रबी की फसल की कटाई, बुवाई और मौसम की पूरी जानकारी

दोस्तों आप सभी जानते हैं कि हमारा भारत देश एक कृषि प्रधान देश है यहां पर काफी मात्रा में खेती की जाती हैI इसलिए आप सभी को जानना बहुत जरूरी है कि Rabi Ki Fasal Kise Kahte Hai, रवि की फसल कब काटी जाती है, रवि की फसल कब बोई जाती है, चलिए इस आर्टिकल में हम रवि की फसल के बारे में विस्तार से जानते हैंI

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

रबी की फसल की बुवाई का समय अक्टूबर के महीना में होता हैI जबकि मार्च और अप्रैल महीने में फसल की कटाई की जाती हैI इस मौसम में रवि की फसल की सिंचाई के लिए बहुत कम मात्रा में पानी की आवश्यकता होती हैI

जायद की फसल किसे कहते हैं
गौतम अडानी का जीवन परिचय
खरीफ की फसल की पूरी जानकारी 
खरीफ और रबी की फसल में अंतर

रबी की फसल क्या होती हैं?

जो फसल सर्दी के मौसम से लेकर वर्षा ऋतु के बीच में बोई जाती हैI उस फसल को Rabi Ki Fasal Kehte Hai. रबी की फसल की बुवाई अक्टूबर महीने से लेकर नवंबर महीने तक की जाती है तथा इन फसलों की कटाई मार्च महीने से लेकर अप्रैल महीने के बीच की जाती हैI Rabi Ki Fasal को उगाते समय कम तापमान की आवश्यकता होती है तथा इन्हें पकते हुए खुश्क और गर्म वातावरण की आवश्यकता होती हैI रबी की फसल को सर्दी की फसल के नाम से भी जाना जाता हैI

रबी की फसल कब बोई जाती हैं?

Rabi Ki Fasal उगाने के लिए अधिकांश करके कम तापमान की जरूरत होती है, इसलिए इसकी बुवाई अक्टूबर महीने से लेकर नवम्बर महीने के बीच में की जाती हैI

रवि की फसल की कटाई कब होती है?

Rabi Ki Fasal पकते समय खुश्क वातावरण की जरूरत होती है, इसलिए रबी की फसल की कटाई मार्च महीने से लेकर अप्रैल महीने के बीच में होती हैI

रबी की फसल कौन कौन सी होती है?

1.गेहूं

मध्य पूर्व के लेवांत क्षेत्रों से आई हुई गेहूं एक प्रकार की घास है, जिस की खेती अधिकांश करके दुनिया भर में की जाती हैI अगर देखा जाए दुनिया भर में गेहूं धान्य फसलों में मक्का के बाद सबसे ज्यादा उगाई जाने वाली दूसरी फसल हैI जबकि धान की फसल तीसरे स्थान पर आती हैI

गेहूं का प्रयोग नूडल्स, सेवई, रस, पास्ता, दलिया, केक, आटा, रोटी आज बनाने के लिए प्रयोग किया जाता हैI इसके अलावा गेहूं की फसल से निर्मित भूसे को अथवा गेहूं के दाने को पशुओं को भी खिलाया जाता हैI इस प्रकार रबी की फसल में गेहूं इंसानों के लिए एक खाद्य पदार्थ हैI

2.जई

उत्तरी पूर्वी मैदानी क्षेत्रों में हरे चारे के साथ जई की बुवाई की जाती हैI जिसे पशुओं को खिलाया जाता हैI दोमट या भारी दोमट मिट्टी जहां जल निकासी का उचित प्रबंध होता है वहां पर जई की खेती काफी अच्छी होती हैI जिस प्रकार से गेहूं और जौ की बुवाई के लिए खेत तैयार किया जाता है, ठीक उसी प्रकार से जई की बुवाई के लिए खेत तैयार की जाती हैI जई शरद ऋतु की फसल मानी जाती है, इसलिए ठंडी और शुष्क जलवायु में इसका पैदावार काफी अच्छा होता हैI

जई की फसल की बुवाई करने के लिए खेत में पर्याप्त मात्रा में नमी होनी चाहिए, और इसकी बुआई अक्टूबर महीने में की जाती हैI और इस फसल की कटाई मार्च महीने में की जाती हैI जई की कई किस्में हैं, जैसे : यूपीओ-94, बुंदेल जई-581, हरियाणा जई-114 आदिI

जई की फसल काटने की बाद इस के दाने और भूसे को अलग करते हैंI भूसा पशुओं को खिलाने के काम आता है, वहीं पर दाने को पीसकर आटा बनाया जाता हैI जिसकी रोटी खाई जाती है| जई के आटे के बिस्किट भी बनाया जाता हैI उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब जैसे राज्यों में जई की पैदावार अधिक होती हैI

3.जौ

जौ की खेती बिहार, हिमाचल प्रदेश, गुजरात, जम्मू कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश आदि राज्यों में प्रमुख रूप से की जाती हैI जौ का प्रयोग पशु आहार, चारा, शराब, बेकरी, फाइबर पेपर, फाइबर बोर्ड आदि इसी प्रकार के अन्य कार्यों में किया जाते हैंI 25 से 30 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान अथवा समशीतोष्ण जलवायु के मौसम में जौ की बुवाई की जाती हैI बलुई, बलुई दोमट, बलुई छारीय अथवा लवणीय भूमि में जौ की पैदावार काफी ज्यादा होती हैI

जौ की कई किस्में होती हैं, जैसे : एनडीबी-1173, के-603, नरेंद्र जौ 1 2 3, हरीतिमा, प्रीति, मंजुला, ज्योति, लखन, जागृति आदिI अगर आप सही समय पर जौ की बुवाई कर रहे हैं, तो प्रति हेक्टेयर भूमि पर कम से कम 100 किलोग्राम जौ की बुवाई करनी चाहिएI अगर आपको बुवाई करने में देर हो गई है तो जौ बीज की मात्रा में 25% की बढ़ोतरी कर देनी चाहिएI जौ की बुवाई का सही समय नवंबर के पहले सप्ताह से आखरी सप्ताह तक होता हैI लेकिन ज्यादा से ज्यादा दिसंबर मध्य तक आप जौ की बुवाई कर सकते हैंI

4.अलसी

हमारे भारत देश में लगभग 2.96 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल में अलसी की खेती की जाती हैI अलसी एक प्रकार का औद्योगिक तिलहन फसल है जिसका सभी भाग प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से बहुत ही उपयोगी होता हैI अलसी के बीज से निकलने वाला तेल खाने के साथ-साथ दवाइयां बनाने में प्रयोग किया जाता हैI मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड क्षेत्रों में अलसी के तेल से साबुन बनाना, दीपक जलाना, तेल खाना आदि कार्यों में यूज किया जाता हैI

अलसी के पौधे का काष्टीय भाग तथा छोटे-छोटे भागों को कागज बनाने के लिए प्रयोग किया जाता हैI अगर क्षेत्रफल की दृष्टि से देखा जाए तो भारत का विश्व में दूसरा स्थान हैI जहां पर विश्व के कुल क्षेत्रफल का 15% क्षेत्रफल पर अलसी की खेती की जाती हैI तथा अलसी उत्पादन की दृष्टि से भारत का तीसरा स्थान हैI भारत के राज्य मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, बिहार, उड़ीसा, राजस्थान, महाराष्ट्र में अलसी की प्रमुख रूप से खेती की जाती हैI

5.तोरिया

खरीफ रबी के बीच में बोई जाने वाली तोरिया एक प्रकार की तिलहनी फसल हैI तोरिया की उन्नत प्रजाति जैसे : टी-9, भवानी, पीटी-303, तपेश्वरीI जो 3 महीने के आसपास पक जाती हैं, सितंबर के दूसरे पखवाड़े में आप तोरिया की भवानी प्रजाति की बुवाई कर सकते हैंI

6.मक्का

मक्का एक प्रमुख खाद्य फसल है, जिसे किसी भी प्रकार की मिट्टी में उगा सकते हैंI लेकिन अगर देखा जाए तो बलुई दोमट मिट्टी में मक्के की पैदावार काफी अच्छी होती हैI मक्का वैसे तो खरीफ ऋतु की फसल माना जाता है, लेकिन जहां पर सिंचाई की अच्छी व्यवस्था है वहां पर रबी की फसल के रूप में भी मक्का बो सकते हैंI

मक्के की फसल को जानवर के चारे के रूप में प्रयोग किया जाता है, जबकि मनुष्य मक्के की रोटी, मक्के को भुन कर खाना, मक्के को उबालकर खाना, पॉपकॉर्न, कॉर्नफ्लेक्स आदि खाने के लिए प्रयोग करते हैंI जहां पर पानी का निकास काफी अच्छा होता है, वहीं पर उष्ण एंव आर्द जलवायु के मौसम में मक्के की खेती की जाती हैI

7.कुसुम

भारत में कुसुम की खेती मुख्य रूप से तेल के लिए की जाती हैI क्योंकि कुसुम के बीजों में 24 से 36% तक तेल की मात्रा पाई जाती हैI कुसुम एक तिलहनी फसल होता है, और कुसुम के द्वारा निकाला गया तेल मनुष्यों के खाने के काम आता हैI कुसुम का तेल हृदय रोगियों के लिए एक गुणकारी औषधि होती हैI

इसके अलावा कुसुम के तेल से ढाई साबुन और पेंट आदि उत्पाद भी बनाए जाते हैंI कुसुम की पिराई करने के बाद इसके खली में लगभग 42% तक प्रोटीन पाई जाती है, जिसे पशुओं के आहार के रूप में प्रयोग किया जाता हैI भारत के लगभग 7.5 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल पर कुसुम की खेती की जाती हैI जिससे लगभग 400000 टन कुसुम का उत्पादन हो जाता हैI

8.आलू

आलू जिसकी मांग बाजार में 12 महीने होती है, इसलिए इसे सब्जियों का राजा भी कहा जाता हैI आलू एक अर्द्धसहनशील सब्जी वाली फसल होने के नाते इसकी खेती रबी मौसम या शरद ऋतु के मौसम में की जाती हैI कुपोषण एवं भुखमरी से बचाने के लिए आलू एक उत्तम पौष्टिक आहार होता हैI

आलू की किस्में जैसे : कुफरी अशोक, कुफरी पुखराज, कुफरी सूर्या, जैसे उन्नत किस्म की आलू बुवाई करने पर या बहुत जल्दी तैयार हो जाती हैI आलू की फसल बोने के बाद लगभग 70 से 90 दिन के बीच आलू की फसल तैयार हो जाती हैI

9.राई और सरसों

राई के दानो का रंग काला होता है, जबकि सरसों के दानों का रंग पीला होता हैI सितंबर के अंतिम सप्ताह से लेकर अक्टूबर के प्रथम पखवारा तक राई बोने का अच्छा समय होता हैI राई के बुआई के 15 दिनों बाद खेत मे उगे हुए खरपतवार निकाल कर राई के पौधों की आपसी दूरी 15 सेमी कर देनी चाहिएI

इसके अलावा राई और सरसों के पौधों पर अनेक प्रकार के कीट जैसे : सरसों की आरा मक्खी, चित्रित कीट की पहचान, गोभी की तितली, पत्ती में सुरंग बनाने वाले कीट, माहू आदिI इन कीड़ों से बचाने के लिए राई और सरसों के पौधों पर समय-समय पर दवा का छिड़काव करते रहेंI

10.पीली सरसों

पीली सरसों की कई प्रजातियां हैं जैसे : पितांबरी, नरेंद्र सरसों-2, के-88 आदि| प्रति हेक्टेयर भूमि पर कम से कम 4 किलोग्राम पीली सरसों का बीज बोना चाहिएI अगर आप गेहू की अच्छी फसल लेना चाहते हैं, तो आपको सितंबर के पहले पखवाड़े में पीला सरसों की बुवाई कर देनी चाहिएI

इसके अलावा पीली सरसों की बुवाई करने के बाद 12 से 15 दिन के बाद खेत में उगे भी खरपतवारों को निकाल देंI और पीली सरसों की आपसे दूरी 10 से 15 सेंटीमीटर कर देंI पीली सरसों में भी कई प्रकार के कीट लग जाते हैंI जैसे : आरा मक्खी, चित्रित बग, बालदार सूड़ी, माहू, पत्ती सुरंगक कीट आदि| फसल को कीट से बचाने के लिए समय समय पर उचित दवा का छिड़काव करना चाहिएI

11.शिशु मक्का

शिशु मक्का एक स्वादिष्ट आहार है, इसके अलावा पत्तियों में लिपटी होने के कारण शिशु मक्का पर कीटनाशक दवाओं का कोई प्रभाव नहीं पड़ता हैI शिशु मक्का में कैल्शियम, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, लोहा व विटामिन पाया जाता है, इसके अलावा शिशु मक्का में फास्फोरस की मात्रा सबसे अधिक होती हैI शिशु मक्का का प्रयोग खीर, हलवा, लड्डू, बर्फी, टिक्की, कोफ्ता, सब्जी, सूप, सलाद, पकोड़ा आदि बनाने के लिए किया जाता हैI

शिशु मक्का की खेती भारत के आंध्र प्रदेश, मेघालय, कर्नाटक, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, हरियाणा आदि राज्यों में तथा चीन और थाईलैंड जैसे देशों में भी की जाती हैI शिशु मक्के की खेती के लिए दोमट मिट्टी सर्वोपरि मानी जाती है, भारत में दिसंबर और जनवरी महीने को छोड़कर बाकी महीनों में शिशु मक्के की बुवाई की जा सकती हैI जबकि दक्षिण भारत में शिशु मक्के की खेती पूरे साल की जा सकती हैI

12.चना

चना एक दलहनी फसल है जिसे दालों का राजा कहा जाता हैI चने की हरी पत्ती साग बनाने के लिए, जबकि सूखा दाना से सब्जी और दाल बनाने के लिए उपयोग में लाया जाता हैI इसके अलावा चने के छिलके को पशुओं को खिलाया जाता हैI फसल की बुवाई के बाद जब चने में फूल आ जाते हैं, तो वर्षा इसके लिए हानिकारक हो जाती हैI

चने की खेती के लिए 24 से 30 डिग्री सेल्सियस का तापमान सबसे अच्छा माना जाता हैI चने की प्रमुख किस्में : एल 550, सी 104, जीएनजी 1669 (त्रिवेणी), जीएनजी 1499, जीएनजी 1992 आदिI चने की बुवाई 10 अक्टूबर से 5 नवंबर के बीच कर देनी चाहिएI

13.मटर

भारत में मटर उगाने वाले क्षेत्रों में उत्तर प्रदेश सबसे प्रमुख स्थान पर हैI उत्तर प्रदेश में लगभग 4.34 लाख हैक्टेयर भूमि पर मटर की फसल उगाई जाती हैI मटर की फसल की खेती के लिए गंगा के मैदानी भागों की गहरी दोमट मिट्टी सबसे अधिक उपयोगी मानी जाती हैI मटर की फसल की बुवाई मध्य अक्टूबर महीने से नवंबर महीने तक की जाती हैI लेकिन मटर की फसल का उपर्युक्त बुवाई का समय अक्टूबर के आखिरी सप्ताह से नवंबर का प्रथम सप्ताह तक होता हैI

मटर की प्रमुख प्रजातियां पाई जाती हैं जैसे : रचना, मालवीय मटर 2, अर्पणा, के पी एम आर 400, के पी एम आर 522, पूसा प्रभात, पूसा पन्ना आदिI मटर की खेती में कई प्रकार के रोग भी लगते हैं जैसे : रतुआ, आर्द्रजड़ गलन, चांदनी रोग, तुलासिता/रोमिल फफूंद, तना मक्खी, माहूं, मटर का अधफंदा, कटीला फली भेदक, आदिI 

14.मसूर

भारत के कई राज्य जैसे बिहार, मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश में मुख्य रूप से मसूर की खेती की जाती हैI चना मटर की अपेक्षा मसूर की खेती कम तापमान तथा सूखा एवं नमी के प्रति अधिक सहनशील फसल होता हैI मसूर के 100 ग्राम दाने में औसतन 4.8 मिलीग्राम नियासिन, 0.51 मिलीग्राम थाईमिन, 0.21 मिलीग्राम राइबोफ्लेविन, 7 मिलीग्राम लोहा, 68 मिलीग्राम कैल्शियम, 3.2 ग्राम रेशा, 60.8 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 1.3 ग्राम वसा, 25 ग्राम प्रोटीन पाया जाता हैI 

मसूर की कई उन्नत प्रजातियां हैं जैसे : एल0-4076 शिवालिक, पन्त मसूर-406, जे0एल0एल0-1 आदिI मसूर की सही बुवाई का समय 20 अक्टूबर से लेकर 15 नवंबर तक होता हैI मसूर की फसल में भी कई प्रकार के रोग लगते है जैसे : कटुआ, माहू, रतुआ आदिI

रबी राजमा

बरसीम

मशरुम

रवि की फसल में होने वाली खरपतवारों के नाम

  • बथुआ
  • सेंजी
  • दूधी
  • कासनी
  • जंगली पालक
  • अकरी
  • जंगली मटर
  • कृष्णनील
  • सत्यानाषी
  • हिरनखुरी
  • मोथा
  • कांस
  • जंगली जई
  • चिरैया बाजरा
  • अन्य प्रकार की घासें

Rabi Ki Fasal Kise Kahte Hai. (FAQ)

1. रवि फसल क्या है, उदाहरण सहित?

रवि की फसल अक्टूबर से नवंबर में बोई जाती है, जबकि इसे बसंत ऋतु में काटा जाता हैI रवि की फसल के अंतर्गत पीली सरसों, शिशु मक्का, चना, मटर, मसूर, आलू मशरूम, आदि फसलें आती हैI 

2. रवि फसल की अवधि क्या होती है?

रवि की फसल अक्टूबर से नवंबर के महीने में बोई जाती है, जबकि शुष्क और गर्म वातावरण की ये फसलें, अप्रैल के महीनों में रवि की फसल को काटी जाती हैंI

3. गेहूं की फसल कौन सी है?

गेहूं की फसल रबी की फसल मानी जाती हैI

4. चना कौन सा फसल है?

चना का फसल रवि की फसल के अंतर्गत माना जाता हैI चने की दाल में पोषक तत्व अधिक पाए जाते हैं, इसीलिए चने के संग्राम दाने में औसतन 11 ग्राम पानी, 4.5 ग्राम वसा, 61.57 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 21.1 ग्राम प्रोटीन पाया जाता हैI

5. चना रबी है या खरीफ की फसल?

चना की फसल रबी की फसल मानी जाती हैI

6. रबी की फसल का दूसरा नाम क्या है?

रबी की फसल का दूसरा नाम – सर्दी की फसल

7. रबी की फसलें कौन सी होती है?

अक्टूबर नवंबर के महीनों में होने वाली फसलों की बुवाई रबी की फसलें कहलाती हैंI रवि की फसलों की बुवाई में कम तापमान की आवश्यकता तथा फसल पकते समय खुश्क और गर्म वातावरण की आवश्यकता होती हैI रबी की फसलें जैसे : सरसों, मटर, अलसी, मसूर, चना, जौ, आलू, गेहूं आदिI

निष्कर्ष

दोस्तों इस आर्टिकल में हमने रबी की फसल के बारे में विस्तार से जानने का प्रयास किया है जैसे-Rabi Ki Fasal Kise Kehte Hai, Rabi Crops Examples List, रबी फसल का उपयोग, Rabi Crops Meaning in Hindi I इसलिए अगर यह आर्टिकल आप सभी को पसंद आए तो प्लीज कमेंट करके जरूर बताइएगाI

Jaa Lifestyle Login कैसे करें
नाम से बिजली बिल कैसे चेक करें
धनवान बनने के 10 उपाय बागेश्वर धाम
ITI का Full Form क्या है
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment