जमानत क्या है? जमानत के प्रकार, जमानत कैसे ली जाती है? जमानत या बेल

दोस्तों हर व्यक्ति के जीवन में कई बार ऐसी अनहोनी घटनाएं घट जाती है, यानी उस व्यक्ति से अनजाने में कोई अपराध हो जाता हैI या फिर आपसी रंजिश के कारण कभी-कभी व्यक्ति को झूठे केस में फंसा दिया जाता हैI ऐसी स्थिति में पुलिस भी उस व्यक्ति को गिरफ्तार कर लेती हैI तो ऐसे व्यक्तियों को कानून में जमानत लेने का अधिकार प्रदान किया गया है, इस अधिकार का प्रयोग करके व्यक्ति अपनी जमानत ले सकता है| लेकिन गंभीर अपराध में गिरफ्तार हुए व्यक्तियों को जमानत लेने की कोई व्यवस्था हैंI

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम जमानत यानी बेल के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से आप सभी को बताने वाले हैंI जैसे : जमानत क्या है, किसी व्यक्ति की जमानत कैसे ली जाती है, व्यक्ति की जमानत लेने पर रिस्क क्या होता है, जमानत न मिलने की स्थिति में क्या करना चाहिए, आदिI

कोर्ट मैरिज कैसे करें, कोर्ट मैरिज फीस, आवेदन प्रक्रिया
बागेश्वर धाम जाने का रास्ता (बस और ट्रेन की पूरी जानकारी)
बागेश्वर धाम में घर बैठे अर्जी कैसे लगाएं 
केबीसी मे रजिस्टेशन कैसे होता है

जमानत या बेल क्या है?

जब किसी व्यक्ति को किसी अपराध के जुर्म में पुलिस द्वारा जेल में बंद कर दिया जाता हैI तो उस व्यक्ति को जेल से छुड़वाने के लिए न्यायालय में जो संपत्ति जमा की जाती है उसे ही Jamanat या बेल कहते हैंI व्यक्ति को छुड़ाने की स्थिति में न्यायालय में जमा की गई संपत्ति से न्यायालय इस बात से निश्चिंत हो जाता हैI कि आरोपी व्यक्ति न्यायालय में सुनवाई के समय जरूर आएगा, और अगर आरोपी व्यक्ति सुनवाई के समय नहीं आता है, तो उसके द्वारा जमा की गई संपत्ति जब्त कर ली जाएगीI

मामूली अपराध के लिए जमानत आसानी से मिल जाती हैI लेकिन जिस व्यक्ति पर गंभीर अपराध के मामले दर्ज हैं, ऐसे व्यक्ति को किसी भी स्थिति में जमानत नहीं दी जाती हैI भारतीय संविधान के अनुसार अगर व्यक्ति पर मामूली अपराध के केस दर्ज हैं, तो वह जमानत पर बाहर आ सकता हैI लेकिन अगर व्यक्ति पर किसी गंभीर अपराध का आरोप लगा है, तो उसे जमानत पर बाहर नहीं जाने दिया जाता हैI

इसके अलावा जमानत पर रिहा होने वाले व्यक्ति पर भारतीय कानून के तहत कई प्रकार के प्रतिबंध लगाए जाते हैंI जैसे : जब भी जरूरत हो पुलिस या न्यायालय के समक्ष उसे उपस्थित होना पड़ेगा, जमानत पर रिहा होने वाला व्यक्ति विदेश नहीं जा सकता हैI जमानत पर रिहा होने वाला व्यक्ति बिना बताए कोई यात्रा नहीं कर सकता हैI

भारतीय संविधान में अपराध के प्रकार

भारतीय संविधान के अनुसार अपराध को दो भागों में बांटा गया हैI १. जमानती अपराध २. गैर जमानती अपराध

जमानती अपराध

जब किसी व्यक्ति द्वारा कोई छोटा मोटा अपराध किया जाता है, तो उसे जमानती अपराध की श्रेणी के अंतर्गत रखा जाता हैI जमानती अपराध श्रेणी के अंतर्गत निम्नलिखित अपराध आते हैं जैसे : दो गुटों के बीच मारपीट करना, किसी व्यक्ति को मारने की धमकी देना, लापरवाही से गाड़ी चलाना, लापरवाही की वजह से किसी की मौत हो जाना आदिI

ऐसे और भी छोटे-मोटे अपराध हैं, जिन्हें जमानती अपराध की श्रेणी में रखा गया हैI जमानती अपराध के अंतर्गत आने वाले आरोपी व्यक्ति की 3 साल की सजा या उससे कम की सजा हो सकती हैI सीआरपीसी की धारा 169 के अंतर्गत जमानती अपराध के मामले में थाने से ही जमानत या बेल दिए जाने का प्रावधान हैI

गैर जमानती अपराध

जब किसी व्यक्ति द्वारा कोई गंभीर अपराध किया जाता है, तो इस गंभीर अपराध को गैर जमानती अपराध के अंतर्गत रखा जाता हैI यानी गंभीर अपराध करने वाले व्यक्ति को जमानत नहीं मिलती हैI गैर जमानती अपराध की श्रेणी में निम्नलिखित गंभीर अपराध आते हैं, जैसे : रेप करना, किसी व्यक्ति का अपहरण करना, किसी व्यक्ति की हत्या करना, ज्यादा लूटपाट को अंजाम देना, फिरौती लेने के लिए अपहरण करना, गैर इरादतन हत्या आदि शामिल हैI

गंभीर अपराध के मामले में व्यक्ति को फांसी या उम्र कैद की संभावना होती हैI गंभीर अपराध के मामले में व्यक्ति को जमानत या बेल नहीं मिलती है, लेकिन भारतीय संविधान सीआरपीसी की धारा 437 के अंतर्गत किसी अपवाद जैसे : महिला, शारीरिक बीमारी, मानसिक बीमारी का सहारा लेकर ऐसे गंभीर अपराधों में भी जमानत की अर्जी लगाई जा सकती हैI लेकिन आरोपी व्यक्ति को जमानत देना कोर्ट पर निर्भर करता हैI हालांकि किसी अपवाद का सहारा लेकर लगाई गई अर्जी पर कभी-कभी अपराधी को जमानत मिल जाती हैI

जमानत कितने प्रकार का होता है?

भारतीय दंड प्रक्रिया संहिता के अनुसार जमानत के प्रकार : जमानत दो प्रकार का होता हैI १.अग्रिम जमानत २.रेगुलर बेल या अंतरिम जमानत

अग्रिम जमानत

गिरफ्तार होने से पहले ही ली जाने वाली जमानत को अग्रिम जमानत कहते हैंI जब किसी व्यक्ति को यह पहले से पता होता है, कि उसे किसी मामले में गिरफ्तार किया जाने वाला हैI तो वह व्यक्ति गिरफ्तारी से बचने के लिए अग्रिम जमानत लेने के लिए कोर्ट में अर्जी लगा सकता है, और अग्रिम जमानत ले सकता हैI CPC की धारा 438 के अंतर्गत यदि व्यक्ति गिरफ्तार होने से पहले अग्रिम जमानत ले लेता है, तो उसे गिरफ्तार नहीं किया जा सकता हैंI

अग्रिम बेल मिलने का उदाहरण

एक दिन राकेश को पता चलता है कि कोई व्यक्ति उसे झूठे गंभीर केस में फंसाने की साजिश कर रहा हैI यह सुनकर राकेश घबरा जाता है और समझदारी दिखाते हुए एक वकील के पास जाता हैI वकील उसे बताता है यदि तुम इस गंभीर आरोप से बचना चाहते हो, तो अग्रिम जमानत ले सकते होI

यह सुनकर राकेश अपने वकील को कोर्ट से अग्रिम जमानत लेने के लिए बोल देता हैI दूसरी तरफ जब व्यक्ति राकेश पर झूठा केस कर देता है, तो पुलिस उसे पकड़ने आती हैI राकेश का वकील पुलिस को अग्रिम बेल का कागज दिखाकर राकेश को गिरफ्तार होने से बचा लेती हैI इसे ही अग्रिम जमानत कहते हैं यानी गिरफ्तारी होने से पहले ली जाने वाली जमानत अग्रिम जमानत कहलाती हैI

रेगुलर बेल या अंतरिम जमानत

जब किसी आरोपी व्यक्ति के खिलाफ ट्रायल कोर्ट में मामला पेंडिग चल रहा होता है, तो ऐसी स्थिति में CPC की धारा 439 के तहत आरोपी व्यक्ति रेगुलर बेल के लिए अर्जी लगा सकता हैI अर्जी लगाने के बाद ट्रायल कोर्ट या हाई कोर्ट द्वारा केस की स्थिति और गंभीरता की जांच की जाती है, तत्पश्चात आरोपी व्यक्ति को रेगुलर बेल अथवा अंतरिम जमानत दी जाती हैI रेगुलर बेल पर आने वाले आरोपी व्यक्ति को Court द्वारा जारी किए गए दिशा निर्देशों का पालन करना होता हैI

कोर्ट में जमानत कैसे होती है?

अगर आप कोर्ट से जमानत लेने की सोच रहे हैं, तो आपको किसी अच्छे वकील के माध्यम से कोर्ट से जमानत लेने की अर्जी लगानी चाहिएI क्योंकि वकील सभी तथ्यों को बारीकी से देखते हुए जमानत की अर्जी लिखकर जमा कर देता हैI जिसके आधार पर कोर्ट आरोपी व्यक्ति को आसानी से जमानत दे देता हैI

  • जमानत का आवेदन करने के लिए आपको सबसे पहले किसी अच्छे अनुभवी वकील का सहारा लेना चाहिएI
  • इसके अलावा अगर आप चाहें तो खुद पर आश्रित परिवार के लोगों का सहारा लेकर और अपने इनकम टैक्स रिटर्न के आधार पर भी बेल का आवेदन कर सकते हैंI
  • जमानत की अर्जी लगाने के बाद अगर किसी व्यक्ति द्वारा जमानत का विरोध नहीं किया जाता, तो आपको बेल आसानी से मिल जाती हैंI
  • लेकिन अगर आप किसी गैर जमानती अपराध के लिए जमानत की अर्जी लगाती हैं, तो ऐसी स्थिति में जमानत मिलना या ना मिलना कोर्ट पर निर्भर करता हैI
  • इसके अलावा कई बार बार-बार अदालत में जमानत की अर्जी लगाने के कारण भी जमानत नहीं मिलती हैI

नोट : इसके अलावा जमानत ना मिलने के और कई कारण हैI जब कोर्ट को लगता है कि यदि आरोपी व्यक्ति को जमानत दे दी जाएगी तो वह गवाहों को परेशान करेगा, सबूत मिटाने का प्रयास करेगा या कहीं भाग जाएगाI तो ऐसी स्थिति में अदालत द्वारा जमानत की अर्जी को खारिज कर दिया जाता हैI

जमानत का विरोध कैसे करें?

कई बार ऐसा होता है कि गंभीर अपराधी किसी ना किसी प्रकार से जमानत प्राप्त करने में कामयाब हो जाते हैंI और ऐसे गंभीर अपराधी जमानत से छूटने के बाद एक बार फिर से गंभीर अपराध करने की कोशिश करते हैंI तो ऐसी स्थिति में इन गंभीर अपराधियों की जमानत रद्द करवाया जा सकता हैI

जमानत का विरोध करते समय इन बातों का ध्यान रखें?

  • अगर अपराधी बाहर आकर गवाहों या सुबूत को मिटाने की कोशिश कर रहा है यानी अपनी जमानत का दुरुपयोग कर रहा है, तो आप जमानत का विरोध कोर्ट के सामने कर सकते हैंI
  • अगर कोर्ट द्वारा अपराधी को जमानत दे दी गई है, तो भी आप अपराधी की जमानत खारिज करने के लिए कोर्ट में एप्लीकेशन लगा सकते हैंI
  • जमानत का विरोध करने से पहले आपको यह अवश्य देख लेना चाहिए, कि कहीं सरकारी वकील और पुलिस अपराधी की तरफदारी तो नहीं कर रहे हैंI अपराधी को जमानत दिलवाने की भरसक कोशिश कर रहे हैं, तो ऐसी स्थिति में शिकायत करके इन वकील और पुलिस को बदलवाने की कोशिश करेंI

जमानत मिलने का नियम और शर्तें

जब भी अपराधी व्यक्ति कोर्ट से बेल प्राप्त करने के लिए अर्जी दाखिल करता है, तो कोर्ट द्वारा कुछ नियम और शर्तों के साथ अपराधी व्यक्ति को जमानत दी जाती हैI जमानत मिलने की नियम और शर्तें इस प्रकार है👇

  • जमानत मिलने के बाद अपराधी व्यक्ति शिकायत करने वाले पक्ष को परेशान नहीं करेगाI
  • जमानत मिलने के बाद अपराधी व्यक्ति किसी भी प्रकार का सबूत और गवाह को मिटाने की कोशिश नहीं करेगाI
  • जमानत पर बाहर होने वाला अपराधी व्यक्ति विदेश यात्रा नहीं करेगाI
  • जमानत मिलने के बाद अपराधी व्यक्ति अपने क्षेत्र को छोड़कर कहीं दूर शहर नहीं जा सकता हैI
  • इसके अलावा कई बार कोर्ट द्वारा अपराधी व्यक्ति को रोजाना पुलिस स्टेशन में जाकर हाजिरी लगाने का आदेश दिया जाता हैI अगर अपराधी व्यक्ति इस नियम शर्त को नहीं मानता, तो कोर्ट द्वारा उसकी जमानत को रद्द कर दिया जाता हैI

जमानत या बेल ना मिलने की वजह

कई बार जब अपराधी कोर्ट में जमानत लेने की अर्जी लगाता है तो उसे जमानत नहीं मिलती हैI जमानत न मिलने के कई कारण हो सकते हैंI जैसे : आरोपी द्वारा जमानत से छूटने के बाद गवाह और सबूत को प्रभावित करना, यदि अदालत को यह सब बातें पता चलता है, तो वह अपराधी की जमानत को खारिज कर देता हैI इसके अलावा गैर जमानत अपराध के मामले में कोर्ट जल्दी अपराधी को जमानत नहीं देती हैI इसके अलावा आदतन अपराधी व्यक्ति को भी कोर्ट द्वारा जमानत नहीं दी जाती हैI

Jamanat Kaise Le Jati Hai. (FAQ)

1. जमानत का क्या अर्थ है?

कोई व्यक्ति अदालत द्वारा इस आशय के साथ रिहा किया जाता है, कि जब भी अदालत किसी कारण बस उसे बुलाएगी तो वह अदालत में उपस्थित हो जाएगाI जिसे जमानत पर रिहा होना कहते हैंI

2. जमानत के बाद क्या होता है?

जमानत होने के बाद अपराधी व्यक्ति कुछ नियम शर्तों के साथ रिहा कर दिया जाता हैI जैसे : कोर्ट द्वारा बुलाए जाने पर समय से हाजिर होगा, बिना आज्ञा लिए यात्रा नहीं कर सकता है, विदेश नहीं जा सकता है आदिI

3. जमानत के कितने प्रकार होते हैं?

भारतीय संविधान के अनुसार जमानत दो प्रकार के होते हैंI १. अग्रिम जमानत २.रेगुलर बेल

4. जमानत कौन दे सकता है?

जिस व्यक्ति की हैसियत बंधपत्र की राशि चुकाने की होती है, वह व्यक्ति जमानत दे सकता हैI जमानत देने के लिए संपत्ति का कोई प्रमाण होना चाहिए, जैसे : वाहन का रजिस्ट्रेशन, मकान के दस्तावेज आदिI

5. पुलिस कितनी बार जमानत बढ़ा सकती है?

जमानत का फैसला एक हिरासत अधिकारी द्वारा तय किया जाता है, एक इंस्पेक्टर द्वारा 3 से 6 महीने तक तथा एक अधीक्षक द्वारा 6 से 9 महीने तक जमानत बढ़ाया जा सकता हैI

6. गिरफ्तार व्यक्ति को जमानत कौन देता है?

गिरफ्तार होने वाला व्यक्ति अगर जमानती अपराध की श्रेणी में आता है, तो उसे अन्वेषण अधिकारी द्वारा जमानत दे दी जाती हैI लेकिन अगर गिरफ्तार होने वाला व्यक्ति गैर जमानत अपराध की श्रेणी में आता है, तो उसे न्यायाधीश/न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा जमानत दिया जा सकता हैI

7. जमानत लेने वाले को क्या कहते हैं?

Central for Social Justice

8. किसी को गाली देने पर कौन सी धारा लगती है?

गाली गलौज करने एवं एक दूसरे को अश्लील गालियां देने पर भारतीय दंड संहिता की धारा 254 लगती हैI

9. जमानत के कितने पैसे लगते हैं?

एसटी और एससी वर्ग के उम्मीदवार को जमानत के लिए ₹12500 लगती है, जबकि सामान्य वर्ग के उम्मीदवार को ₹25000 की जमानत राशि जमा करानी होती हैI

10. एक आदमी कितनी बार जमानत दे सकता है?

एक व्यक्ति किसी व्यक्ति की जमानत एक मामले में एक बार दे सकता हैI

11. मैं अदालत में जमानत का विरोध कैसे करूं?

अदालत में जमानत का विरोध करने के लिए आप एक अच्छे वकील के साथ सीआरपीसी की धारा 302 के तहत एक हलफनामे के आधार पर चार्टशीट दायर कर सकते हैंI

12. गैर जमानती धाराएं कौन-कौन सी हैं?

गैर जमानत अपराध के अंतर्गत आने वाले अपराधी व्यक्ति को जमानत बड़ी मुश्किल से मिलती हैI इसके अलावा गैर जमानत अपराध के अंतर्गत निम्न धाराएं लगाई जाती है- धारा 121, धारा 124 A, धारा 131, धारा 172, धारा 232, धारा 238, धारा 246, धारा 255 आदिI

13. जमानत के लिए डॉक्यूमेंट क्या चाहिए?

जमानत के लिए न्यायाधीश/मजिस्ट्रेट के आधार पर राशन कार्ड, आधार कार्ड, वोटर आईडी, पासबुक, वाहन आरसी, संपत्ति दस्तावेज आदि डॉक्यूमेंट चाहिए होते हैंI

14. 1 मर्डर करने पर कौन सी धारा लगती है?

एक मर्डर करने पर आईपीसी की धारा 302 लगाई जाती हैI

15. 5 मर्डर करने पर कितने साल की सजा होती है?

किसी की हत्या करने पर आईपीसी की धारा 302 लगाई जाती है, और आईपीसी की धारा 302 के अंतर्गत आरोपी व्यक्ति पर आजीवन कारावास और जुर्माना दोनों लगाया जा सकता हैI

16. जमानत का विरोध कौन कर सकता है?

जमानत का विरोध शिकायतकर्ता कर सकता हैI

17. जब किसी व्यक्ति को पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया जाता है तो कितने समय में न्यायालय में पेश करना होता है?

गिरफ्तार किए गए व्यक्ति को 24 घंटे के भीतर न्यायालय में पेश करना पड़ता हैI

18. 420 में कितने दिन में जमानत होती है?

यदि व्यक्ति पर आईपीसी की धारा 420 लगाई गई है तो वह सत्र न्यायालय में अग्रिम जमानत के लिए आवेदन कर सकता हैI न्यायालय द्वारा स्वीकृति प्रदान करने के बाद ही व्यक्ति को जमानत प्रदान की जाती हैI

19. भारत में जमानत मिलने में कितना समय लगता है?

भारत में जमानत मिलने में 7 दिन से लेकर 15 दिन का समय लग सकता हैI

20. 376 की जमानत कितने दिन में होती हैं?

जब कोई व्यक्ति किसी के साथ बलात्कार करता है, तो उस धारा 376 लगाया जाता हैI वह बलात्कारी व्यक्ति गैर जमानत अपराध की श्रेणी में आता है, और गैर जमानत अपराध की श्रेणी में आने वाले व्यक्ति को जमानत नहीं दी जाती हैI या 376 के दोषी व्यक्ति को जमानत देना कोर्ट निर्भर करता हैI

21. जमानत कराने में क्या-क्या लगता है?

जिस व्यक्ति की हैसियत बंधपत्र की राशि चुकाने की हो, या जिस व्यक्ति से आसानी से बंधपत्र की राशि वसूली जा सके वही व्यक्ति जमानत करवा सकता हैI इसके अलावा बंधपत्र की राशि वसूली करने के लिए व्यक्ति के बाद खुद की संपत्ति होनी चाहिएI

22. हाफ मर्डर में कौन सी धारा लगती है?

कानूनी किताब में हाफ मर्डर का कोई उल्लेख नहीं किया गया है, लेकिन किसी व्यक्ति को मारने का प्रयास करना हाफ मर्डर माना जाता हैI हाफ मर्डर करने वाले व्यक्ति को आईपीसी की धारा 307 के अंतर्गत सजा दी जाती हैI 

23. घर में घुसकर मारपीट करने पर कौन सी धारा लगाई जाती है?

घर में घुसकर मारपीट करने पर धारा 323 के अंतर्गत 6 महीने की सजा और ₹500 का जुर्माना लगाया जाता हैI इसके अलावा धारा 506 के तहत 3 साल की सजा भी हो सकती हैI

24. हाथ पैर काटने पर कौन सी धारा लगती है?

हाथ पैर काटने पर धारा 323 तथा धारा 307 के अंतर्गत कार्रवाई होती हैI

25. पुलिस को गाली देने पर कौन सी धारा लगती है?

पुलिस को गाली देने पर धारा 154 के अंतर्गत एफ आई आर दर्ज होती है और उस पर कार्रवाई की जाती हैI

26. जमानत का मतलब क्या होता है?

जब किसी व्यक्ति को किसी अपराध या गैर अपराध के मामले में पुलिस द्वारा कारागार में बंद कर दिया जाता हैI तो उस व्यक्ति को जेल से छुड़ाने के लिए न्यायालय में जो संपत्ति जमा की जाती है, उसे जमानत कहते हैंI

27. जमानत कितने दिन में हो जाती हैं?

जमानत आमतौर पर 1 या 2 दिन में हो जाती हैI

28. जमानत में कौन-कौन से कागज लगते हैं?

जमानत लेने के लिए राशन कार्ड, आधार कार्ड, मतदाता आईडी, पासपोर्ट इसके अलावा वाहन या संपत्ति के दस्तावेजों की आवश्यकता होती हैI 

29. हाई कोर्ट से जमानत कितने दिन में होती है?

आरोपी द्वारा हाईकोर्ट में जमानत की अर्जी लगाने के बाद दो हफ्ते के भीतर हाई कोर्ट से जमानत दे दी जाती हैI

30. 302 की जमानत कितने दिन में होती है?

302 की जमानत की समय सीमा को निर्धारित नहीं किया गया हैI

31. गैंगस्टर एक्ट में जमानत कैसे मिलती है?

गैंगस्टर एक्ट में जमानत 3 महीने के भीतर हो जाता हैI

निष्कर्ष

दोस्तों इस आर्टिकल में हमने बताया है कि जमानत क्या है, Jamanat Kaise Le Jati Hai. जमानत कितने दिन में होती हैं, जमानत के बाद क्या होता हैं, जमानत के लिए क्या चाहिए, जमानत के प्रकार, जमानत कितने पर होती हैं, जमानत के बाद सजा, जमानत के लिए डाक्यूमेंट, 376 की जमानत कितने दिन में होती हैं, हाई कोर्ट से जमानत कैसे मिलती हैं, थाने से जमानत कैसे लें आदिI इसके अलावा अगर आपको जमानत लेने से संबंधित कोई सवाल है, तो आप कमेंट करके पूछ सकते हैंI

भारत में कितने राज्य और केंद्र शासित प्रदेश हैं
घर बैठे बिजली चोरी की शिकायत कैसे करें
स्वयं सहायता समूह क्या हैं, पूरी जानकारी पायें
CCC कोर्स क्या है | CCC कोर्स की पूरी जानकारी
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment