यूनियन बैंक की शिकायत कैसे करें?। कस्टमर केयर नंबर और कुछ सावधानियां 

Union Bank ke Shikayat Kaise Kare : दोस्तों अगर आपका बैंक अकाउंट यूनियन बैंक में है, तो आपको यूनियन बैंक का कस्टमर केयर नंबर अवश्य मालूम होना चाहिए। क्योंकि यूनियन बैंक से जुड़ी हुई किसी प्रकार के समस्या के निवारण तथा शिकायत के लिए यूनियन बैंक आफ इंडिया कस्टमर केयर नंबर पर संपर्क कर सकते हैं।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इसलिए आज के आर्टिकल में हम आपको यूनियन बैंक का कस्टमर केयर नंबर, ईमेल आईडी, एटीएम कार्ड कस्टमर केयर नंबर, आदि के बारे में जानेंगे। इस आर्टिकल को पढ़कर आप यूनियन बैंक द्वारा दी जाने वाली सभी सर्विस का कस्टमर केयर नंबर जान सकते हैं।

यूनियन बैंक का KYC फार्म कैसे भरें
यूनियन बैंक का एटीएम कार्ड ब्लॉक कैसे करें
यूनियन बैंक का स्टेटमेंट कैसे निकालें
यूनियन बैंक का चेक कैसे भरें
यूनियन बैंक ग्राहक सेवा केंद्र कैसे खोलें

यूनियन बैंक की शिकायत कैसे करें?

दोस्तों यहां पर मैं आपको यूनियन बैंक ऑफ इंडिया द्वारा दी जाने वाली सभी सर्विस का कस्टमर केयर नंबर बताने वाला हूं। जिस पर आप फोन करके सर्विस से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा शिकायत भी दर्ज कर सकते हैं।

यूनियन बैंक कस्टमर केयर नंबर

यूनियन बैंक ऑफ इंडिया द्वारा अपने कस्टमर के लिए ग्राहक सेवा हेल्पलाइन नंबर शुरू किया गया है।

Toll Free Number1800 22 2244, 1800 208 2244
Helpline Number8025302510, 8025300175
Charged Number8061817110
Customer Care Email IDcustomercare@unionbankofindia.com

NRI कस्टमर केयर नंबर

यूनियन बैंक आफ इंडिया द्वारा एनआरआई कस्टमर की प्रॉब्लम को समाधान करने के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया है।

हेल्पलाइन नंबर8025302510, 8025300175

यूनियन बैंक जनधन अकाउंट संबंधित हेल्पलाइन नंबर

अगर आपने यूनियन बैंक आफ इंडिया में प्रधानमंत्री जनधन खाता खुलवाया है। तो यूनियन बैंक द्वारा ऐसे खाता धारक के लिए भी हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। जिस पर संपर्क करके जनधन खाता से जुड़ी जानकारी जैसे-मिनिमम बैलेंस, चार्जेस, मिनी स्टेटमेंट, डॉक्यूमेंट आदि से जुड़ी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Toll Free Number1800 22 2243

SMS बैंकिंग कस्टमर केयर नंबर

यूनियन बैंक द्वारा अपने खाताधारक के लिए एसएमएस बैंकिंग सुविधा भी चालू की गई है। यानी आप अपने रजिस्टर मोबाइल नंबर से केवल एसएमएस भेजकर डेबिट कार्ड ब्लॉक करना, चेकबुक स्टेटस, मिनी स्टेटमेंट, बैलेंस इंक्वारी आदि कर सकते हैं। अलग-अलग कार्यों के लिए मैसेज टाइप करके बैंक अकाउंट से लिंक मोबाइल नंबर द्वारा इस नंबर- 9223008486 पर भेजना होता है।

निम्न कार्य के लिएमैसेज टाइप करें भेजें 
Cheque StatusUCSR9223008486
Mini StatementUMNS9223008486
Balance EnquiryUBAL9223008486
ATM & Debit CardUBLOCK9223008486

सिटी वाईज हेल्पलाइन नंबर

सिटीनंबर
कोलकाता033 22814403
पुणे020 25552002
विशाखापट्नम0891-2746635/2506312
अहमदाबाद079-26580724/26582025
चेन्नई044-23460830/23460779
बैंगलोर080-22958261/22273903
मुंबई022-026810301/026810325
लखनऊ0522-2306894/2306915
उदयपुर0294 2411272
भुवनेश्वर0674-2538500
हेदराबाद040-23420606/23420607
चंडीगड़0172-2703301
त्रिवेद्रम0471-2561111/2561120
दिल्ली011-23218546

यूनियन बैंक अधिकारी से शिकायत कैसे करें?

यहां पर हमने यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के सभी बड़े अधिकारी के बारे में बताया है। आप “शिकायत करें” पर क्लिक करके अपनी शिकायत दर्ज कर सकते हैं।

विभागीय प्रमुखशिकायत करें
बैंकिंग लोकपाल योजनाशिकायत करें
मुख्य शिकायत अधिकारीशिकायत करें
मुख्य सर्तकता अधिकारीशिकायत करें
मुख्य ग्राहक सेवा अधिकारीशिकायत करें

साइबर सुरक्षा ग्राहक जागरूकता मार्गदर्शिका

यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया द्वारा अपने ग्राहकों के लिए साइबर सुरक्षा से संबंधित कुछ चेतावनियां दी गई है। जिसका पालन करके बैंक खाता धारक किसी भी धोखाधड़ी से बच सकता है।

मनी म्यूल धोखाधड़ी

इस धोखाधड़ी के अंतर्गत सामान्य नागरिक को नौकरी दिलवाना, कम टाइम में ज्यादा पैसा कमाना आदि जैसे प्रलोभन दिए जाते हैं। जिसमें व्यक्ति आसानी से फंस जाता है, और अपराधी अदृश्य रहता है। इसके अलावा गलत तरीके से कमाई गये पैसे आम आदमी के अकाउंट में ट्रांसफर किया जाता है। इसके बाद वह पैसा किसी और के अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाता है।

जालसाजो की कार्यप्रणाली

जालसाज विभिन्न संचार माध्यम जैसे सोशल मीडिया, नौकरी वेबसाइट, डेटिंग वेबसाइट, ईमेल आदि से आपसे संपर्क करते हैं। संपर्क करने के बाद आपको आकर्षक और लुभाने प्रस्ताव देते हैं। जैसे – नौकरी के अवसर प्रदान करना, आसानी से पैसा कमाने का तरीका, रोमांटिक संबंधों का संबंध, मनगढ़ंत कहानियां आदि।

इसके बाद जालसाज आपको अपनी बातों से प्रभावित कर लेता है। और आपके बैंक अकाउंट में पैसा भेजने की स्वीकृति ले लेता है। इसके बाद धोखाधड़ी और चोरी से कमाये गये पैसों को आपके बैंक अकाउंट में भेज देता है।

इस प्रकार से आप मनी म्यूल बन जाते हैं। इसके बाद आपको कहा जाता है कि उन पैसों को किसी अन्य खाता में ट्रांसफर कर दो। या फिर मुझसे अपना इंटरनेट बैंकिंग या मोबाइल बैंकिंग पासवर्ड साझा करो।

मनी म्यूल धोखाधड़ी से बचने का उपाय

  • किसी अनजान व्यक्ति के पैसे को अपने अकाउंट में ट्रांसफर ना करें।
  • दो अनजान व्यक्ति के बीच पैसों के लेनदेन के लिए मध्यस्थ ना बने।
  • अच्छी सैलरी वाली नौकरी देना, ज्यादा मुनाफा कमाना, अवैध संबंध का लालच, आदि के लिए किसी व्यक्ति के अकाउंट में पैसा ना भेजें।‌
  • इसके अलावा सोशल मीडिया पर आज के समय में चल रहे ऑनलाइन रिश्तो से दूर रहें। जिसमें कम समय में दोस्ती करके पैसों का लेनदेन होता है।
  • कभी भी अपनी वित्तीय जानकारी यानि पैसों के लेनदेन को किसी व्यक्ति के साथ साझा ना करें।

आधार सक्षम भुगतान प्रणाली धोखाधड़ी

गलत तरीके से उंगलियों का निशान लेना और उसका उपयोग पीड़ित व्यक्ति के खाते तक पहुंचना और पैसा निकालने के लिए किया जाता है। 

जालसाजों की कार्य प्रणाली

जालसाज कई तरीके जैसे वेबसाइट, सिम कार्ड आउटलेट, दुकान या नकली मोबाइल ऐप के माध्यम से बायोमैट्रिक डाटा को इकट्ठा करते हैं। बायोमैट्रिक डाटा को इकट्ठा करने के बाद उसका प्रयोग आधार से जुड़े बैंक अकाउंट से पैसे चुराने के लिए करते हैं।

आधार सक्षम भुगतान प्रणाली धोखाधड़ी से बचने का उपाय

  • अगर आपके पास पैसों के लेनदेन से संबंधित कोई मैसेज आता है, तो सबसे पहले उसे मैसेज की जांच करें और संदेह होने पर अपने बैंक से संपर्क करें।
  • अपना बायोमैट्रिक डाटा कभी किसी के साथ शेयर ना करें, और अगर शेयर करना जरूरी है तो शेयर करते समय सावधान रहें।
  • मोबाइल में डाउनलोड किए गए किसी भी मोबाइल एप्लीकेशन में बायोमेट्रिक एक्सेस की अनुमति देने से पहले सोच समझ लें।
  • इसके अलावा अपने बायोमेट्रिक को एमआधार एप या UIDAI या 1947 पर मैसेज भेजकर लॉक कर सकते हैं।

नकली ऐप के माध्यम से केवाईसी धोखाधड़ी

आज के समय में सभी बैंकों द्वारा केवाईसी करना अनिवार्य कर दिया गया है। इसीलिए जालसाज केवाईसी के माध्यम से भी धोखाधड़ी करते हैं। इसके अंतर्गत जालसाज पीड़ित को विश्वास दिलाते हैं, कि आपका बैंक अकाउंट बंद हो गया है जिसका तत्काल केवाईसी करना आवश्यक है।

अगर व्यक्ति उनकी बातों में आ जाता है तो मोबाइल एप्लीकेशन डाउनलोड करना या किसी लिंक पर क्लिक करना, जिसके माध्यम से बैंक अकाउंट का संचालन करके डेटा‌‌ प्रस्तुत करने का आग्रह करते हैं। सारी जानकारी मिल जाने के बाद वे आपके बैंक अकाउंट से पैसा निकाल लेते हैं।

जालसाजों की कार्य प्रणाली

  • सबसे पहले घोटालेबाज फोन कॉल्स या एसएमएस के माध्यम से आपसे संपर्क करते हैं। और बैंक अकाउंट अवरूद्ध होने के संबंध में केवाईसी करने की बात करते हैं।
  • इसके बाद आपको मोबाइल एप डाउनलोड करने या स्क्रीन शेयर करने या किसी लिंक पर क्लिक करके केवाईसी जानकारी प्रस्तुत करने के लिए बहकाया जाता है।
  • इसके बाद घोटालेबाज द्वारा स्क्रीन में दर्ज जानकारी को कैप्चर कर लिया जाता है।
  • उसके बाद इसी जानकारी के माध्यम से जालसाज आपके बैंक खाता तक पहुंचकर पैसे निकाल लेता है।

नकली ऐप केवाईसी धोखाधड़ी से बचने का उपाय

  • अगर फोन कॉल पर आपसे कहा जाता है कि आपका अकाउंट बंद हो गया है आपको केवाईसी करना होगा। तो ऐसी स्थिति में सबसे पहले हमेशा अपने बैंक से संपर्क करें। या पासबुक पर दिए गए हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करें।
  • कभी भी अज्ञात व्यक्ति या असत्यापित स्रोतों से प्राप्त लिंक पर क्लिक न करें।
  • अनजान व्यक्ति द्वारा किए गए फोन कॉल पर कभी भी अपने मोबाइल में कोई भी एप्लीकेशन डाउनलोड ना करें।
  • किसी भी अनजान व्यक्ति से कभी भी अपना मोबाइल नंबर, बैंक अकाउंट नंबर, मोबाइल बैंकिंग पासवर्ड, इंटरनेट बैंकिंग पासवर्ड, एटीएम पिन कार्ड नं, एटीएम नंबर शेयर ना करें।

Union Bank ke Shikayat Kaise Kare. (FAQ)

1. मैं यूनियन बैंक ऑनलाइन से शिकायत कैसे करूं?

दोस्तों इस आर्टिकल में यूनियन बैंक से संबंधित सभी सेवाओं का कस्टमर केयर नंबर इसके अलावा बड़े बैंक अधिकारियों का नंबर दिया गया है। जिस पर अपनी शिकायत कर सकते हैं।

2. यूनियन बैंक के कस्टमर केयर का नंबर क्या है?

ऑल इंडिया टोल फ्री नंबर यूनियन बैंक – 1800-22-2244/1800-208-2244

3. यूनियन बैंक कस्टमर केयर नंबर दिल्ली

011-23218546

4. यूनियन बैंक कस्टमर केयर नंबर लखनऊ, उत्तर प्रदेश

0522-2306894/2306915

SBI बैंक एटीएम फ्रेंचाइजी कैसे लें
SBI खाता का बैलेंस कैसे चेक करें
आधार कार्ड से होम लोन कैसे लें
बंधन बैंक बिजनेस लोन अप्लाई कैसे करें
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment