मंकीपाॅक्स वायरस क्या हैं | Monkeypox Virus के लक्षण | रोकथाम और उपचार

Monkeypox Virus Kya Hai | मंकीपॉक्स वायरस क्या होता है| मंकीपॉक्स वायरस के लक्षण | मंकीपॉक्स वायरस की रोकथाम | मंकीपॉक्स वायरस इन हिंदी | Monkeypox Virus in Hindi

पूरी दुनिया में कोरोना वायरस का कहर छाया हुआ है | वैज्ञानिक कोरोना वायरस से निजात पाने की लिए अभी प्रयास ही कर रहे थे कि एक नया वायरस ने जन्म ले लिया जिसका नाम है मंकीपॉक्स वायरस | तो चलिए दोस्तों इस आर्टिकल में हम जानने का प्रयास करेंगे Monkeypox Virus Kya Hai

मंकीपॉक्स वायरस (Monkeypox Virus) क्या है?| Monkeypox Virus Kya Hai

विशेषज्ञों के अनुसार मंकीपॉक्स वायरस दो प्रजातियों से मिलकर बनी है पश्चिम अफ्रीकी तथा मध्य अफ्रीकी | उष्णकटिबंधीय वर्षा वनों के पास, मध्य और पश्चिम अफ्रीकी देशों के कुछ हिस्सों में यह वायरस ज्यादातर फैला हुआ है | स्माॅलपॉक्स वायरस की तरह अधिकांश करके मंकीपॉक्स वायरस भी है | मंकीपॉक्स वायरस पीड़ित व्यक्ति के केवल छींक के संपर्क में आने से आप भी इस बीमारी के शिकार हो जाते हैं |

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार 1970 में मंकीपॉक्स के मामले पहली बार इंसानों में सामने आए थे| और 1958 में मंकीपाक्स के शुरुआती मामले आने शुरू हो गए थे| लेकिन 1970 कांगो अफ्रीका में इंसानों में Monkeypox Virus का पहला केस आया गया था| चेचक फैमिली से रिलेटेड मंकी वायरस भी एक पाक्स जैसी बीमारी है| किसी संक्रमित जानवर या पशु उत्पादों के संपर्क में आने से या शरीर के तरल पदार्थ के संपर्क से या सांसों के माध्यम से मंकीपॉक्स वायरस शरीर के अंदर फैल जाता है|

यह वायरस अधिकांश करके बंदरों से फैली हुई है तभी उसका नाम मंकीपॉक्स वायरस रखा गया | इस वायरस से संक्रमित व्यक्ति को छूने या उसकी छींक, खांसी के संपर्क में आने से यह बीमारी बहुत आसानी से दूसरे इंसान में प्रवेश कर जाती है |

मंकीपॉक्स वायरस कैसे फैलता है?

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार कहा गया है कि एक मनुष्य से दूसरे मनुष्य के बीच संक्रमण काफी कम होता है| लेकिन एक वायरस संक्रमित व्यक्ति जब खांसता है, छींकता है| तो उस संक्रमित व्यक्ति के मुंह से वायरस निकल कर सामने वाले व्यक्ति में प्रवेश कर जाते हैं| और धीरे-धीरे वह स्वस्थ व्यक्ति भी वायरस की चपेट में आ जाता है| इसके अलावा संक्रमित जानवरों के शरीरिक तरल पदार्थ या खून या स्किन के संपर्क में आने के कारण भी वायरस बड़ी आसानी से इंसानों में फैल जाता है|

Monkeypox Virus कितना खतरनाक है |

विशेषज्ञों के मुताबिक इस वायरस से संक्रमण की संभावना काफी कम है और इस वायरस से मरने वाले लोगों की मृत्युदर 11% तक जा सकती है | स्लाॅमपाॅक्स से बचाने वाली वैक्सीन मंकीपॉक्स वायरस के खिलाफ भी असरकारक है |

मंकीपॉक्स वायरस के लक्षण

जब कोई व्यक्ति Monkeypox Virus से संक्रमित होता है तो उसे बुखार, कमर में दर्द, मांसपेशियों में दर्द, सिर दर्द सूजन होता हैं | चिकनपॉक्स की तरह इसमें भी दाने होते हैं जो पूरे शरीर में बुखार के साथ दिखाई देने लगते हैं | मंकीपॉक्स वायरस की अवधि शरीर में 14-21 दिनों तक रहती है |

Monkeypox Virus रोकथाम और उपचार

हालांकि अभी तक मंकीपॉक्स वायरस का कोई इलाज नहीं निकला है, लेकिन इस वायरस के शरीर में प्रवेश करने के बाद आप स्मालपॉक्स का टीका लगवा सकते हैं जो कि इस बीमारी को रोकने में काफी हद तक मददगार होती है | वैसे अभी तक Monkeypox Virus के लिए कोई विशेष प्रकार की ट्रीटमेंट का पता नहीं चला है| लेकिन मंकीपॉक्स और चेचक के खिलाफ अमेरिका में एक बैक्सीन को लाइसेंस दिया गया है|

निष्कर्ष

दोस्तों अगर आर्टिकल Monkeypox Virus Kya Hai, मंकीपॉक्स वायरस के लक्षण, मंकीपॉक्स वायरस के रोकथाम और उपचार, आप सभी को पसंद आए तो प्लीज कमेंट करके जरूर बताइएगा |

इसे भी पढ़े

ब्लैक फंगस महामारी क्या हैं|

फुगाकू सुपर कंप्यूटर क्या हैं|

स्नेकपीडिया मोबाइल एप्प क्या हैं|

समावेशी इंटरनेट सूचकांक 2021 क्या हैं|

डूप्लीकेट वाहन आर सी कैसे निकालें

न्यू ट्रेफिक रूल्स इन इंडिया

डोमिसाइल सर्टिफिकेट क्या होता है

स्पीड पोस्ट ट्रैकिंग कैसे करें

लेबर कोर्ट में शिकायत कैसे करें

केबीसी में रजिस्ट्रेशन कैसे होता है

2 thoughts on “मंकीपाॅक्स वायरस क्या हैं | Monkeypox Virus के लक्षण | रोकथाम और उपचार”

Leave a Comment