती हैI

इसके बाद अगर मान लीजिए दादा परदादा की जमीन का बंटवारा चार भाइयों में होने वाला हैI तो पंचायत द्वारा आपसी सहमति के हिसाब से चारों भाइयों में जमीन जायदाद को बांट दिया जाता हैI

पंचायती सहमति बटवारा में कभी-कभी एक भाई पंचायत मुखिया से मिलकर अच्छी जमीन अपने हिस्से में करवा लेता हैI इस प्रकार की कहानियां हमारे समाज में दिखाई देती है, इसलिए कभी भी पंचायती सहमति बंटवारा भी नहीं करना चाहिएI क्योंकि पंचायती सहमति बंटवारा में प्रत्येक भाई को बराबर हिस्सा नहीं मिल पाता है, इसके अलावा पंचायत द्वारा प

रजिस्ट्री बंटवारा

आपसी सहमति बंटवारा, पंचायत सहमति बंटवारा से बहुत अच्छा रजिस्ट्री बटवारा माना जाता हैI रजिस्ट्री बटवारा के अंतर्गत जमीन जायदाद को चारों भाइयों में बराबर बराबर हिस्से में बाटी जाती हैI जमीन जायदाद का बंटवारा होने के बाद प्रत्येक भाई के नाम से वह जमीन जायदाद रजिस्ट्री कर दी जाती हैI

यानी जमीन जायदाद का बंटवारा कानूनी प्रक्रिया के हिसाब से होता है, इसलिए दादा परदादा की जमीन का बंटवारा हमेशा रजिस्ट्री बंटवारा के अंतर्गत करना चाहिएI

 ताकि भविष्य में कभी भी किसी प्रकार की परेशानी उत्पन्न ना होंI रजिस्ट्री बटवारा दो प्रकार का होता है- १. अंचल अधिकारी के द्वारा रजिस्ट्री, २. कोर्ट के द्वारा रजिस्ट्री

1.अंचल अधिकारी के द्वारा रजिस्ट्री

जमीन जायदाद का चारों भाइयों में बंटवारा होने के बाद अंचल अधिकारी के द्वारा रजिस्ट्री की जाती हैI यानी कानूनी तौर पर बंटवारे की जमीन पर भाई का मालिकाना हक हो जाता हैI अंचल अधिकारी के द्वारा रजिस्ट्री करने में कम खर्च आता हैI

2.कोर्ट के द्वारा रजिस्ट्री 

जमीन जायदाद का चारों भाइयों में बंटवारा होने के बाद कोर्ट के द्वारा रजिस्ट्री की जाती हैI कोर्ट के द्वारा रजिस्ट्री करने के लिए जमीन के मूल्य के हिसाब से पैसे का हिसाब लगाया जाता हैI इस बंटवारे में किसी प्रकार का पक्षपात नहीं किया जाता है, प्रत्येक भाई को बराबर बराबर हिस्सा कानूनी प्रक्रिया के आधार पर दिया जाता हैI 

दादा परदादा का जमीन अपने नाम कैसे करें?

अपने पूर्वजों की जमीन अपने नाम करवाने से पहले इस आर्टिकल में हमने बंटवारा के बारे में आप लोगों को बता दिया हैI दादा परदादा का जमीन बंटवारे में बताए गये प्रक्रिया के हिसाब से अपने नाम करवा सकते हैंI

लेकिन एक बार फिर मैं आपको बताना चाहता हूं कि कभी भी आपसी सहमति बटवारा से जमीन जायदाद का बंटवारा नहीं करना चाहिएI और ना ही पंचायती सहमति बटवारा से जमीन जायदाद का बंटवारा करना चाहिएI जब भी जमीन जायदाद का बंटवारा करे, तो हमेशा रजिस्ट्री बंटवारा के आधार पर करना चाहिएI

जिस प्रकार नया जमीन खरीदने के बाद आप जमीन का रजिस्ट्री करवाते हैं, ठीक उसी प्रकार से दादा परदादा की जमीन को अपने नाम रजिस्ट्री करवा सकते हैंI जमीन की रजिस्ट्री करवाने के बाद दाखिल खारिज कराना पड़ता है इसके बाद जमीन आपके नाम से हो जाती हैI यानी जमीन पर दादा परदादा का नाम कट के आपका नाम हो जाता है, दादा परदादा की जमीन अपने नाम करने के लिए निम्न प्रक्रिया को अपनाएं-

  • दादा परदादा की जमीन को अपने नाम करवाने के लिए सबसे पहले आपको जमीन से संबंधित सभी दस्तावेज संलग्न कर लेना हैI जैसे : आधार कार्ड, पैन कार्ड, रजिस्ट्री स्टांप, पैसा, फोटो, आदिI
  • सभी डॉक्यूमेंट इकट्ठा करने के बाद आपको अपने क्षेत्र के सर्किल ऑफिस में जाना होगाI सर्किल ऑफिस में जाने के बाद कर्मचारी से दादा परदादा की जमीन को अपने नाम करवाने से संबंधित बात करनी हैI
  • कर्मचारी द्वारा दादा परदादा की जमीन अपने नाम करने से संबंधित बता दिया जाएगाI इसके लिए आपको क्या करना है, कर्मचारी यह भी आपको अच्छे से समझा देता हैI
  • आपको जमीन से जुड़े हुए दस्तावेज और खुद का सभी दस्तावेज रजिस्ट्री ऑफिस में जमा कर देना हैI जमीन की रजिस्ट्री होने के लिए फीस का भुगतान कर देना हैI
  • इसके बाद रजिस्ट्री ऑफिस द्वारा आपके दस्तावेजों की जांच की जाएगी, इसके अलावा जिस परिवार की जमीन अपने नाम करना चाहते हैं, उस परिवार से आपका क्या संबंध हैI उस परिवार में कौन-कौन हैं, आप क्यों उस जमीन को अपने नाम करवाना चाहते हैं, आदि बातों की जांच की जाएगीI 
  • जमीन से जुड़े दस्तावेज तथा अन्य दस्तावेज वेरीफाई करने के बाद रजिस्ट्री ऑफिस द्वारा आप के दादा परदादा की जमीन को आपके नाम कर दिया जाता हैI दादा परदादा की जमीन आपके नाम रजिस्ट्री होने में लगभग 8 दिन से 12 दिन का समय लग जाता हैI
  • दादा परदादा की जमीन को अपने नाम करवाने के बाद आप घर बैठे अपने मोबाइल फोन से गाटा नंबर से यह जानकारी पता कर सकते हैंI कि दादा परदादा की जमीन आपके नाम हो गई है अथवा नहीं 

दादा की पैतृक संपत्ति संबंधित प्रश्नोत्तर

1. पैतृक संपत्ति को अपने नाम कैसे करें?

पैतृक संपत्ति यानि दादा परदादा की जमीन जायदाद को अपने नाम करने की प्रक्रिया इस आर्टिकल में बताया गया हैI जिसे पढ़कर आप बड़ी आसानी से अपने दादा परदादा की जमीन को अपने नाम करवा सकते हैंI

2. दादा के जमीन पर किसका हक होता है?

पैतृक जमीन पर कानूनी रूप से पोते का हक होता हैI

3. क्या मेरे दादा की संपत्ति पैतृक संपत्ति है?

दादा परदादा और आपके पिता से मिली हुई कुल संपत्ति ही पैतृक संपत्ति कहलाती हैI यानी जो संपत्ति परदादा से स्थानांतरित होकर दादा को मिलती है, दादा से स्थानांतरित होकर आपके पिताजी को मिली और आपके पिताजी से स्थानांतरित होकर आपको मिलती है, वही पैतृक संपत्ति कहलाती हैI

4. क्या कोई बेटा अपने दादा की संपत्ति पर दावा कर सकता है?

एक पिता अगर चाहे तो अपनी कमाई हुई संपत्ति से बेटी को बेदखल कर सकता हैI लेकिन अगर पिता को पैतृक संपत्ति मिली हुई है, तो उस पर बेटे का अधिकार होगा यानी दादा की संपत्ति पर बेटे का अधिकार होता हैI 

5. क्या पोती दादा की संपत्ति में अधिकार का दावा कर सकती है?

स्वयं की कमाई से की हुई संपत्ति पर दावा नहीं किया जा सकता हैI लेकिन अगर चार पीढ़ियों की पैतृक संपत्ति है, तो उस पर दादा की संपत्ति पर पोती अपना अधिकार का दावा कर सकती हैI

6. दादा की संपत्ति पर कानूनी वारिस कौन है?

दादा की संपत्ति पर कानूनी वारिस उसकी पत्नी, बेटी, बेटा को माना जाता हैI

7. क्या मेरे पिता मेरे दादा की संपत्ति बेच सकते हैं?

उत्तराधिकारी की सहमति के बिना एक पिता कभी भी पैतृक संपत्ति को बेच नहीं सकता हैI जैसे मान लीजिए अगर एक पिता के 2 पुत्र हैं और पिता को पैतृक संपत्ति विरासत में मिली हुई हैI तो पैतृक संपत्ति पर पोते का भी अधिकार होगा, इसलिए पिता बिना बेटों की सहमति से दादा की संपत्ति को बेच नहीं सकता हैI

8. क्या हम दादा की संपत्ति पर दावा कर सकते हैं?

कानूनी दृष्टिकोण से दादा की संपत्ति पर पोते का अधिकार होता हैI लेकिन अगर पोते का पिता जीवित है, तो पोता दादा की संपत्ति में किसी तरह से हिस्से का दावा नहीं कर सकता हैI

9. महिला की मौत के बाद उसकी प्रॉपर्टी पर पहला हक किसका होता है?

अगर महिला ने मृत्यु से पहले वसीयत नहीं किया है| तो महिला की मृत्यु के बाद उसकी प्रॉपर्टी पर पहला हक उसके बेटे, बेटियों और पति का होता हैI

10. क्या पति की मृत्यु के बाद पत्नी संपत्ति बेच सकती है?

पति की मृत्यु के बाद पति की संपत्ति पर पत्नी का अधिकार होता हैI इसलिए पत्नी अपने स्वेच्छानुसार कोई भी संपत्ति बेच सकती हैI

निष्कर्ष

दोस्तों इस आर्टिकल में हमने विस्तार से बताया है कि कोई भी व्यक्ति अपने दादा परदादा की जमीन को अपने नाम कैसे करवा सकता है। इस प्रक्रिया को विस्तार से बताया है| पैतृक संपत्ति पर पोते का अधिकार होता है, इसलिए कानूनी तौर पर भी आप दादा परदादा की जमीन को अपने नाम कर सकते हैंI

लेकिन इसके कुछ नियम शर्त हैंI अगर आपको दादा परदादा की जमीन अपने नाम करने से संबंधित कोई सवाल है, तो आप कमेंट करके पूछ सकते हैंI

उमंग एप से पीएफ कैसे निकालें
भारत में कुल कितने राज्य हैं?I राज्यों के नाम और राजधानी तथा भाषा
डोमिसाइल सर्टिफिकेट क्या होता हैं
पैन कार्ड नंबर कैसे पता करें
पैन कार्ड में मोबाइल नंबर कैसे चेंज करें
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment