MMID क्या होता हैं? क्यों जरूरी होता हैं?

MMID Kya Hai : MMID Ka Full Form 👉Mobile Money Identifier होता हैंI आज के इस आर्टिकल में मैं आपको एमएमआईडी के बारे में बताने वाला हूं. जिसका प्रयोग करके आप घर बैठे पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं अथवा पैसे प्राप्त कर सकते हैं.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

हमें MMID की जरूरत कहां कहां पड़ती है और कब कब पड़ती है और क्यों पड़ती है. इन सब की जानकारी पाने के लिए ध्यान पूर्वक इस आर्टिकल को पूरा पढ़िएगा.

जैसा कि आप जानते हैं भारत में विभिन्न प्रकार की बैंकिंग सुविधाएं मनी ट्रांसफर करने के लिए उपलब्ध है. आप MMID के माध्यम से बड़ी आसानी से एक खाते से दूसरे खाते में बिना बैंक अकाउंट के पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं. इस आर्टिकल को पढ़कर भारत का रहने वाला कोई भी व्यक्ति एमएमआईडी की सुविधा का लाभ उठा सकता है.

एमएमआईडी क्या होता हैं?

मोबाइल मनी आईडेंटिफायर (MMID) एक 7 अंकों का यूनिक नंबर होता हैं. इन 7 अंकों में से शुरू के 4 अंक बैंक के यूनिक आइडेंटीफिकेशन नंबर होते हैं. जबकि लास्ट के 3 अंक आपके मोबाइल नंबर के होते हैंI और यही कोड अधिकांश करके सभी बैंक के अकाउंट का होता है. इस प्रकार से अगर देखा जाए IMPS की विशिष्ट पहचान संख्या Mobile Money Identifier होता हैंI जिसकी मदद से आप घर बैठे पैसों का लेनदेन कर सकते हैं.

इस प्रकार से सभी बैंकों के द्वारा अपना अलग-अलग मोबाइल मनी आईडेंटिफायर (MMID) कोड जारी किया गया है. आपका जिस बैंक मैं खाता है उस बैंक का एमएमआईडी का लाभ उठा सकते हैं. अगर आपका एक से अधिक बैंक में खाता है तो भी आप एक ही मोबाइल नंबर सभी बैंक में यूज कर सकते हैं.

MMID की जरूरत क्यों पड़ती है?

आपको याद होगा कि पहले हमें किसी बैंक में पैसों की लेनदेन करने के लिए NEFT (National Electronic Fund Transfer), RTGS (Real Time Gross Settlement) तथा बैंक एकाउंट नंबर और IFSC (Indian Financial System Code) की जरूरत पड़ती थी. लेकिन NEFT और RTGS से पैसे ट्रांसफर करने में कई प्रकार की समस्याएं आती थी. बैंक के खुलने से लेकर बैंक के बंद होने के समय तक ही NEFT और RTGS काम करता था.

यानि कि आरटीजीएस और एनईएफटी 24 घंटे की सेवाएं प्रदान नहीं करता था. इन्हीं समस्याओं को दूर करने के लिए IMPS जैसी सेवाओं की शुरुआत हुई. आइएमपीएस के अंतर्गत एक व्यक्ति के पास केवल एक मोबाइल नंबर रहता है. जो मोबाइल नंबर मेरे पास है वह मोबाइल नंबर किसी और के पास नहीं हो सकता है. और हमारा मोबाइल नंबर हमारे बैंक खाता से लिंक होता था.

इस प्रकार से पैसों की लेनदेन में काफी आसानी हो गई. बिना किसी का बैंक अकाउंट पूछे ही हम केवल उसके मोबाइल नंबर से ही उसके बैंक खाता में पैसा भेज सकते थे. लेकिन यहां भी एक समस्या उत्पन्न हो गई, एक मोबाइल नंबर दो बैंक अकाउंट से लिंक होने पर पैसों के लेनदेन में समस्या आने लगी. सिस्टम समझ ही नहीं पाता था कि पैसा किस अकाउंट में भेजना है.

इन्हीं समस्याओं को दूर करने के लिए MMID यानि कि मोबाइल मनी आईडेंटिफायर की शुरुआत हुई. एमएमआईडी सात नंबर का यूनिक कोड होता हैं. जिसमें शुरू के 4 अंक बैंक के Unique Identification Number होते हैं और बाद के 3 अंक मोबाइल नंबर के होते हैं. जिसके माध्यम से बड़ी आसानी से किस बैंक खाता में पैसा भेजना है आप भेज सकते हैं.

MMID कैसे प्राप्त कर सकते हैं?

दोस्तों जैसा कि हमने आपको बताया कि एमएमआईडी कोड से आप पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं. हर बैंक का अपना एक एमएमआईडी कोड होता है, लेकिन बैंक हमें खुद से एमएमआईडी कोड नहीं देता. इसके लिए हमें खुद बैंक में जाकर MMID कोड मांगना पड़ता हैI वैसे mmid को मोबाइल बैंकिंग किट के साथ भी दिया जाता है, लेकिन आपके मोबाइल फोन में नेट बैंकिंग चालू होनी चाहिए.

MMID जनरेट कैसे करें?

जैसा कि मैंने आपको बताया हर बैंक का अपना अलग-अलग एमएमआईडी (MMID) कोड होता है. लेकिन बैंक अपनी स्वेच्छा अनुसार MMID नहीं देता है, इसके लिए हमें खुद जाकर अपने बैंक शाखा से संपर्क करना पड़ता है. आज हम आपको एमएमआईडी कोड जनरेट करने के 4 तरीके बताने वाले है. जो इस प्रकार है-

कस्टमर केयर की मदद से Mmid‌ कैसे प्राप्त करें

अगर आपको टेक्निकल जानकारी नहीं है, तो आप घर बैठे बड़ी आसानी से कस्टमर केयर के पास फोन करके एमएम आईडी कोड पा सकते हैं. अपने बैंक के कस्टमर केयर नंबर आप बड़ी आसानी से गूगल पर सर्च करके पा सकते हैं. कस्टमर केयर की मदद से एमएमआईडी जनरेट करने के लिए नीचे दिए गए निम्नलिखित स्टेप को फॉलो करें-

  • सबसे पहले आपको गूगल पर जाकर अपने बैंक का कस्टमर केयर नंबर सर्च करना है, और उस पर कॉल करना है.
  • कॉल करने के बाद बताए गए दिशा निर्देशों का पालन करते हुए मोबाइल बैंकिंग के ऑप्शन को सेलेक्ट कर लेना है.
  • इसके बाद कुछ और विकल्प चुनने के बाद आपका फोन ग्राहक सेवा अधिकारी के पास ट्रांसफर हो जाती है.
  • आपके अकाउंट सत्यापन के लिए ग्राहक सेवा अधिकारी से कुछ सवाल पूछे जाते हैं, आपको उसका सही सही जवाब दे देना है.
  • इसके बाद जब आपका सारा डिटेल्स वेरीफाई हो जाता है, तो आपके बैंक अकाउंट से लिंक मोबाइल नंबर पर SMS के जरिए एमएमआईडी कोड भेज दिया जाता है.

बैंक ब्रांच पर जाकर MMID कैसे प्राप्त करें?

  • बैंक से एमएमआईडी कोड प्राप्त करने के लिए आपको सबसे पहले अपने बैंक ब्रांच में जाना होगा.
  • बैंक ब्रांच से एमएमआईडी जनरेट एप्लीकेशन फॉर्म ले लेना है, उसमें पूछी गई सभी जानकारी को सही-सही भर कर उसके साथ जरूरी दस्तावेज को संलग्न करके बैंक में जमा कर देना है.
  • जमा करने के कुछ दिनों बाद बैंक की तरफ से एक लिफाफा आपके घर पर आएगा, जिसमें आपका MMID कोड दिया गया होगा.

एटीएम जाकर MMID कोड जनरेट कैसे करें?

  • एटीएम से एमएमआईडी कोड जनरेट करने के लिए सबसे पहले आपको अपने बैंक से संबंधित एटीएम पर जाना होगा.
  • एटीएम मशीन में एटीएम कार्ड डालने के बाद 4 अंकों का पिन इंटर करना है, इसके बाद आपके सामने SMS/Secure/Code/IMPS का ऑप्शन दिखाई देगा, जिस पर आप को क्लिक कर देना है.
  • इसके बाद आपको अपना मोबाइल नंबर इंटर करना है, Confirm पर क्लिक करते ही आपके मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आ जाता है, जिसे वेरीफाई कर लेना है.
  • ओटीपी वेरीफाई करने के बाद आपके बैंक खाते का एमएमआईडी कोड SMS के जरिए आपके रजिस्टर्ड मोबाइल पर भेज दिया जाता है.

मोबाइल बैंकिंग से एम.एम.आई.डी. कैसे पता करें?

  • मोबाइल बैंकिंग से एमएमआईडी कोड प्राप्त करने के लिए आपके मोबाइल फोन में अपने बैंक की मोबाइल बैंकिंग एप होनी चाहिए.
  • मोबाइल बैंकिंग ऐप लागिन करने के बाद आपके सामने Generate MMID को ऑप्शन दिखाई देगा, जिस पर आपको क्लिक कर देना है. अगर एमएमआईडी जनरेट का ऑप्शन नहीं दिखाई दे रहा है, तो आप Search बॉक्स में mmid लिखकर सर्च कर सकते हैं.
  • इसके बाद एक Generate MMID पर क्लिक करके आपको एमएमआईडी कोड जनरेट कर लेना है. अगर आप अपने बैंक का मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन यूज करते हैं, तो आपको एम.एम.आई.डी. के लिए बैंक जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

नेट बैंकिंग से एमएमआईडी कैसे प्राप्त करें?

अगर आपके बैंक अकाउंट में नेट बैंकिंग की सेवा Enable है, तो आप बड़ी आसानी से नेट बैंकिंग की मदद से नीचे दिए गए स्टेप को फॉलो करके एमएमआईडी कोड जनरेट कर सकते हैं.

  • सबसे पहले आपको अपने बैंक की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर नेट बैंकिंग के ऑप्शन पर क्लिक करना है. 
  • नेट बैंकिंग ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद लॉगइन आईडी और पासवर्ड से लॉगिन हो जाना है.
  • इसके बाद आपके सामने MMID Generate का विकल्प दिखाई देगा, जिस पर क्लिक करना है. इसके बाद अपना मोबाइल नंबर दर्ज करना है, और इंटर बटन पर क्लिक कर देना है.
  • क्लिक करते ही आपके रजिस्टर मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी भेजा जाता है, जिसे सत्यापन करना है. वेरीफाई करने के बाद आप बड़ी आसानी से MMID कोड बना सकते हैं.

MMID से पैसा ट्रांसफर कैसे करें? 

  • एमएमआईडी कोड से पैसे ट्रांसफर करने के लिए सबसे पहले आपको अपने मोबाइल में मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन को लॉगइन करना होगा.
  • इसके बाद मनी ट्रांसफर के विकल्प पर क्लिक करके IMPS ऑप्शन को चुन लेना है, इसके बाद Beneficiary का मोबाइल नंबर और एमएमआईडी कोड भरकर Continue ऑप्शन पर क्लिक कर देना है.
  • इसके बाद धनराशि भर दे, जितना अमाउंट आप अगले व्यक्ति के बैंक अकाउंट में भेजना चाहते हैं.
  • इसके बाद Transaction को वेरीफाई करने के लिए आपके बैंक अकाउंट से लिंक मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी भेजा जाता है, ओटीपी को वेरीफाई कर ले इसके बाद अपना Mpin दर्ज करें.
  • बस आपका ट्रांजैक्शन Successful हो जाता है, जिसके कुछ समय बाद आपके बैंक अकाउंट से पैसा कट कर दूसरे व्यक्ति के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर हो जाता है.

एमएमआईडी (MMID) की विशेषताएं

जैसा कि आप जानते हैं एमएमआईडी के माध्यम से बिना बैंक अकाउंट के एक बैंक खाते से दूसरे बैंक खाते में पैसा ट्रांसफर किया जा सकता है. इसके अलावा भी mmid की कई विशेषताएं हैं, जो इस प्रकार है-

  • एमएमआईडी की मदद से एक खाते से दूसरे खाते में बिना बैंक अकाउंट डीटेल्स का पैसा ट्रांसफर किया जा सकता है.
  • MMID की मदद से पैसा ट्रांसफर करना पूरी तरीके से सुरक्षित होता है.
  • एमएमआईडी एक प्रकार का यूनिक कोड होता है, जिसमें शुरुआती का 4 अंक बैंक का कोड जबकि अंतिम का 3 अंक व्यक्ति का मोबाइल नंबर होता है.
  • एमएमआईडी की मदद से आप IMPS सुविधा का लाभ उठा सकते हैं.

FAQs

1. MMID के लिए पंजीकृत मोबाइल नंबर को कैसे बदलें?

अगर आपको एमएमआईडी के लिए पहले से पंजीकृत मोबाइल नंबर बदलना हो तो इसके लिए आपको, पहले इस नंबर को निष्क्रिय करना होगा. तभी आप दूसरा नंबर MMID के साथ जोड़ सकते हैं.

2. एम आईडी का मतलब क्या होता हैं?

पैसों के लेनदेन के समय बैंक खाता नंबर और मोबाइल नंबर की सही पुष्टि करने के लिए हमें एमएमआईडी की जरूरत पड़ती है.

3. एम एम आई डी कैसे प्राप्त कर सकते हैं?

एमएमआईडी प्राप्त करने के 4 तरीके हैं- १. मोबाइल बैंकिंग एप्लीकेशन के द्वारा, २. एटीएम मशीन के द्वारा, ३. इंटरनेट बैंकिंग के द्वारा, ४. बैंक शाखा के द्वारा

4. MMID का पूरा नाम क्या है?

MMID Full Form in Hindi : Mobile Money Identifier (मोबाइल मनी आईडेंटिफायर)

5. IMPS का पूरा नाम क्या है?

IMPS Full Form in Hindi : Interbank Mobile Payment Service (इंटरबैंक मोबाइल पेमेंट सर्विस)

6. NEFT का पूरा नाम क्या है?

NEFT Full Form in Hindi : National Electronic Fund Transfer) नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर

7. RTGS का पूरा नाम क्या है?

RTGS Full Form in Hindi : Real Time Gross Settlement (रियल टाइम ग्रोस स्टेलमेंट)

8. IFSC का पूरा नाम क्या है?

IFSC Full Form in Hindi : Indian Financial System Code (इंडियन फाइनेंसियल सिस्टम कोड)

9. मैं अपना लाभार्थी एमएमआईडी नंबर कैसे ढूंढ सकता हूं?

अगर आपका मोबाइल नंबर बैंकिंग सेवा के लिए पंजीकृत नहीं है, तो आपको इस प्रकार से टाइप करके MMID <Bank Code><Bank Account Number> 9223440000 पर sms भेज देना है.

10. MMID कितने डिजिट का होता है?

MMID यानि मोबाइल मनी आईडेंटिफायर 7 डिजिट का होता है.

11. MMID कैसे प्राप्त किया जा सकता है?

अपने बैंक ब्रांच में जाकर बैंक मैनेजर से मिलकर MMID कोड प्राप्त कर सकते हैं. इसके अलावा इस आर्टिकल में हमने कस्टमर केयर की मदद से, एटीएम मशीन द्वारा, बैंक ब्रांच में जाकर एमएमआईडी कोड प्राप्त कर सकते हैं. इसके अलावा मोबाइल बैंकिंग की मदद से भी एमएमआईडी कोड जनरेट किया जा सकता है. MMID कोड जनरेट करने के सभी तरीके इस आर्टिकल में बताया गया है.

इसे भी पढ़ें 👇

कुटीर उद्योग क्या होता है, कुटीर उद्योग के प्रकार
घर बैठे बिजली मीटर में यूनिट कैसे चेक करें
जमानत क्या है? जमानत के प्रकार, जमानत कैसे ली जाती है
Aeps क्या होता हैं, कैसे काम करता है 
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment