पैरा कमांडो कैसे बनते हैं? : चयन प्रक्रिया, ट्रेंनिंग शेड्यूल और सैलेरी

Para Commando Kaise Bane : पैरा कमांडो देश की सुरक्षा और स्पेशल ऑपरेशन में शामिल होते हैं और उन्हें मार गिराने एवं दूर भगाने जैसी कठिन समस्या से निपटारा करना होता है. पैरा कमांडो हमारे देश के लिए जान भी गवा देती है और यह विदेशी नकस्लियो से लड़ाई करके उन्हें पराजित करते हैं. आइए हम इस आर्टिकल द्वारा जानकारी देते हैं कि पैरा कमांडो बनने की प्रक्रिया क्या है. पैरा कमांडो बन करके देश की सेवा कैसे करें.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इस आर्टिकल में आपको पैरा कमांडो से संबंधित पैरा कमांडो सैलेरी, पैरा कमांडो हाइट, पैरा कमांडो की योग्यता, पैरा कमांडो ट्रेनिंग सेंटर, पैरा कमांडो की नौकरी कितने साल की होती है, पैरा कमांडो भर्ती आदि जानकारी विस्तार से बताया जाएगा.

पैरा कमांडो कौन होते हैं?

पैरा कमांडो भारत के पैराशूट special forces unit होती है. पैरा कमांडो को स्पेशल ऑपरेशन डायरेक्ट एक्शन, होस्टेस प्रॉब्लम, anti terrace operation, स्पेशल सैनिक प्रशिक्षण आदि जैसे कठिन कार्यों का अंजाम देती है. Para Commando की तरह नेवी के पास भी एमएआरसीओसी (MARCOC) और एयरफोर्स के पास गरुड़ कमांडो भी होते हैं. यह देश के कई महत्वपूर्ण एवं कठिन ऑपरेशन कर चुके होते हैं। देश के कई फोर्सज में से पैरा कमांडो एक स्पेशल फोर्सज होते हैं.

पैरा कमांडो कैसे बनते हैं?

पैरा कमांडो भारत के फोर्सज में से एक खतरनाक यूनिट फोर्स है. इस यूनिट का गठन 1 जुलाई 1966 को हुआ था। पैरा कमांडो का मुख्य उद्देश्य है भारत की सुरक्षा और अंदर एवं बाहरी जैसे हमलों से बचाव करना विदेशी आतंकवादियों नक्सलियों को मार भगाना जैसे कठिन एवं खतरनाक कार्य होते हैं. पैरा कमांडो ऐसी यूनिट है जो भारत में पैराशूट लेकर चलती है. भारत में पैरा कमांडो की 9 बटालियन है। जो देश की सुरक्षा और बाहरी घातक से बचाव करते हैं.

पैरा कमांडो में चयनित होने के लिए आप भारत के किसी भी बटालियन में आप नौसेवा के रूप में आपको चयनित होना पड़ेगा. जिसके पास सेवा के अधिकारियों द्वारा चयनित किया जाता है. पैरा कमांडो भर्ती का दो आप्शन है पहले है सीधी भर्ती, दूसरी है सेवा अधिकारियों के द्वारा चुने गए पैरा कमांडो बनाए जाते हैं.

Director recruitment के द्वारा सेवा की रैलियां निकाली जाती हैं, जिसमें नौसेना की ट्रेनिंग होती है. पैरा कमांडो में भर्ती होने के लिए उम्मीदवार को शरीर से काफी मजबूत होना चाहिए. नौसेना में भर्ती रहते हुए भी आपको काफी मजबूत और सेंसिटिव होना पड़ेगा. भारतीय नौसेना से letter of recommendation (LOR) लिखवाना पड़ता है, जिसके बाद आप पैरा कमांडो में चयनित हो पाएंगे.

जब आप पैरा कमांडो के लिए चयनित हो जाते हैं तो आपको ट्रेनिंग देनी पड़ती है. जो ट्रेनिंग बहुत ही कठिन एवं खतरनाक होती है, जो हर एक सेवा के लिए बहुत बड़ी बात होती है. पैरा कमांडो की ट्रेनिंग 3 महीने की होती है जो स्पेशल फोर्सज में पैरा कमांडो में चयनित होने के लिए 6 महीने की ट्रेनिंग होती है. आइए हम बताते हैं कि पैरा कमांडो की ट्रेनिंग कैसे और कितने दिन की होती है.

पैरा कमांडो सिलेक्शन प्रोसेस

पैरा कमांडो में चयनित होने के लिए उम्मीदवारों को यह जानकारी होनी चाहिए कि पैरा कमांडो कैसे बनते हैं और उनकी योग्यता क्या होती है. पैरा कमांडो की ट्रेनिंग बहुत ही कठिन एवं खतरनाक होती है, जो हर नौसेना की बस की बात नहीं होती है। इसमें 10% ही चुनिंदा होते हैं.

पैरा कमांडो नौसेना की भर्ती के लिए किया गया है. जो स्वयं की सेवा और देश की सेवा करते हैं. और उनकी यह जिम्मेदारी होती है कि बाहर के नक्सलियों आतंकवादियों देश के अंदर घुसने पर उनको दूर भगाना और युद्ध में पराजित करना.

पैरा कमांडो चयन प्रक्रिया का विवरण

Physical fitness test में 100% सफलतापूर्वक होना होगा और रिटन टेस्ट में 50% अंक की जरूरत होती है. रेजीमेंट में शामिल होने के लिए पैरा कमांडो ट्रेनिंग उम्मीदवार को आगे का प्रोसेस जैसे खतरनाक ट्रेनिंग और आगे का प्रोसेस जारी किया जाता है. अगर पैरा कमांडो में चयनित उम्मीदवार परा रेजीमेंट में असफल हो जाते हैं, तो उन्हें पैरा कमांडो में चयनित होने से आश्वासन दे दिया जाता है.

पैरा कमांडो में चयनित होने के लिए शारीरिक योग्यता

  • 5 किमी की दौड़ – 20 मिनट में
  • चीन अप – 15
  • पुश अप – 1 मिनट में 40 उम्मीदवार
  • बैठो – 2 मिनट में 80 उम्मीदवार
  • मीटर फेरबदल – 1 मिनट में 17 बार

इसके बाद चुने गए प्रतिनिधि को पीआरसी करना होगा. अगर प्रतिनिधि पीआरसी में असफल हो जाते हैं, तो उन्हें आगे के ट्रेनिंग अर्थात उनके कार्य स्थानांतरित कर दिए जाते हैं.

पैरा कमांडो की योग्यता

पैरा कमांडो में पेरा रेजीमेंट शामिल होने के लिए सबसे पहले आपको नौसेना में भर्ती लेनी होगी. उसके बाद आप प्रयुक्त उपलब्धियां को पूरी करने के लिए सेवा के अधिकारियों के द्वारा या डायरेक्ट भर्ती के द्वारा आप पैरा कमांडो में सेलेक्ट हो सकते हैं. पैरा कमांडो में चयनित होने के लिए निम्न योग्यता इस प्रकार है-

राष्ट्रीयता

पैरा कमांडो सैनिक में भर्ती होने के लिए उम्मीदवार को भारत का नागरिक होना चाहिए. विषय नेपाल और भूटान का होना चाहिए 1 जनवरी जो लोगों के बारे में जानकारी होनी चाहिए तथा उनके मूलभूत रहने की कारण पता होना चाहिए कि भारत के इस बॉर्डर पर उनके रहने का अर्थ क्या है.

आयु सीमा

पैरा कमांडो में भर्ती होने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 16.5 वर्ष मान्य की गई है, जबकि उनकी अधिकतम आयु 19.5 वर्ष निर्धारित की गई है.

वैवाहिक स्थिति

पैरा कमांडो में सेलेक्ट होने के लिए उम्मीदवार की वैवाहिक स्थिति में होते हुए भी न्यूनतम आयु 16.5 वर्ष और अधिकतम आयु 19.5 वर्ष की गई है.

पैरा कमांडो हाइट

साहित्य सेवा में भर्ती होने के लिए उम्मीदवार की ऊंचाई 157 सेमी होनी चाहिए। और वायु सेवा में भर्ती होने के लिए उम्मीदवार की ऊंचाई 162.5 होनी चाहिए.

पैरा कमांडो ट्रेनिंग सेंटर

नौसेना में भर्ती होने के लिए लिए हम बताते हैं, भारत के टॉप इंस्टिट्यूट कॉलेज का नाम क्या है-

  • गार्डन कमांडो फोर्स, नई दिल्ली (New Delhi)
  • कमांडो ट्रेनिंग अकादमी, हैदराबाद
  • क्वार्टर बैटर ट्रेनिंग
  • अपरंपरागत कमांडो कंबेट अकादमी।
  • एयरफोर्सज एकेडमी, डुंडीगाल
  • द काउंटर इमरजेंसी एंड जंगल वाॅरफेयर स्कूल, मिजोरम

पैरा कमांडो ट्रेंनिंग शेड्यूल

  • पैरा कमांडो की ट्रेनिंग विश्व की सबसे खतरनाक ट्रेनिंग में से एक माना जाता है. पैरा कमांडो की ट्रेनिंग कर रहे युवाओं में से सिर्फ 10% युवा पैरा कमांडो बन पाते हैं.
  • किसी भी पैरा कमांडो के दिन की शुरुआत सुबह 6:00 बजे से 7:00 तक हो जाती है. इनको सुबह-सुबह उठकर 60 से 70 किलो का वजन लेकर काफी दूर तक चलना होता है. और 20 किलोमीटर तक दौड़ना होता है.
  • जब आप पैरा कमांडो पैराशूट की ट्रेनिंग देने जाते हैं तो आपको आगरा के इंस्टीट्यूट स्कूल में ट्रेनिंग दी जाती है. जहां पर जवानों को ट्रेनिंग के दौरान 35000 फुट से 50 बार जंप करना होता है.
  • लगभग एक या दो महीने की शारीरिक ट्रेनिंग के बाद चार जवानों को हथियार चलाने की भी ट्रेनिंग दी जाती है.
  • ट्रेनिंग के साथ-साथ कठिन परिस्थितियों से लड़ने और शारीरिक रूप से मजबूत बनाए जाते हैं.
  • जवानों को आतंकवादी और नक्सलियों से लड़ने के लिए तायिकांड की भी ट्रेनिंग दी जाती है.
  • बेसिक ट्रेनिंन होने के बाद इन्हें 3.5 साल तक और ट्रेनिंग दी जाती है, जिनमें इनको शारीरिक और हथियार चलाने की पूर्ण रूप से जानकारी प्राप्त होती है.
  • 3 महीने की कठिन परीक्षा से गुजरने के बाद इनका चयन किया जाता है, इस दौरान सैनिक को मानसिक, शारीरिक यातनाओं से गुजरना पड़ता है.
  • पैरा कमांडो के जवान को पानी में युद्ध करने के लिए नौसेना ड्राइविंग स्कूल कोच्चि में ट्रेनिंग दी जाती है.
  • पैरा कमांडो जवान के पास दो पैरासूट होता है. पहले पैराशूट जिसका वजन 15 किलोग्राम तथा दूसरा पैराशूट जिसका वजन 5 किलोग्राम होता है.
  • पैरा कमांडो के जवान को रात के अंधेरे में भी हथियार चलाने की ट्रेनिंग दी जाती है.

पैरा कमांडो को निम्न प्रकार से हथियार दिए जाते हैं ताकि उनको खतरनाक स्थिति में लड़ने की क्षमता मिले और आतंकवादी और नक्सलियों से लड़ने और उन्हें पराजित करने में समस्या बिल्कुल भी ना हो. पैरा कमांडो पास हथियार –

  • Micro Uzi machine gun
  • PKM light machine gun
  • Beretta 2 automatic pistol
  • Siphon 12mm rocket launcher
  • PM med9 assault
  • UK VZ 59L light machine gun

पैरा कमांडो के फेमस ऑपरेशन

पैरा कमांडो के सफल ट्रेनिंग एवं ऑपरेशन की जानकारी तो आप बहुत ही सुने होंगे, चलिए हम विस्तार रूप से इनका ऑपरेशन सिस्टम बताते हैं.

  • पैरा कमांडो ने 1971 में भूमिका निभाई थी, जिसमें पाकिस्तान से हुई लड़ाई में 90 से 95 हजार सैनिकों को मार गिराया और उन्हें पराजित किया था.
  • जुलाई 1999 में कश्मीर पर कारगिलों ने कब्जा कर लिया था, जिसको पैरा कमांडो जैसे फोर्सज ने उसे पराजित करके मार गिराया और उन्हें दूर भगाया था.
  • पैरा कमांडो ने 2015 में म्यांमार में घुसकर आतंकवादियों को मार भगाया था और उन्हें पराजित किया था.
  • मणिपुर में देश के नौजवान अर्थात पैरा कमांडो में 18 जवान शहीद हो गए थे. जिसमें इन्होंने आये आतंकवादियों से लड़ा और उन्हें पराजित किया. जिसमें इन्होंने 38 उग्रवादियों को ढेर किया था और उन्हें पराजित किया. जिससे यह पैरा कमांडो का पहला सबसे बड़ा और खतरनाक आपरेशन में शामिल किया गया है.
  • 2016 में आतंकवादियों ने पैराशूट पर हमला किया था जिसके बाद पैरा कमांडो ने पाकिस्तान में घुसकर कई आतंकियों को ढेर किया था और जिस में एक इतिहास का नाम भी जुड़ गया.

पैरा कमांडो सैलेरी

जैसा कि हमने बताया आपको कि पैरा कमांडो बनना इतना आसान नहीं होता है. इसके लिए कितनी कठिनाइयों एवं मुश्किलों का सामना करना पड़ता है. पैरा कमांडो की ट्रेनिंग बहुत ही खतरनाक होती है. जिसमें उम्मीदवारों में से केवल 10% बनने का ही चांस होता है. जो हम आपको अपने आर्टिकल द्वारा पूरी जानकारी दे चुके हैं. अब बताते हैं कि पैरा कमांडो की सैलरी या वेतन सालाना 10 लाख रुपए दिया जाता है.

FAQ

1. पैरा कमांडो की सैलरी कितनी होती है?

पैरा कमांडो को एक कठिन एवं खतरनाक जैसे मुश्किलों का सामना करना पड़ता है, उनकी सालाना सैलरी 10 लाख होती है.

2. पैरा कमांडो की ट्रेनिंग कितने दिन की होती है?

पैरा कमांडो की चयन प्रक्रिया 3 महीने तक चलती है, जिसमें पैरा कमांडो के उम्मीदवारों को शारीरिक मानसिक रूप से काफी पीड़ित होना पड़ता है. जो सुबह के समय इनको 60 से 65 किलो का वजन लेकर 20 किलोमीटर तक दौड़ना होता है जो काफी कठिन कार्य है.

3. पैरा कमांडो की एक माह की वेतन कितनी होती है?

पैरा कमांडो की ट्रेनिंग अत्यधिक खतरनाक होती है, जिसमें 10% ही आरक्षित चयनित हो पाते हैं. उनकी एक माह की सैलरी ₹25000 दी जाती है, जिसमें गवर्नमेंट की अन्य सुविधाएं भी प्राप्त होती है.

4. पारा स्पेशल फोर्स में कैसे शामिल हो?

पैरा कमांडो में चयनित होने के लिए पहले आपको भारत के किसी नौसेना बटालियन में शामिल होना पड़ेगा. इसके बाद सेवा के अधिकारियों द्वारा पैरा कमांडो के लिए चयनित किया जा सकता है. पैरा कमांडो में चयनित होने के लिए दो विकल्प दिए जाते हैं। पहले है – सीधी भर्ती, दूसरी है- सेवा के उच्च अधिकारियों द्वारा चुने जाते हैं.

5. पैरा कमांडो बनने के लिए कितनी पढ़ाई करनी पड़ती है?

बेसिक ट्रेनिंग पूरा होने के बाद पैरा कमांडो बनने के लिए साढे तीन साल तक ट्रेनिंग करनी होती है. अगर आप ट्रेनिंग में पास होते हैं, तो आपको पैरा कमांडो बना दिया जाता है.

6. मैं 12 के बाद पैरा कमांडो में कैसे शामिल हो सकता हूं?

पैरा कमांडो ऑफिसर बनने का दो तरीका है. सीधी भर्ती, भारतीय सेवा का हिस्सा बनना

7. भारत में पैरा कमांडो की संख्या कितनी है?

भारत में कुल 9 पैरा एसएफ बटालियन मौजूद है.

8. पैरा कमांडो में उम्र कितनी चाहिए?

पैरा कमांडो बनने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 16.5 वर्ष तथा अधिकतम आयु 19.5 वर्ष निर्धारित किया गया है.

9. पैरा कमांडो में कितना वजन होता है?

एक पैरा कमांडो जवान के पास हथियार और पैराशूट मिलाकर लगभग 40 से 50 किलोमीटर का वजन होता है.

इसे भी पढ़ें 👇

कोबरा कमांडो कैसे बनें
स्कूल अथवा कॉलेज प्रिंसिपल कैसे बनें
12वीं के बाद दरोगा कैसे बनें
12वीं के बाद लोको पायलट कैसे बनें
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment