पैतृक/पुश्तैनी जमीन का बंटवारा कैसे करें? 2024 I पुश्तैनी जमीन की रजिस्ट्री

दोस्तों आज के समय में यह सवाल प्रत्येक परिवार के लिए बहुत जरूरी होता है कि Paitrik Jamin Ka Batwara Kaise Kare. क्योंकि प्रत्येक परिवार में वर्तमान पीढ़ी अपने दादा परदादा अर्थात पुश्तैनी जमीन का बंटवारा करना चाहती हैI लेकिन दो भाइयों में जमीन का बंटवारा करने का सही तरीका ना होने के कारण परिवार में आपसी झगड़े होते हैंI परिवार में आपसी झगड़ा ना हो, इसके लिए इस आर्टिकल को पढ़कर आप बिना किसी झगड़े के पुश्तैनी जमीन का बंटवारा कर सकते हैंI

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

परिवार में पीढ़ी दर पीढ़ी जो संपत्ति स्थानांतरण होते हुए वर्तमान पीढ़ी के पास आती है, वही पुश्तैनी संपत्ति कहलाती हैI जैसे : जमीन, प्लाट, भूखंड, चल-अचल संपत्ति आदिI पीढ़ी दर पीढ़ी चली आ रही संपत्ति पर यानी पुश्तैनी जमीन पर परिवार के किन सदस्यों का अधिकार होता हैI पुश्तैनी जमीन परिवार के किन सदस्यों के बीच बांटा जाना चाहिए, इसकी जानकारी इस आर्टिकल में बताया जाएगाI

आज के समय में प्रत्येक परिवार पुश्तैनी जमीन बांटना चाहता है और सोचता है कि बिना किसी झगड़े का आपसी सहमति से पुश्तैनी जमीन का बंटवारा हो जाएI लेकिन ऐसा हो नहीं पाता है, इस आर्टिकल में मैं आपको पुश्तैनी जमीन का बटवारा करने का कई तरीका बताने वाला हूंI इसके अलावा पुश्तैनी जमीन का बंटवारा का नियम और प्रक्रिया के बारे में भी बताऊंगा| ताकि बिना किसी झगड़ा लड़ाई के कोई भी परिवार अपने पुश्तैनी जमीन का बंटवारा कर सकेI

जमीन की तरमीम कैसे करायें
जमीन का 50 साल पुराना रिकॉर्ड कैसे निकालें
दादा परदादा का जमीन अपने नाम कैसे करें
आबादी की जमीन कैसे चेक करें

पैतृक जमीन/संपत्ति क्या होती है?

जो जमीन अथवा संपत्ति एक पीढ़ी से दूसरे पीढ़ी के पास स्थानांतरण होती रहती है, उसी पैतृक जमीन या पुश्तैनी जमीन कहते हैंI जैसे : परदादा की मौत के बाद उनकी जमीन दादा को मिली होगी, दादा की मौत के बाद उनकी जमीन पिता को मिली होगी, पिता की मौत के बाद उनकी जमीन बच्चों को मिली होगीI तो बच्चों को मिली हुई यह जमीन पुश्तैनी जमीन कहलायेगीI

यानी पिछले तीन चार पीढ़ियों से कोई भी जमीन अथवा संपत्ति स्थानांतरण होते हुए चली आ रही है, तो वह वर्तमान परिवार के सदस्यों के लिए पुश्तैनी जमीन/संपत्ति कहलाएगीI पुश्तैनी संपत्ति को परिवार के प्रत्येक सदस्यों में बराबर बराबर हिस्सा से बांट दिया जाता हैI लेकिन पुश्तैनी जमीन को परिवार में बांटने के लिए कानूनी प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है, जो आगे इस आर्टिकल में जानेंगेI

पुश्तैनी जमीन/पैतृक संपत्ति पर किसका हक होता है?

पुश्तैनी जमीन अथवा पैतृक संपत्ति पर परिवार के सदस्यों का हक होता हैI लेकिन अगर हिंदू उत्तराधिकारी संशोधन कानून 2005 की बात करें, तो पैतृक संपत्ति पर बेटे और बेटियों का बराबर का अधिकार होता हैI कानून संशोधन से पहले पैतृक संपत्ति पर केवल पुरुषों यानी पुत्रों का अधिकार होता था और पुश्तैनी जमीन को केवल बेटों के बीच बांटा जाता थाI

लेकिन अब उत्तराधिकारी अधिनियम 1956 के प्रावधान 6 में संशोधन करके पुश्तैनी जमीन पर बेटियों के अधिकार को भी शामिल कर दिया गया हैI यानि अब पुश्तैनी जमीन अथवा पैतृक संपत्ति पर बेटी और बेटे दोनों का हक होगाI अब किसी भी पैतृक संपत्ति को पिता, बेटा और बेटी के बीच बराबर बराबर बांटा जाता हैI हां यह अलग बात है कि बेटी की शादी होने के बाद वह ससुराल चली जाती है और अपनी मर्जी से अपने हिस्से में आए हुए पैतृक संपत्ति को पिता और भाइयों के बीच बांट देती हैI

पैतृक/पुश्तैनी जमीन का बंटवारा कैसे करें?

दोस्तों जैसा कि इस आर्टिकल में मैंने आपको बताया पैतृक जमीन पर बेटे और बेटी का बराबर का हक होता हैI लेकिन भारत के प्रत्येक राज्यों में पैतृक जमीन के बंटवारे को लेकर अलग-अलग नियम कानून बनाए गए हैंI इस आर्टिकल में हम आपको बिहार राज्य का पैतृक जमीन के बंटवारे को लेकर नियम कानून क्या है, इसके विषय में बताने वाले हैंI कुछ विशेष नियमों का ध्यान रखा जाता हैI

आपसी सहमति से पैतृक जमीन का बंटवारा कैसे करें?

  • अगर आप पुश्तैनी जमीन को आपसी सहमति से बांटना चाहते हैं, तो परिवार के प्रत्येक सदस्य में आपसी सहमति अवश्य होना चाहिएI
  • बिना किसी लड़ाई झगड़े के आपसी संपति बंट जाए तो बहुत अच्छा हैI लेकिन यदि किसी सदस्य द्वारा आपत्ति जताई जाती है, तो आपसी सहमति से पैतृक संपत्ति का बंटवारा मुश्किल हो जाता हैI
  • बिहार राज्य में पुश्तैनी जमीन का बंटवारा बहुमत के आधार पर होता हैI जैसे मान लीजिए अगर किसी परिवार में 6 सदस्य हैं, जिसमें से 4 सदस्य पुश्तैनी जमीन का बंटवारा चाहते हैंI तो उन्हें बंटवारे का परमिशन मिल जायेगाI लेकिन कई राज्यों में इस प्रकार की सहमति को मान्यता नहीं दी जाती हैI
  • आपसी सहमति से पैतृक जमीन का बंटवारा हो जाता है, लेकिन बंटवारा होने के बाद जमीन की रजिस्ट्री अवश्य करा लेना चाहिएI

पंचों की सहमति से Paitrik Jamin Ka Batwara Kaise Kare.

  • आज भी बहुत से गांव में ऐसी परंपरा है, कि 5 पंचों द्वारा जमीन का निर्णय किया जाता हैI पंचों के द्वारा ही परिवार में पुश्तैनी जमीन का बराबर बराबर बंटवारा किया जाता हैI
  • पंचों द्वारा पुश्तैनी जमीन को बांटते समय परिवार के प्रत्येक सदस्य को बराबर बराबर बोलने का मौका दिया जाता हैI इसके बाद ही जमीन का बंटवारा किया जाता हैI
  • पंचों की सहमति से पैतृक जमीन का बंटवारा होते समय गांव के मुखिया और गांव के सम्मानित पांच व्यक्तियों का उपस्थित होना आवश्यक होता हैI 
  • इसके अलावा बंटवारे के दौरान एक पंच लाइन तैयार की जाती है, जिसे पंचनामा कहते हैंI पैतृक संपत्ति के बंटवारे के बाद इस पंचनामा पर पांचों पंचों के हस्ताक्षर होते हैंI
  • पंचों की सहमति से पुश्तैनी संपत्ति का बंटवारा होने के बाद अलग-अलग खातेदारों के अनुसार जमाबंदी प्रारूप तैयार किया जाता हैI इसके अलावा पंचों की सहमति से कृषि भूमि का बंटवारा भी कर सकते हैंI
  • वर्तमान समय में भारत में बिहार इसके अलावा अन्य कुछ राज्य है, जहां पर पंचायती बंटवारे को मान्यता दी गई हैI जिसमें पुश्तैनी जमीन का बंटवारा पंचायत की सहमति से परिवार के सदस्यों के बीच हो जाता हैI

पुश्तैनी जमीन की रजिस्ट्री कैसे करें?

  • पुश्तैनी जमीन के बंटवारे के बाद जमीन की रजिस्ट्री बंटवारा को बहुत महत्व दिया जाता हैI 
  • पुश्तैनी जमीन की रजिस्ट्री होने के बाद अदालत द्वारा रजिस्ट्री के बंटवारे की जांच की जाती हैI इसके बाद हकदारों को पुश्तैनी जमीन की रजिस्ट्री ट्रांसफर कर दी जाती हैI 
  • पुश्तैनी जमीन के बंटवारे के बाद कानूनी तौर पर पुश्तैनी जमीन की रजिस्ट्री अवश्य करवाना चाहिएI क्योंकि पुश्तैनी जमीन की रजिस्ट्री होने के बाद भविष्य में होने वाले वाद-विवाद से बचा जा सकता हैI

पुश्तैनी जमीन/पैतृक संपत्ति की रजिस्ट्री के लिए दस्तावेज 

दोस्तों अगर आप के परिवार में पुश्तैनी जमीन का बंटवारा हो चुका है, और आप पुश्तैनी संपत्ति का कानूनी हक प्राप्त करने के लिए रजिस्ट्री करवाना चाहते हैंI तो आपके पास निम्नलिखित दस्तावेज होने चाहिएI

  • शपथ पत्र
  • राशन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • जमीन रजिस्ट्री
  • उस व्यक्ति का मृत्यु प्रमाण पत्र, जिसके हिस्से की जमीन का बंटवारा किया जा रहा है- जैसे : दादा, पिता
  • जमीन से संबंधित दस्तावेज
  • ईमेल आईडी
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

पुश्तैनी जमीन/पैतृक संपत्ति से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें

  • एक बार अगर पुश्तैनी जमीन वर्तमान परिवार के सदस्यों के नाम हो जाती है, तो उस पर कानूनी रूप से भी वर्तमान सदस्यों का हक होता हैI
  • अगर पुश्तैनी जमीन परिवार के किसी सदस्य को नहीं मिल रही है, तो वह पुश्तैनी जमीन पर अधिकार प्राप्त करने के लिए कोर्ट में मुकदमा भी दायर कर सकता हैI
  • अगर पुश्तैनी जमीन को बेचना है तो परिवार के सभी हकदार सदस्यों से इजाजत लेनी पड़ती हैI बगैर उनकी इजाजत का कोई भी व्यक्ति पैतृक संपत्ति को बेच नहीं सकता हैI 
  • पैतृक संपत्ति पर यानी दादा परदादा की जमीन पर पिता, पुत्र और पुत्री तीनों का बराबर का अधिकार होता हैI 
  • पैतृक संपत्ति पीढ़ी दर पीढ़ी स्थानांतरण होती रहती हैI इसलिए वर्तमान परिवार का ही पैतृक संपत्ति पर अधिकार होता हैI
  • एक बार पैतृक संपत्ति का बंटवारा होने के बाद प्रत्येक परिवार के सदस्य को मिला हिस्सा उसकी खुद की संपत्ति बन जाती हैI
  • गैर विभाजित परिवार में पैतृक संपत्ति की देखरेख परिवार का मुखिया करता हैI लेकिन जब बात मालिकाना हक की होती है, तो पैतृक संपत्ति पर परिवार के अन्य सदस्यों का भी अधिकार होता हैI 

पैतृक जमीन संबंधित प्रश्नोंत्तर

1. क्या पैतृक संपत्ति का बंटवारा हो सकता है?

पैतृक संपत्ति पर वर्तमान परिवार का अधिकार होता है| परिवार में पिता पुत्र और पुत्री तीनों का पैतृक संपत्ति पर बराबर का अधिकार होता हैI इसलिए पंचों की सहमति से, आपसी सहमति से पैतृक संपत्ति का बंटवारा पिता पुत्र और पुत्री के बीच बराबर होना चाहिएI हां यह अलग बात है कि बेटी की शादी होने के बाद वह ससुराल चली जाती है और अपने हिस्से की पैतृक संपत्ति अपने भाई अथवा पिता को दे सकती हैI

2. पैतृक संपत्ति में अपना हिस्सा कैसे ले?

पैतृक संपत्ति में अपना हिस्सा लेने के लिए आप परिवार के अन्य हक सदस्यों से बातचीत करके आपसी सहमति से पैतृक संपत्ति में हिस्सा ले सकते हैंI अगर आपको पैतृक संपत्ति में अपना हिस्सा नहीं मिल रहा है, तो आप अदालत में मुकदमा दायर कर सकते हैंI

3. 4 भाइयों में जमीन का बंटवारा कैसे करें?

4 भाइयों के बीच संपत्ति का बंटवारा होते समय तीनों भाइयों को वहां पर उपस्थित होना चाहिएI इसके बाद तीनों भाई आपसी सहमति पत्र से या पंचों की सहमति से पुरखों की जमीन का बंटवारा कर सकते हैंI लेकि अगर चारों भाइयों के बीच सहमति बंटवारा नहीं हो पा रहा है, तो ऐसी स्थिति में अदालत की सहमति से बंटवारा कराया जाता हैI 

4. क्या मैं 12 साल बाद पैतृक संपत्ति का दावा कर सकता हूं?

अगर कोई व्यक्ति संपत्ति का मालिक नहीं है लेकिन फिर भी कम से कम 12 साल से संपत्ति पर कब्जा करके रह रहा हैI और इन 12 सालों के दौरान संपत्ति मालिक ने उसे बेदखल करने के लिए कोई कानूनी प्रयास नहीं किया हैI तो ऐसी स्थिति में वह व्यक्ति प्रतिकूल कब्जे के लिए संपत्ति पर दावा कर सकता हैI

5. पैतृक संपत्ति पर दावा करने की समय सीमा क्या है?

पैतृक संपत्ति पर दावा करने की समय सीमा लगभग 12 वर्ष की होती हैI हालांकि दावे में देरी का कारण अगर सही है, तभी उसे अदालत द्वारा स्वीकार किया जाता हैI लेकिन अगर आप पैतृक संपत्ति को बेचने से रोकना चाहते हैं, तो आपको बिक्री अवधि के 3 साल के भीतर दीवानी मुकदमा करना होगाI 

6. क्या पिता पैतृक संपत्ति की वसीयत कर सकता है?

दोस्तों जैसा कि इस आर्टिकल में हमने आपको बताया है कि पैतृक संपत्ति पर पिता, पुत्र और पुत्री तीनों का अधिकार होता हैI इसलिए केवल पिता अकेले ही पैतृक संपत्ति से जुड़ा फैसला नहीं ले सकता हैI 

7. क्या मेरे पिता पैतृक संपत्ति बेच सकते हैं?

पैतृक संपत्ति पर पिता, पुत्र, पुत्री तीनों का अधिकार होता हैI इसलिए बिना पुत्र और पुत्री की सहमति लिए पिता अकेले पैतृक संपत्ति को बेच नहीं सकता हैI 

8. जमीन का बंटवारा कौन करता है?

दो पक्षों के बीच जमीन का बंटवारा पंचों की सहमति से किया जाता हैI या आपसी सहमति से जमीन का बंटवारा किया जाता हैI

9. क्या हम दादा की संपत्ति पर दावा कर सकते हैं?

दादा द्वारा खुद की कमाई से अर्जित की गई संपत्ति पर पोते का कोई अधिकार नहीं होता हैI दादा अपनी खुद से अर्जित की गई संपत्ति को अपने मनचाहे व्यक्ति को दे सकता है| लेकिन दादा के पास जो पैतृक संपत्ति है, उस पर पोते का अधिकार होता हैI

10. क्या बहु ससुर की संपत्ति में हिस्सेदारी का दावा कर सकती है?

एक बहू ससुर की पैतृक संपत्ति और ससुर द्वारा स्वअर्जित की गई संपत्ति पर कोई दावा नहीं कर सकती हैI लेकिन अपने पति की मृत्यु के बाद एक विधवा के रूप में पति द्वारा स्वअर्जित की गई संपत्ति पर उसका अधिकार होता हैI 

निष्कर्ष

दोस्तों इस आर्टिकल में हमने Paitrik Jamin Ka Batwara Kaise Kare. इसके विषय में विस्तृत जानकारी बताया हुआ हैI पैतृक संपत्ति या पुश्तैनी जमीन पर वर्तमान परिवार के सदस्य पिता, पुत्र और पुत्री का अधिकार होता हैI पुश्तैनी जमीन का बंटवारा पंच की सहमति से, आपसी सहमति से अथवा कानून की मदद से किया जाता हैI पुश्तैनी जमीन का बंटवारा करने से संबंधित अगर आपका कोई सवाल है, तो कमेंट करके पूछ सकते हैंI 

मोबाइल से जमीन कैसे नापे
बिहार जमीन का पुराना रिकॉर्ड कैसे निकालें
झारखंड जमीन का पुराना रिकॉर्ड कैसे निकालें
भूमि पूजन किस दिशा में करें, भूमि पूजन मुहूर्त
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment